loader

कोरोना ड्यूटी में लगाए जाएंगे मेडिकल इंटर्न्स

मे़डिकल इंटर्न्स और एमबीबीएस के अंतिम वर्ष के छात्रों को कोरोना मरीजों की देखभाल के काम में लगाया जाएगा। सरकार ने यह फ़ैसला इसलिए लिया है कि कोरोना संक्रमित लोगों की देखभाल के लिए अधिक संख्या में स्वास्थ्य कर्मी मिल सकें।

यह निर्णय ऐसे समय लिया गया है जब रोज़ाना लगभग पौने चार लाख लोग कोरोना से संक्रमित हो रहे हैं और तीन हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत रोज़ाना हो रही है। 

ख़ास ख़बरें

परीक्षा टाली

सरकार ने कोरोना रोगियों की बढ़ती तादाद के मद्देनज़र कई अहम फ़ैसले लिए हैं। अंतिम वर्ष के एमबीबीएस छात्रों को कोरोना से हल्के रूप से प्रभावित लोगों के इलाज में लगाया जा सकेगा, जबकि इन्टर्न्स टेली-मेडिसिन में भाग ले सकेंगे। ये दोनों ही समूह के लोग वरिष्ठ डॉक्टर की देखरेख में ही काम करेंगे। 

इसी तरह जीएनएम यानी जनरल नर्सिंग एंड मिडवाइफ़ पास नर्सों को कोरोना मरीजों की देखभाल में लगाया जाएगा, पर वे भी वरिष्ठों की देखरेख में ही काम करेंगी। 

इसके साथ ही सरकार ने पोस्ट ग्रैजुएट मेडिकल कोर्स में दाखिले के लिए होने वाली परीक्षा भी टाल दी है और अब यह 31 अगस्त के बाद ही ली जाएगी। 

medical interns to treat corona patients - Satya Hindi

सरकार ने कहा कि ये फ़ैसले इसलिए लिए गए हैं कि कोरोना से रोगियों की देखभाल में ज़्यादा डॉक्टर-नर्स उपलब्ध हो सकें। इन लोगों को प्राइम मिनिस्टर कोविड नेशनल सर्विस अवॉर्ड दिया जाएगा और सरकार नौकरियों में उन्हें प्राथमिकता दी जाएगी।

कोरोना का कहर

बता दें कि एक दिन में नए कोरोना मामलों की संख्या शनिवार की सुबह चार लाख के पार हो गई। यह अब तक का रिकार्ड है। लगातार आठ दिनों तक तीन लाख से अधिक नए मामलों के आने के बाद अब यह संख्या चार लाख के भी ऊपर निकल गई।

शनिवार की सुबह स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी आँकड़ों के मुताबिक इसके पहले के 24 घंटो में कोरोना के नए 4,01,993 दर्ज किए गए। इस दौरान 3,523 कोरोना रोगियों की मौत हो गई।

इसके साथ ही शनिवार सुबह तक कोरोना से संक्रमितों की संख्या 1,87,62,976 हो गई है। इसके अलावा कोरोना से मरने वाले लोगों की संख्या दो लाख के आँकड़े को पार करते हुए 2,08,330 हो गई।

कोरोना संक्रमण की भयावहता का अनुमान इससे लगाया जा सकता है कि यह लगातार 10वां दिन है, जब कोरोना संक्रमण के मामले 3 लाख से ज्यादा आए हों। पिछले 10 दिनों में औसतन 3.50 लाख नए मामले रोज आए हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें