loader

लोकतंत्र के बड़े पैरोकार नेहरू की तसवीर शाहीन बाग़ में क्यों नहीं?

दिल्ली के शाहीन बाग़ में नागरिकता संशोधन क़ानून, एनपीआर और एनआरसी के ख़िलाफ़ धरना शुरू हुए 44 दिन हो गये हैं। इस बीच वहाँ विरोध जताने के कई तौर-तरीक़े और रंग देखने को मिले हैं। यह धरना देश में देश के संविधान, लोकतांत्रिक व्यवस्था और धर्मनिरपेक्ष मूल्यों को बचाने के नाम पर किया जा रहा है। लेकिन हैरान करने वाली बात यह है कि आधुनिक भारत के निर्माता और देश में लोकतंत्र की नींव रखने वाले और धर्मनिरपेक्ष मूल्यों के सबसे बड़े पैरोकार भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की तसवीर इस धरना स्थल से ग़ायब है।

धरना स्थल पर राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी, संविधान के रचयिता डॉ. भीमराव आम्बेडकर, मौलाना अबुल कलाम आज़ाद, शहीद सरदार भगत सिंह, अशफ़ाक़ उल्ला ख़ान और राजगुरु जैसे आज़ादी के मतवालों की तसवीरें तो लगी हुई हैं लेकिन पंडित नेहरू कहीं नज़र नहीं आते।

सम्बंधित ख़बरें

इस बारे में 'सत्य हिंदी' ने शाहीन बाग़ के धरने को संचालित करने वाली टीम के सदस्य आबिद शेख़ से सीधा सवाल किया कि धरना स्थल पर पंडित नेहरू का फ़ोटो क्यों नहीं है। आबिद शेख़ ने बताया कि धरना स्थल में पंडित नेहरू की तसवीर लगी हुई है। लेकिन उसके ऊपर वॉलिंटियर्स ने शायद कोई दूसरी तसवीर या पोस्टर लगा दिया है। उन्होंने कहा कि आज वह पंडित नेहरू की तसवीर पर लगा दूसरा पोस्टर या बैनर हटवा देंगे।

पंडित नेहरू की तसवीर पर ग़लती से किसी ने दूसरी तसवीर या पोस्टर लगा दिया है या जानबूझकर ऐसा किया गया? यह तो साफ़ नहीं है लेकिन इससे यह ज़रूर साबित हो गया है कि धरना स्थल पर पंडित नेहरू की तसवीर प्रमुखता से नहीं लगाई गई। अगर ऐसा होता तो उसके ऊपर दूसरी तसवीर या पोस्टर नहीं लगता। शाहीन बाग़ की तर्ज़ पर दिल्ली में ही कई जगह प्रदर्शन चल रहे हैं। इसके अलावा देश भर में 100 से ज़्यादा जगहों पर ऐसे ही प्रदर्शन चल रहे हैं। उनकी तसवीरें भी मीडिया और सोशल मीडिया में आ रही हैं। इनमें भी पंडित नेहरू नज़र नहीं आ रहे हैं।

इन धरना स्थलों पर होने वाले भाषणों में भी अक्सर पंडित नेहरू का ज़िक्र न के बराबर ही होता है। ज़्यादा ज़ोर राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी और संविधान के रचयिता डॉ. भीमराव आम्बेडकर पर होता है।

तो क्या यह मान लिया जाए कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी के कुछ और बड़े नेताओं ने पिछले 5 साल में पंडित नेहरू के ख़िलाफ़ जो ‘दुष्प्रचार’ किया है उसकी वजह से अब लोग पंडित नेहरू को आंदोलन का प्रतीक बनाने से परहेज करने लगे हैं? एक वजह यह भी हो सकती है कि नागरिकता संशोधन बिल संसद में पास कराते वक़्त गृह मंत्री ने ताल ठोक कर कहा था कि 1955 में पंडित नेहरू यह क़ानून बनाना चाहते थे, उस समय वह किन्हीं कारणों से नहीं कर पाए थे। अब मोदी सरकार पंडित नेहरू का ही सपना पूरा कर रही है।

नागरिकता संशोधन विधेयक संसद में पास कराते वक़्त गृह मंत्री अमित शाह ने बार-बार पंडित नेहरू और लियाकत अली ख़ान के बीच हुए समझौते का ज़िक्र किया था। इस समझौते के तहत दोनों देशों में रह गए धार्मिक अल्पसंख्यकों को बराबरी के अधिकार दे उनकी जान-माल की सुरक्षा की गारंटी देनी थी।

ताज़ा ख़बरें

नेहरू की विरासत

नेहरू को आधुनिक भारत का निर्माता भी कहा जाता है। पंडित नेहरू एक विश्व नेता थे। उनके बाद देश में जितने भी प्रधानमंत्री बने, सभी का सपना पंडित नेहरू की ऊँचाई को छूने का रहा। मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तो हर मामले में पंडित नेहरू की ही नक़ल करते नज़र आते हैं। कई मामलों में तो वह ख़ुद को पंडित नेहरू से भी आगे ले जाकर खड़ा करते हैं और उनसे ऊँचा दिखने की कोशिश करते हैं। विदेश मंत्री को दरकिनार कर ख़ुद दुनिया भर के देशों में घूमना और उन देशों के प्रधानमंत्रियों या राष्ट्रपतियों से निजी ताल्लुकात स्थापित करना पीएम नरेंद्र मोदी की ख़ुद को पंडित नेहरु से आगे दिखाने की ही कोशिश है।

देश से और ख़बरें

शाहीन बाग़ के धरने को संचालित करने वाली टीम के एक अन्य सदस्य का ध्यान जब इस तरफ़ दिलाया गया तो पहले तो वह हैरान हुए कि पंडित नेहरू की कोई बड़ी तसवीर वहाँ क्यों नहीं लगी है। लेकिन फिर अपना नज़रिया बताते हुए कहने लगे कि शायद इसलिए नहीं लगाई गई है कि लोग इसे कांग्रेस प्रायोजित न मान लें।

अगर शाहीन बाग़ में कथित तौर पर ‘ग़लती से छूट गई’ पंडित नेहरू की तसवीर को फिर से सामने लाया जाता है तो ठीक है। लेकिन अगर ऐसा नहीं होता तो इससे यह संदेश जाएगा कि देश के संविधान, लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्ष मूल्यों की इस लड़ाई में इन मूल्यों के सबसे बड़े पैरोकार को ही दरकिनार किया जा रहा है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
यूसुफ़ अंसारी
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें