loader
मेरठ के खरखोदा से गिरफ्तार पीएफआई से जुड़े लोग

ऑपरेशन ऑक्टोपस में यूपी से कई मौलाना गिरफ्तार

पीएफआई (पीपुल्स फ्रंट ऑफ इंडिया) को लेकर यूपी और अन्य स्थानों पर गिरफ्तारियों का सिलसिला शनिवार को भी जारी रहा। खास बात यह है कि शनिवार को गिरफ्तार लोगों में कई मौलाना भी हैं। पीएफआई पर राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी एनआईए कल शुक्रवार से क्रैकडाउन कर रही है। इसे ऑपरेशन ऑक्टोपस नाम दिया गया था। शनिवार को यूपी  के आतंकवाद निरोधी दस्ते (एटीएस) ने शामली, गाजियाबाद और मुजफ्फरनगर और मेरठ से चार लोगों का गिरफ्तार किया। अफसरों ने दावा किया कि इनके पास से 'गजवा-ए-हिंद' से संबंधित साहित्य भी मिला। आरोपियों के कब्जे से बरामद पेन ड्राइव में आईएस और कश्मीरी मुजाहिदीन से संबंधित वीडियो पाए गए।

यूपी एटीएस के सूत्रों के मुताबिक आरोपियों की पहचान शादाब अजीज कासमी, मुफ्ती शहजादा, मौलाना साजिद और मौलाना इस्लाम कासमी के रूप में हुई है। एटीएस अधिकारियों को जानकारी मिली कि पीएफआई और अन्य मुस्लिम संगठन राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में शामिल हैं और 2047 तक भारत को 'गज़वा-ए-हिंद' में बदलने की साजिश रच रहे हैं। 
ताजा ख़बरें
आरोप है कि पकड़े गए आरोपियों का लक्ष्य 2047 तक शरीयत लागू करना था और उनका प्रभाव सीएए और एनआरसी के विरोध प्रदर्शनों में देखा गया था। आरोपियों ने एटीएस अधिकारियों को बताया कि उन्होंने केरल में पीएफआई शिविरों का दौरा किया और वहां जूडो, कराटे और हथियारों का प्रशिक्षण लिया।

आरोपियों के खिलाफ मेरठ के थाना खरखोदा में धारा-120बी, 121ए, 153ए, 295ए, 109, 505(2) आईएमडी और धारा 13(1)(बी) गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। 
आरोपियों में से एक मोहम्मद शादाब अजीज कासमी एसडीपीआई के पश्चिमी उत्तर प्रदेश विंग के महासचिव थे। यूपी एटीएस ने सात दस्तावेज फाइलें, 11 वीडियो, पेन ड्राइव से 179 भड़काऊ तस्वीरें और इस्लामिक स्टेट (आईएस) से संबंधित साहित्य भी बरामद करने का दावा किया। 
देश से और खबरें
इस बीच, 15 राज्यों में फैले पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के सदस्यों के खिलाफ अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई का कोड नाम "ऑपरेशन ऑक्टोपस" था।

22 सितंबर को 11 राज्यों में एनआईए, ईडी और संबंधित राज्यों की पुलिस की एक संयुक्त टीम के छापों में 106 से अधिक पीएफआई सदस्यों को गिरफ्तार किया गया था। एनआईए के नेतृत्व में तमाम टीमों ने गुरुवार को पीएफआई के 106 पदाधिकारियों को गिरफ्तार किया था। देश में आतंकी गतिविधियों को कथित रूप से समर्थन देने के आरोप में 15 राज्यों में 93 स्थानों पर छानबीन जारी है।

पुणे में कथित तौर पर पाकिस्तान समर्थक नारे 

उधर, पुणे पुलिस ने शनिवार को कहा कि उसने शुक्रवार को पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) द्वारा शहर में आयोजित एक आंदोलन के दौरान कथित तौर पर पाकिस्तान समर्थक नारों का संज्ञान लिया है और विरोध में लगाए गए सभी नारों की जांच कर रही है। प्रदर्शन के दौरान कथित तौर पर "पाकिस्तान जिंदाबाद" के नारे लगाते हुए प्रदर्शनकारियों का एक वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया है, जिसके बाद महाराष्ट्र में कुछ बीजेपी नेताओं ने नारे लगाने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। हालांकि जिस भी मीडिया आउटलेट ने उस कथित वीडियो को चलाया,  स्वतंत्र रूप से वीडियो की प्रामाणिकता की पुष्टि नहीं की है। 

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें
पीएफआई के कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी की निंदा करने के लिए पुणे में जिला कलेक्टर कार्यालय के बाहर एक विरोध प्रदर्शन आयोजित किया गया था। समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक विरोध के दौरान पुलिस ने 40 प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया। पुलिस उपायुक्त सागर पाटिल ने कहा, हमने पहले ही अवैध रूप से इकट्ठा होने के लिए पीएफआई सदस्यों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है और हम नारेबाजी के मामले को देख रहे हैं। 
एक अन्य अधिकारी ने बताया कि बिना अनुमति के आंदोलन आयोजित करने, अवैध रूप से जमा होने और सड़क जाम करने के आरोप में बुंडगार्डन थाने में 60 से अधिक प्रदर्शनकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।  बीजेपी विधायक नितेश राणे ने कहा कि पाकिस्तान समर्थक नारे लगाने वालों को याद रखना चाहिए कि उन्हें बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा, पुणे में पीएफआई के समर्थन में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने वालों को.. चुन चुन के मारेंगे.. इतना याद रखना।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें