loader

पेगासस मामला: राहुल बोले- इस्तीफ़ा दें अमित शाह, सुप्रीम कोर्ट करे जांच

पेगासस जासूसी मामले को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर केंद्र सरकार पर हमला बोला है। शुक्रवार को संसद परिसर के बाहर पत्रकारों से बातचीत में राहुल ने कहा कि इस मामले की जांच होनी चाहिए और गृह मंत्री को इस्तीफ़ा देना चाहिए। उन्होंने कहा कि पेगासस एक हथियार है, इजरायल सरकार इसे हथियार बताती है और इसे आतंकवादियों के ख़िलाफ़ इस्तेमाल करती है। 

कांग्रेस सांसद ने कहा कि प्रधानमंत्री और गृह मंत्री ने इस हथियार को संस्थानों के ख़िलाफ़ इस्तेमाल किया है। उन्होंने कहा कि यह मामला सिर्फ़ उन तक सीमित नहीं है बल्कि यह जनता की आवाज़ पर आक्रमण है। 

ताज़ा ख़बरें

वायनाड से सासंद राहुल ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट पर पेगासस का इस्तेमाल किया गया, राफ़ेल लड़ाकू विमान के सौदे के मामले में भी इसका इस्तेमाल किया गया। उन्होंने कहा कि पेगासस के इस्तेमाल की अनुमति सिर्फ़ प्रधानमंत्री और गृह मंत्री ही दे सकते हैं। राहुल ने कहा कि प्रधानमंत्री इस मामले में जांच का आदेश क्यों नहीं दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस मामले में सुप्रीम कोर्ट को जांच करनी चाहिए। 

Rahul gandhi attack on centre Pegasus spyware controversy - Satya Hindi
कांग्रेस सांसदों ने संसद परिसर में प्रदर्शन भी किया।
राहुल ने कहा कि राफ़ेल लड़ाकू विमान मामले की जांच फ्रांस में शुरू हो चुकी है और इस मामले का सच अब सामने आ रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री हर शख़्स को नहीं ख़रीद सकते। 

देखिए, इस विषय पर वीडियो- 

राहुल ने कहा है कि उनके दोस्तों से कहा जाता है कि वे राहुल को जाकर बता दें कि उनके फ़ोन की टैपिंग हो रही है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि अगर आप भ्रष्ट, चोर हैं तो आपको पीएम मोदी से डर लगेगा, वरना डरने की कोई ज़रूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि इस तरह की चीजों से उन्हें डर नहीं लगता। 

देश से और ख़बरें

नामी हस्तियां निशाने पर 

ग़ैर-सरकारी संगठन फ़ोरबिडेन स्टोरीज़ ने सॉफ़्टवेयर बनाने वाली कंपनी एनएसओ के ग्राहकों का जो डेटा बैंक हासिल किया है, उसमें फ़्रांसीसी राष्ट्रपति इमैन्युएल मैक्रों, पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान ख़ान का भी नाम शामिल है। 

इसके अलावा इराक़ी राष्ट्रपति बरहाम सालेह, दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रमफोसा के फ़ोन नंबर भी उस सूची में पाए गए हैं। यानी संभावित जासूसी में उनके नाम भी हैं। लेबनान के प्रधानमंत्री साद हरीरी, युगांडा के रुहकना रुगुन्डा और बेल्जियम के प्रधानमंत्री चार्ल्स मिशेल भी निशाने पर थे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें