loader

टीवी चैनलों की बहस में न जाएँ उलेमा: मुसलिम पर्सनल लॉ बोर्ड

नूपुर शर्मा विवाद के बीच अब ऑल इंडिया मुसलिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने उलमाओं और बुद्धिजीवियों के टीवी बहसों में शामिल होने को लेकर एक बयान जारी किया है। उसने इसमें आग्रह किया है कि वे टीवी चैनलों की बहस में न जाएँ। तो सवाल है कि उसने ऐसा आग्रह क्यों किया है? क्या नूपुर शर्मा विवाद की वजह से या इसके पीछे कुछ और कारण है?

वैसे, मुसलिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने साफ़ किया है कि उलमा और बुद्धिजीवियों से अपील है कि वे उन टीवी चैनलों की बहस और डिबेट्स में न जाएँ जिनका उद्देश्य केवल इसलाम और मुसलमानों का उपहास करना और उनका मजाक उड़ाना है।

ताज़ा ख़बरें

यह बयान बोर्ड के महासचिव मौलाना खालिद सैफुल्लाह रहमानी के हवाले से जारी किया गया है। बोर्ड अध्यक्ष मौलाना सैयद मुहम्मद राबेअ हसनी नदवी और तमाम उपाध्यक्षों की ओर से जारी उस बयान में कहा गया है, 'कार्यक्रमों में भाग लेकर वे इसलाम और मुसलमानों की कोई सेवा नहीं कर पाते, बल्कि परोक्ष रूप से इसलाम और मुसलमानों का अपमान और उपहास ही करते हैं। ये चैनल अपनी तटस्थता दिखाने के लिए एक मुसलिम चेहरे को डिबेट में शामिल करते हैं और हमारे उलमा और बुद्धिजीवी इस षडयंत्र का शिकार हो जाते हैं।'

बयान में यह भी कहा गया है कि 'अगर हम इन कार्यक्रमों और चैनलों का बहिष्कार करते हैं तो ना सिर्फ इनकी टीआरपी कम होगी बल्कि ये अपने उद्देश्य में बुरी तरह विफल हो जाएंगे।'

देश से और ख़बरें
बता दें कि मुसलिम पर्सनल लॉ बोर्ड की यह अपील ऐसे समय में आई है जब नुपूर शर्मा के विवादित बयान के मामले ने तूल पकड़ा है। नुपूर शर्मा ने पैगम्बर मोहम्मद साहब को लेकर विवादित बयान दिया था। इस मामले में काफ़ी दबाव पड़ने के बाद बीजेपी से जुड़ी रहीं नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल के ख़िलाफ़ कार्रवाई हुई। इन पर एफ़आईआर दर्ज हुई तो इसके साथ कई अन्य लोगों पर भी मुक़दमा दर्ज किया गया। 
इस मामले में 9 जून को असदुद्दीन ओवैसी समेत 32 लोगों के ख़िलाफ़ मामले दर्ज किए गए हैं। इनमें सबा नक़वी जैसी पत्रकार भी हैं। बाकी नामों पर गौर करें- शादाब चौहान, हाफिजुल हसन अंसारी, इलियास शरफुद्दीन, मौलाना मुफ्ती नदीम, अब्दुर्रहमान, नगमा शेख, डॉ. मोहम्मद कलीम तुर्क, अतीतुर रहमान ख़ान, शाजा अहमद, इम्तियाज अहमद, दानिश कुरैशी, काशिफ, मोहम्मद साजिद शाहीन, गुलजार अंसारी, सैफुद्दीन, मौलाना सरफराजी, मसूद फयाज हाशमी। 
ख़ास ख़बरें
कुछ हिन्दुओं के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज हैं। उनमें शामिल हैं- बिहार लाल यादव, आर विक्रमन, विनीता शर्मा, कुमार दिवाशंकर, यति नरसिंहानंद, स्वामी जीतेन्द्रानन्द, लक्ष्मण दास, अनिल कुमार मीणा, क्यू सेंसी, पूजा शकुन पाण्डे, पूजा प्रियंवदा, मीनाक्षी चौधरी। इन सब पर भी किसी न किसी रूप में धार्मिक भावनाएँ भड़काने के आरोप हैं। बहरहाल, इन एफ़आईआर पर अब सवाल उठ रहे हैं कि जब विवाद के केंद्र में नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल थे तो बाक़ी के ख़िलाफ़ अभी मुक़दमा क्यों दर्ज किया गया?
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें