loader
हैदराबाद में 5 अक्टूबर को नई पार्टी बीआरएस लॉन्च करते हुए

केसीआर की नई पार्टी बीआरएस लॉन्च, दिल्ली में जल्द रैली

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव (केसीआर) ने अपनी राष्ट्रीय पार्टी का नाम भारतीय राष्ट्र समिति (Bharat Rashtra Samithi  या बीआरएस) रखा है। उन्होंने गुरुवार 5 अक्टूबर 2022 को इसकी घोषणा हैदराबाद में की। यहां आयोजित कार्यक्रम में उनकी पार्टी तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने प्रस्ताव पारित कर नाम बदलने की घोषणा की। बीआरएस अब अन्य राज्यों में अपनी यूनिट गठित करेगी और जरूरत पड़ने पर चुनाव भी लड़ेगी। केसीआर का अगला कदम दिल्ली में रैली का है। अभी यह साफ नहीं है कि यह रैली बीआरएस की होगी या फिर विपक्षी दलों की।

केसीआर ने यह कदम ऐसे समय उठाया है जब वो देश में बीजेपी को केंद्र की सत्ता से बाहर करने के लिए एक राष्ट्रीय मोर्चा बनाना चाहते हैं। हाल ही में उन्होंने कई राज्यों का दौरा भी किया था। यही वजह है कि आज गुरुवार को जब उन्होंने यह कार्यक्रम रखा था कर्नाटक की जेडीएस पार्टी के चीफ और पूर्व सीएम कुमारस्वामी और डीएमके के तमाम नेता इस कार्यक्रम में हैदराबाद पहुंचे। 

ताजा ख़बरें
केसीआर ने वादे के मुताबिक दशहरे पर ठीक 1:19 पर इसका एलान किया। केसीआर लगातार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते रहे हैं। वह कह चुके हैं कि मोदी सरकार को जाना चाहिए और एक गैर बीजेपी सरकार को केंद्र की सत्ता में आना चाहिए। 

राष्ट्रीय पार्टी की घोषणा के बाद अब केसीआर सरकार तेलंगाना में चलाई जा रही योजनाओं को देश भर के लोगों के सामने रखेगी। इन योजनाओं में रायथु बंधु और दलित बंधु योजना भी शामिल है। रायथु बंधु का शाब्दिक अर्थ है 'किसान का मित्र'। इस योजना के दो उद्देश्य हैं। पहला, किसानों को शुरुआती निवेश की जरूरतों के लिए समय पर नकद धनराशि देना, दूसरा, यह सुनिश्चित करना कि किसान कर्ज के जाल में न फंसें। तेलंगाना में लाखों किसानों को इस योजना से लाभ मिला है।
केसीआर नई पार्टी के जरिए देश के सामने इस सवाल को भी रखने वाले हैं कि आजादी के 75 साल बाद भी देश के गांवों को बिजली क्यों नहीं उपलब्ध कराई जा सकी है और गरीबों के लिए चलाई जा रही कल्याणकारी योजनाओं को फ्रीबीज क्यों कहा जा रहा है। फ्रीबीज को लेकर आम आदमी पार्टी और बीजेपी के बीच अच्छा-खासा सियासी घमासान हो चुका है और सुप्रीम कोर्ट में भी इस मामले में लंबी चौड़ी बहस हो चुकी है। 
तेलंगाना में अगले साल मई में विधानसभा चुनाव होंगे। पीएम मोदी से लेकर और कई बीजेपी नेता तेलंगाना के लगातार दौरे कर रहे हैं। केसीआर के सामने इस बार मजबूत बीजेपी और कांग्रेस है। उन पर और उनके परिवार पर तमाम तरह के आरोप भी हैं।  बीजेपी राज्य में तेजी से अपना विस्तार करने में जुटी है। केसीआर को तेलंगाना में बीजेपी से चुनौती मिल रही है और ऐसे में वह भी बीजेपी को तेलंगाना से बाहर घेरने की कोशिश में हैं।
सितंबर की शुरुआत में ही टीआरएस की ओर से यह कहा गया था कि बहुत जल्द एक राष्ट्रीय राजनीतिक दल और इसकी नीतियों के बारे में एलान किया जाएगा। पिछले महीने केसीआर ने ऐलान किया था कि 2024 के लोकसभा चुनाव में केंद्र की सत्ता में गैर बीजेपी सरकार आती है तो देशभर के किसानों को मुफ्त बिजली दी जाएगी। 
देश से और खबरें
केसीआर के बारे में यह लंबे वक्त से कहा जा रहा है कि वह मुख्यमंत्री की कुर्सी अपने बेटे के. तारक रामाराव को सौंपकर राष्ट्रीय राजनीति में आना चाहते हैं। उनकी कोशिश 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले एक अलग सियासी मोर्चा बनाने की है और इसके लिए वह तमाम विपक्षी दलों को एक मंच पर लाकर फेडरल फ्रंट बनाना चाहते हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें