loader

चंडीगढ़ एयरपोर्ट अब शहीद भगत सिंह के नाम से होगा: प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री मोदी ने आज घोषणा की है कि चंडीगढ़ हवाई अड्डे का नाम अब भगत सिंह के नाम पर रखा जाएगा। उन्होंने इसकी घोषणा 'मन की बात' कार्यक्रम में की।

उनकी यह घोषणा तब की गई है जब बीजेपी की विरोधी आम आदमी पार्टी खुद को शहीद भगत सिंह की अनुयायी बताती है और उनके बताए क़दम पर चलने का आह्वान करती रही है। वह भगत सिंह के विचारों पर अपनी पार्टी को चलाने का वादा करती रही है। उत्तर भारत में युवाओं में शहीद भगत सिंह के प्रति ख़ूब आस्था है और वह युवाओं के प्रेरणास्रोत हैं। माना जाता है कि इसी वजह से आम आदमी पार्टी खुद को शहीद भगत सिंह की अनुयायी पार्टी बताती है। तो क्या बीजेपी को भी आम आदमी पार्टी की इस रणनीति का अब अहसास हो गया है? क्या इसी वजह से चंडीगढ़ एयरपोर्ट का नाम अब बदलने की घोषणा की गई है?

ताज़ा ख़बरें

भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण और पंजाब व हरियाणा की सरकारों के साझे उद्यम इस एयरपोर्ट का नाम भगत सिंह के नाम पर करने की काफ़ी पहले से मांग की जा रही थी। 2017 में इस मुद्दे को लेकर राज्यसभा में हंगामा भी हुआ था क्योंकि विपक्ष ने आरोप लगाया था कि हरियाणा में बीजेपी सरकार स्वतंत्रता सेनानी भगत सिंह के नाम पर इसका नाम नहीं रखना चाहती थी।

सीपीएम विधायक रीताब्रत बनर्जी ने तब कहा था कि चंडीगढ़ हवाई अड्डे के नामकरण पर विवाद हुआ है। एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार बनर्जी ने कहा था, 'पंजाब सरकार ने सहमति व्यक्त की थी कि हवाई अड्डे का नाम शहीद-ए-आजम भगत सिंह के नाम पर रखा जाएगा, लेकिन हरियाणा सरकार, हरियाणा के मुख्यमंत्री ने नकार दिया। वह मंगल सेन के नाम पर हवाई अड्डे का नाम रखना चाहते हैं।'

रिपोर्ट के अनुसार कांग्रेस ने भी यह आरोप मढ़ा था कि भाजपा इसका नाम पार्टी के हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री मंगल सेन के नाम पर रखना चाहती है। हालाँकि, बीजेपी ने आरोपों से इनकार करते हुए कहा था कि उन्होंने ऐसा कभी नहीं कहा।
2017 के उस विवाद के पाँच साल बाद अब इसी बीजेपी के नेतृत्व वाली सरकार के मुखिया नरेंद्र मोदी ने आज भगत सिंह के नाम पर एयरपोर्ट का नाम रखने की घोषणा की है।

वैसे, शहीद भगत सिंह के नाम को लेकर आम आदमी पार्टी काफी मुखर रही है। दिल्ली और पंजाब में आप की सरकार है और सरकारी दफ़्तरों में भगत सिंह की तसवीरें काफ़ी इस्तेमाल की जाती हैं। आम आदमी पार्टी जब प्रेस कॉन्फ़्रेंस करती है तो वहाँ भी भगत सिंह की तसवीर का इस्तेमाल करती है। पंजाब में भगवंत मान ने मुख्यमंत्री शपथ ग्रहण का कार्यक्रम शहीद-ए-आजम भगत सिंह के पैतृक गांव खटकड़ कलां में कराया। खटकड़ कलां में सिर्फ पीला रंग ही दिखाई दिया। समारोह के पंडाल में सभी कुर्सियों पर पीला कवर चढ़ाया गया था और लोग पीली पगड़ियों में दिखाई दिए थे। 

बाद में भगवंत मान ने घोषणा की थी कि भगत सिंह की शहादत के दिन 23 मार्च को हर साल सार्वजनिक अवकाश घोषित किया जाएगा।

देश से और ख़बरें
इसी साल दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने घोषणा की थी कि दिल्ली के सैनिक स्कूल का नाम शहीद भगत सिंह के नाम पर रखा जाएगा। केजरीवाल ने कहा था कि पिछले साल 20 दिसंबर 2021 को हमारी कैबिनेट ने यह फैसला लिया था कि हम दिल्ली में एक ऐसा स्कूल बनाएंगे, जहां पर बच्चों को फौज में जाने की ट्रेनिंग दी जाएगी। उन्होंने कहा कि हमने तय किया है कि उसी स्कूल का नाम ‘शहीद भगत सिंह आर्म्ड फोर्सेज प्रिपरेटरी स्कूल’ होगा।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें