loader
तारिक़ अहमद मीरफ़ोटो क्रेडिट - @report_real

कश्मीर: हिज़बुल से संबंध के आरोप में एक नेता गिरफ़्तार, बीजेपी के टिकट पर लड़ा था चुनाव

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने जम्मू-कश्मीर के एक नेता को आतंकवादी संगठन हिज़बुल मुजाहिदीन से संबंध होने के आरोप में गिरफ़्तार किया है। इस नेता पर हिज़बुल के आतंकवादियों को हथियार सप्लाई करने का आरोप है। 

यह गिरफ़्तारी जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीएसपी रहे दविंदर सिंह के मामले में चल रही जांच के दौरान मिली अहम जानकारी के बाद की गई है। दविंदर सिंह को इस साल जनवरी में हिज़बुल मुजाहिदीन के दो आतंकवादियों के साथ कार में पकड़ा गया था। इसके बाद दविंदर को नौकरी से निलंबित कर दिया गया था। तब सवाल उठे थे कि गणतंत्र दिवस से पहले दविंदर आतंकवादियों को दिल्ली क्यों ले जा रहा था। 

NIA arrested Tariq Ahmad Mir alleged links to terrorist group Hizbul Mujahideen - Satya Hindi
डीएसपी दविंदर सिंह।

गिरफ़्तार किए गए नेता का नाम तारिक़ अहमद मीर है और वह कश्मीर के शोपियां जिले के वाची गांव का सरपंच है। मीर ने 2014 में बीजेपी के टिकट पर विधानसभा का चुनाव लड़ा था और दिसंबर, 2014 में श्रीनगर में हुई एक चुनावी रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मंच भी साझा किया था। 

ताज़ा ख़बरें

मामले में विवाद बढ़ने के बाद बीजेपी की जम्मू-कश्मीर इकाई ने कहा है कि राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में शामिल लोगों से पार्टी का कोई लेना-देना नहीं है और पार्टी तारिक़ को 2018 में ही बाहर का रास्ता दिखा चुकी है। 

राज्य बीजेपी के प्रवक्ता अल्ताफ़ ठाकुर ने कहा कि हमें नहीं पता कि तारिक़ ने विधानसभा चुनाव में टिकट कैसे हासिल कर लिया। तारिक़ को गुरुवार को जम्मू स्थित एनआईए अदालत में पेश करने के बाद 6 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। 

नावीद बाबू ने लिया नाम!

तारिक़ का नाम हिज़बुल के आतंकवादी नावीद बाबू से पूछताछ के दौरान सामने आया है। दविंदर सिंह के साथ पकड़े गए दो आतंकवादियों में से एक नावीद बाबू भी था। नावीद बाबू को शोपियां में बेहद ख़तरनाक आतंकवादी माना जाता है और उस पर कई पुलिसकर्मियों और फल व्यापारियों की हत्या का आरोप है। 

ख़बरों के मुताबिक़, नावीद बाबू ने ही जांचकर्ताओं को बताया कि तारिक़ हिज़बुल को हथियार और गोला-बारूद की सप्लाई करता था। 

तारिक़ को सुरक्षा के तौर पर दो पुलिस अफ़सर भी मिले थे जबकि ख़ुफ़िया एजेंसियों ने तारिक़ के आतंकवादियों से संबंध होने की संभावना की रिपोर्ट दी थी। इसके बाद उससे सुरक्षा वापस ले ली गई थी। 

अधिकारियों का कहना है कि जांच के दौरान मिल रही जानकारियों से यह पता चलता है कि दविंदर के आतंकवादियों के साथ गहरे संबंध थे। दविंदर के साथ पकड़े गए आतंकवादी उसके श्रीनगर स्थित घर पर भी रुके थे। 2001 में संसद पर हुए हमले के दोषी अफज़ल गुरू ने भी दविंदर सिंह का नाम लिया था। 

दविंदर सिंह पर यह भी आरोप हैं कि उसने ही अफज़ल गुरू को दिल्ली भेजा था और संसद पर हुए हमले के लिए साजो-सामान जुटाया था। फांसी से पहले अफज़ल गुरू ने एक ख़त लिखा था जिसमें उसने कहा था कि दविंदर सिंह ने उससे संसद पर हमले के दोषियों का साथ देने के लिए कहा था। 

दविंदर सिंह की गिरफ़्तारी को लेकर कांग्रेस काफी मुखर रही थी। तब राहुल गांधी ने पूछा था कि दविंदर की गिरफ़्तारी पर प्रधानमंत्री, गृह मंत्री और एनएसए चुप क्यों हैं? राहुल ने पूछा था, ‘पुलवामा हमले में दविंदर सिंह की क्या भूमिका थी? उसने कितने आतंकियों की सहायता की और उसे कौन और क्यों बचा रहा था?’

देश से और ख़बरें

बीजेपी ने तारिक़ अहमद मीर से तुरंत पल्ला तो झाड़ लिया है लेकिन अगर तारिक़ का संबंध किसी और दल से रहा होता तो बीजेपी के नेता मिनटों के अंदर पाकिस्तान में सक्रिय तमाम आतंकवादी संगठनों से उसके तार जोड़ देते और उसे देशद्रोही, पाकिस्तान परस्त घोषित कर देते। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें