loader

विदेश मंत्रियों की बैठक के पहले एलएसी पर भारत को ललकार रही है चीनी सेना

ऐसे समय जब भारत और चीन के विदेश मंत्रियों की बैठक रूस में होने जा रही है, चीन ने वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास अपने सैनिक साजो सामान का बहुत बड़ा भंडार इकट्ठा कर लिया है, वहां से थोड़ी दूर हट कर ही युद्ध अभ्यास कर रहा है। इतना ही नहीं, चीन सरकार- नियंत्रित मीडिया खुले आम भारत को धमकी दे रहा है।

सीमा पर सैनिक साजो-सामान

सैनिक साजो सामान के एकत्रित करने की जानकारी स्वयं चीनी कम्युनिस्ट पार्टी का मुखपत्र ग्लबोल टाइम्स देता है। इसके अनुसार, पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने बमबर्षक विमान, लड़ाकू विमान, एअर डिफेन्स प्रणाली, बख़्तरबंद गाड़ियाँ, तोप और बंदूकें तैनात कर रखी हैं। पैरट्रूपर्स और स्पेशल फ़ोर्स को भी तैनात कर दिया गया है।
देश से और खबरें
ग्लोबल टाइम्स का कहना है कि पीएलए सेंट्रल थिएटर कमांड एअर फ़ोर्स ने एच-6 बमबर्षक विमान और वाई-20 बड़ा परिवहन विमान तिब्बत की इस पठार पर तैनात कर रखा है। इस इलाक़े में मंगलवार को बड़े पैमाने पर युद्ध अभ्यास भी किया गया।

चीन की तैयारी

चीन के मीडिया रिपोर्टों में दावा किया गया है कि उत्तर पश्चिम के रेगिस्तान में लॉन्ग डिस्टैंस मैनूवर्स और लाइव ड्रिल किया गया है। इसी तरह तिब्बत स्वायत्तशासी क्षेत्र में भी अभ्यास किया गया है।
ग्लोबल टाइम्स लिखता है, 'टैंक को नष्ट करने वाली एचजे-10 मिसाइलों को पूर्वी चीन के जियांगसू प्रांत से लगभग एक हज़ार किलोमीटर दूर उत्तर पश्चिम के गोबी रेगिस्तान तक युद्ध अभ्यास के लिए ले जाया गया।'

युद्ध अभ्यास

दूसरी ओर चीन सरकार से नियंत्रित सेंट्रल चाइना टेलीविज़न ने कहा है कि '4,500 किलोमीटर की ऊँचाई पर तिब्बत मिलिटरी कमांड ने भी युद्ध अभ्यास किया है।'
सीसीटीवी का यह भी कहना है कि 'पैराट्रूपर्स और भारी हथियारों वाली ईकाइयों ने उत्तर पश्चिम चीन में परिवहन विमान से कैप्चर और कंट्रल युद्ध अभ्यास किए।'

मीडिया लड़ रहा है युद्ध?

लेकिन बात सिर्फ सैनिक साजो सामान को एकत्रित करना और युद्ध अभ्यास करने तक ही सीमित नहीं है। चीनी मीडिया भी युद्ध लड़ रहा है। वह अपने देश में युद्ध उन्माद फैला रहा है, भारत के ख़िलाफ़ एकतरफा बातें कह रहा है और भारत को धमकी भी दे रहा है।
इसे 'ग्लोबल टाइम्स' के संपादक हू शीजिन के ट्वीट से समझा जा सकता है। उन्होंने एक ट्वीट कर तिब्बत में चल रहे युद्ध अभ्यास की जानकारी दी, इससे जुड़ा पीएलए का एक वीडियो उसके साथ अटैच किया। इतना ही नहीं, उन्होंने भारतीय सेना को धमकी देते हुए कहा कि वह 'पराजय के लिए तैयार रहे।'

ड्रोन स्वॉर्म टेक्नोलॉजी 

ग्लोबल टाइम्स ने एक दूसरी ख़बर में विस्तार से बताया है कि किस तरह बख़्तरबंद गाड़ियों और ड्रोन को एक सूत्र में पिरो कर ख़ास किस्म की युद्ध प्रणाली विकिसत की गई है। इसके तहत ड्रोन से निगरानी कर हमले से पूर्व पूरी जानकारी ली जाती है और उसके बाद उसके अनुसार ही बख़्तरबंद गाड़ियाँ हमला करती हैं।
सेंट्रल चाइना टेलीविज़न ने जानकारी दी है कि किस तरह चाइना एअरोस्पेस साइंस एंड इंडस्ट्री कॉरपोरेशन ने यह ड्रोन स्वॉर्म टेक्नोलॉजी विकसित की है।

युद्ध की तैयारी-बातचीत साथ-साथ

चीन  विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता और दूसरे लोग भारत से बेहतर रिश्ते कायम करने की बात करते हैं और इसके साथ ही वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास सैनिक जमावड़ा भी कर रहे हैं।  
लेकिन सबसे अहम सवाल यह है कि यह सबकुछ ठीक वैसे समय हो रहा है जब दोनों देशों के विदेश मंत्री एक तीसरे देश में बात करने जा रहे हैं। 
PLA dares India along LAC, foreign ministers hold india-china talks - Satya Hindi
chinamilitary.com
क्या चीन भारत पर दबाव डालने और इस बातचीत को प्रभावित करने के लिए ठीक उसी समय इस तरह की तैयारियां कर रहा है और भारत को धमका रहा है? या चीन सिर्फ दिखावे के लिए बातचीत कर रहा है, उस बातचीत का कोई सकारात्मक नतीजा नहीं निकलने को है?
सच जो हो, एक बात साफ है कि चीन बिल्कुल सीमा रेखा के पास पूरी तैयारियों के साथ खड़ा है और भारत को ललकार रहा है।
यह इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि इसके पहले हर तरह की और हर स्तर की बातचीत हो चुकी है, नतीजा शून्य रहा है। दोनों सेनाओं के ब्रिगेडियर स्तर, मेजर जनरल और ले जनरल स्तर की बातचीत हुई, दोनों के विदेश मंत्रियों की बातचीत हुई, भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार की बातचीत चीन के स्टेट कौंसिलर जो विदेश मंत्री भी हैं उनके बीच बातचीत हुई। नतीजा सिफर रहा।
भारत के बीजिंग स्थित राजदूत ने चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के पोलित ब्यूरो के विदेश मामलों के उपाध्यक्ष से बात की, मिलिटरी कमीशन के उपाध्यक्ष से बात की। लेकिन चीन अपने सैनिकों को वापस बुलाने से इनकार तो कर ही रहा है, उल्टे कह रहा है कि भारत ने उसकी ज़मीन पर कब्जा कर रखा है। ऐसे माहौल में एक और बातचीत हो रही है, कुछ और युद्ध अभ्यास हो रहे हैं, कुछ और सैनिक सीमा पर जमा हो रहे हैं, कुछ अधिक घातक हथियार भेजे जा रहे हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें