loader

लॉकडाउन बढ़ा : दुकान-दफ़्तर खुलेंगे, रात का कर्फ़्यू रहेगा 

केंद्र सरकार ने पूरे देश में 31 मई तक के लिए लॉकडाउन बढा दिया है। इसके साथ ही नए दिशा निर्देश भी जारी कर दिए गए हैं। 
राज्य सरकारों को यह छूट दी गई है कि वे ख़ुद कलर कोडिंग तय करें, यानी कौन क्षेत्र किस ज़ोन में होगा-रेड, ऑरेंज या ग्रीन में, इसका फ़ैसला राज्य करें। केंद्र ने बसें और दूसरे वाहन चलाने की छूट दे दी है। लेकिन हवाई यात्रा, मेट्रो ट्रेन, जिम, सिनेमा हॉल नहीं खुलेंगे। 

दिशा निर्देश की मुख्य बातें :

  • शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे तक का कर्फ़्यू बरक़रार रहेगा। इस दौरान लोगों की आवाजाही पर रोक लगी रहेगी।
  • दस साल से कम उम्र के बच्चों और 60 साल से ज़्यादा के बुजुर्गों को बाहर निकलने की छूट नहीं होगी।
  • राज्यों को छूट होगी कि रेड, ऑरेंज व ग्रीन ज़ोन वे स्वयं तय करें। इससे यह तय होगा कि किस क्षेत्र में किस तरह की गतिविधियों की छूट होगी। यह राज्यों की मुख्य माँग थी, जिसे मान लिया गया है। 
  • रेड, ऑरेंज व ग्रीन ज़ोन तय करने का हक़  ज़िला प्रशासन को होगा। ज़िलाधिकारी स्वास्थ्य विभाग के दिशा निर्देशों पर विचार कर यह फ़ैसला करेंगे।
  • बस और परिवहन के दूसरे साधन चलाने की छूट राज्य के अंदर होगी और एक राज्य से दूसरे राज्य के बीच भी। पर इसके लिए राज्य सरकारों से अनुमति लेनी होगी।
  • कंटेनमेंट ज़ोन में किसी तरह की आर्थिक गतिविधि की अनुमति नहीं होगी। ये वे इलाक़े होंगे जहाँ कोरोना संक्रमण पाए जाएंगे।
  • जिन जगहों में बड़ी संख्या में लोग पहुँच सकते हैं, उन्हें खोलने की अनुमति नहीं होगी। शॉपिंग मॉल, मल्टीप्लेक्स, जिम्नेज़ियम, स्विमिंग पूल, सिनेमा हॉल, बार व ऑडिटोरियम, इंटरटेनमेंट पार्क नहीं खुल सकते हैं। 
  • स्थानीय प्रशासन को यह सुनिश्चित करना होगा कि बाज़ार व दुकानें अलग-अलग समय पर खुलें ताकि सोशल डिस्टैंसिंग रखा जा सके।
  • खेल-कूद के परिसर, स्टेडियम खुल सकेंगें, पर दर्शकों को जाने की अनुमति नहीं होगी। 
  • केंद्र सरकार ने सामाजिक, राजनीतिक, खेल-कूद, मनोरंजन, अकादमिक, सांस्कृतिक, कार्यक्रमों और उससे जुड़े जमावड़े पर रोक बरक़रार रखी है।
  • ऐसा कोई कार्यक्रम नहीं किया जा सकता है, जिसमें बड़ी तादाद में लोग पहुँच सकते हैं। 
  • हर तरह का धर्मस्थल आम जनता के लिए बंद रहेगा, किसी तरह का धार्मिक जमावड़ा या समारोह नहीं किया जा सकता है। इसे सख़्ती से लागू करने का आदेश दिया गया है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें