loader

1 से 30 जून तक रहेगा लॉकडाउन 5.0, 8 जून से खुलेंगे मॉल, रेस्तरां व धार्मिक स्थल

केंद्र सरकार ने एक बार फिर लॉकडाउन बढ़ा दिया है। लॉकडाउन 5.0 1 जून से 30 जून तक रहेगा।  केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस बारे में गाइडलाइंस जारी कर दी हैं। गाइडलाइंस के मुताबिक़, कंटेनमेंट ज़ोन में लॉकडाउन पूरी सख़्ती के साथ लागू रहेगा। लॉकडाउन खोलने के पहले चरण को अनलॉक-1 का नाम दिया गया है। लॉकडाउन 4.0 की मियाद 31 मई को ख़त्म हो रही है।  
नई गाइडलाइंस के मुताबिक़, कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर सभी तरह की गतिविधियों को चरणबद्ध ढंग से शुरू किया जाएगा। पहले चरण में 8 जून से कंटेनमेंट ज़ोन को छोड़कर बाक़ी जगहों पर मॉल्स, होटल और रेस्तंरा खोले जा सकेंगे। धार्मिक स्थल भी 8 जून से खुलेंगे। गाइडलाइंस में कहा गया है कि अनलॉक-1 में आर्थिक गतिविधियों पर फ़ोकस रहेगा। 
 Lockdown extended till June 30 issues new guidelines - Satya Hindi

गृह मंत्रालय ने एक राज्य से दूसरे राज्य में जाने पर लगे प्रतिबंध को समाप्त कर दिया है। रात का कर्फ़्यू जारी रहेगा हालांकि इसका समय बदल दिया गया है। पहले यह सुबह 7 बजे से रात 7 बजे तक था। लेकिन इस बार इसे रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक रखा गया है। 

दूसरे चरण में स्कूल, कॉलेजों, शिक्षण संस्थानों, कोचिंग इंस्टीट्यूट्स को राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों से बातचीत के बाद से खोला जाएगा। 

ताज़ा ख़बरें

इन पर जारी रहेगी पाबंदी

गाइडलाइंस के मुताबिक़, अंतराष्ट्रीय उड़ानों, मेट्रो, सिनेमा हॉल, जिम्नेजियम, स्विमिंग पूल, एंटरटेनमेंट पार्क, थिएटर, बार और ऑडिटोरियम, एसेंबली हॉल और ऐसी ही दूसरी जगहों, सामाजिक, राजनीतिक, धार्मिक कार्यक्रमों पर पाबंदी जारी रहेगी।
पहले लॉकडाउन की अवधि 25 मार्च से 14 अप्रैल जबकि दूसरे की 15 अप्रैल से 3 मई, तीसरे की 4 मई से 17 मई और चौथे लॉकडाउन की अवधि 18 मई से 31 मई तक है।

बंगाल में खुलेंगे ऑफ़िस

शुक्रवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी एलान किया था कि 8 जून से राज्य में सभी सरकारी और प्राइवेट ऑफ़िस खुलेंगे और इनमें 100 फ़ीसदी कर्मचारी आएंगे। ममता ने कहा था कि राज्य के सभी धार्मिक स्थल 1 जून से खुलेंगे लेकिन धार्मिक स्थलों में एक बार में 10 से ज़्यादा लोगों को इकट्ठा होने की इजाजत नहीं होगी। 

लॉकडाउन 5.0 को लेकर शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बीच लंबी चर्चा हुई थी। उससे पहले गुरुवार रात को अमित शाह ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से लॉकडाउन 5.0 को लेकर बातचीत की थी और उनसे सुझाव लिए थे। यह पहला मौक़ा था जब शाह ने लॉकडाउन को आगे बढ़ाने के मोर्चे की कमान संभाली थी जबकि इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लॉकडाउन को बढ़ाने के मसले पर मुख्यमंत्रियों से बातचीत करते रहे हैं। 

केंद्र सरकार का ध्यान देश के उन 13 महानगरों और जिलों पर ज़्यादा है, जो कोरोना से सबसे ज़्यादा प्रभावित हैं। देश के 70 फ़ीसदी मामले इन्हीं जगहों से सामने आए हैं। ये हैं - मुंबई की नगरपालिकाएं, चेन्नई, दिल्ली और नई दिल्ली, अहमदाबाद, ठाणे, पुणे, हैदराबाद, कोलकाता/हावड़ा, इंदौर, जयपुर, जोधपुर, चेंगलपट्टू और थिरूवल्लुवर (तमिलनाडु)। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें