loader

गृह मंत्रालय ने एफसीआरए की वेबसाइट से डिलीट किया एनजीओ से जुड़ा डाटा

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने फॉरेन कंट्रीब्यूशन रेगुलेशन एक्ट यानी एफसीआरए की वेबसाइट से कुछ अहम डाटा को हटा दिया है। इनमें कई ऐसे एनजीओ का भी डाटा है, जिनका एफसीआरए लाइसेंस कैंसिल किया जा चुका है। हटाए गए डाटा में एनजीओ के वार्षिक रिटर्न का भी ब्यौरा था। इन एनजीओ के वार्षिक रिटर्न को भी अब कोई नहीं देख सकता। सवाल यह है कि आखिर इस डाटा को क्यों हटा दिया गया?

 

एफसीआरए लाइसेंस के जरिए ही विदेशों से चंदा हासिल किया जा सकता है। 

द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, गृह मंत्रालय ने इस कदम के बारे में कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया है लेकिन मंत्रालय के अफसरों का कहना है कि ऐसा इस वजह से किया गया है क्योंकि हटाया गया डाटा जनता के लिए गैर जरूरी था।

ताज़ा ख़बरें

एफसीआरए की वेबसाइट पर एनजीओ को दिए जाने वाले लाइसेंस, उन्हें मिलने वाले विदेशी चंदे सहित तमाम जानकारियां मौजूद रहती हैं। 

गैर जरूरी था डाटा

केंद्रीय गृह मंत्रालय के एक अफसर ने कहा कि जो भी डाटा उपयोगी नहीं था या गैर जरूरी था उसे हटा दिया गया है। उन्होंने कहा कि जिन एनजीओ का लाइसेंस खत्म हो चुका है और जिन एनजीओ ने अपना वार्षिक रिटर्न फाइल किया है, उनके ओवरऑल डाटा को बनाए रखा गया है।

MHA removed crucial data from FCRA website - Satya Hindi

द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, एनजीओ को मिलने वाले विदेशी चंदे के तिमाही खातों के आंकड़े भी हटा दिए गए हैं। हालांकि गृह मंत्रालय के सूत्रों ने यह भी कहा है कि ऐसा मंत्रालय की ओर से इस महीने की शुरुआत में जारी किए गए नियमों के मुताबिक ही किया गया है।

मंत्रालय ने बदले थे नियम 

इस साल 1 जुलाई को गृह मंत्रालय ने एफसीआरए के नियमों में बदलाव को लेकर अधिसूचना जारी की थी। इसमें नियम 13 में भी बदलाव किया गया था। यह नियम ‘विदेशी योगदान मिलने की घोषणा’ से संबंधित है। सरकार ने इस नियम के क्लॉज बी को हटा दिया है। 

यह क्लॉज कहता है कि कोई भी शख्स जो किसी भी वित्तीय वर्ष की किसी एक तिमाही में विदेशी चंदा हासिल करता है उसे अपनी वेबसाइट पर या फिर केंद्र सरकार की किसी वेबसाइट पर इसकी जानकारी देनी होगी। यह जानकारी तिमाही के अंतिम दिन के 15 दिनों के भीतर देनी होगी और इसमें चंदा देने वालों की जानकारी, मिला हुआ धन और किस तारीख को धन मिला है, इस बारे में बताना होगा।

पारदर्शिता कम होगी

द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, एक एनजीओ के प्रमुख ने कहा कि गृह मंत्रालय का यह कदम बेहद अजीब है। उन्होंने कहा कि हालांकि इससे एनजीओ के कामकाज पर कोई असर नहीं पड़ेगा लेकिन ऐसा लगता है कि यह एफसीआरए के काम में पारदर्शिता को कम करने की कोशिश है। 

एनजीओ के प्रमुख ने पहचान जाहिर न करने की शर्त पर कहा कि ऐसे वक्त में जब एफसीआरए विभाग पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं और इसकी जांच सीबीआई के द्वारा की जा रही है, ऐसे में गृह मंत्रालय को और ज्यादा पारदर्शिता रखने के लिए कदम उठाने चाहिए थे ।

किए कई बदलाव

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस महीने की शुरुआत में एफसीआरए से संबंधित कुछ नियमों में जो बदलाव किया था उसके तहत अब भारतीय किसी को जानकारी दिए बिना विदेश में रहने वाले रिश्तेदारों से 1 साल में 10 लाख रुपये तक मगा सकेंगे, पहले यह सीमा 1 लाख रुपये थी। गृह मंत्रालय ने कहा था कि यदि मंगाई जाने वाली राशि इससे अधिक है तो लोगों के पास सरकार को इस बारे में बताने के लिए 90 दिन होंगे जबकि पहले यह अवधि 30 दिन की थी।

गृह मंत्रालय ने अधिसूचना जारी कर कहा था कि संगठनों या व्यक्तियों पर सीधे मुकदमा चलाने के बजाय एफसीआरए के तहत पांच और अपराधों को "कम्पाउंडेबल" बना दिया गया है। यानी इन अपराधों के बदले भारी जुर्माना भरना होगा। इससे पहले, एफसीआरए के तहत केवल सात अपराध कंपाउंडेबल थे। 

इसी तरह, नियम 9 में बदलाव किया गया था। नियम 9 धन प्राप्त करने के लिए एफसीआरए के तहत 'पंजीकरण' या 'पूर्व अनुमति' प्राप्त करने के आवेदन से संबंधित है। संशोधित नियमों के मुताबिक, व्यक्तियों और संगठनों या गैर सरकारी संगठनों को बैंक खाते के बारे में गृह मंत्रालय को सूचित करने के लिए 45 दिन का समय दिया गया है। यह समय सीमा पहले 30 दिन थी।

देश से और खबरें

इसी तरह बैंक खाते, नाम, पता, लक्ष्य या संगठन (संगठनों) के प्रमुख सदस्यों को विदेशी धन प्राप्त करने के मामले में 15 दिनों के बजाय 45 दिन का समय दिए जाने का संशोधन किया गया था। 

बीते साल दिसंबर में गृह मंत्रालय ने मदर टेरेसा मिशन ऑफ चैरिटी का एफसीआरए लाइसेंस रिन्यू करने से इनकार कर दिया था लेकिन कुछ दिनों बाद इसे बहाल कर दिया गया था। तब इसे लेकर विवाद हुआ था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें