loader

संत रविदास जयंती पर दलित मतदाताओं को लुभाने की कोशिश क्यों?

आज संत रविदास जयंती है। एक पवित्र दिन। इसी दिन महान संत रविदास का जन्म हुआ था। वह ऐसे महापुरुषों में से एक हैं जिन्होंने अपने आध्यात्मिक वचनों से सारे संसार को आत्मज्ञान, एकता, भाईचारा का संदेश दिया। इसी भावना से देशवासी जयंती मना रहे हैं। लेकिन इस बीच चुनाव होने से नेताओं में भी इस जयंती को लेकर ग़जब का उत्साह है! इसको लेकर राजनेताओं में गजब की आत्मीयता भी दिख रही है।

कहीं नेता मत्था टेक रहे हैं, कीर्तन गा रहे हैं तो कहीं लंगर और कहीं सैकड़ों किलोमीटर दूर यात्रा कर शिरोमणि गुरु रविदास जनम स्थान मंदिर में पहुँच रहे हैं। और ट्विटर पर तो ये नेता जयंती मनाने को बढ़चढ़ कर दिखा भी रहे हैं। रविदास जयंती पर नेताओं की दिलचस्पी आज इतनी क्यों है?

ताज़ा ख़बरें

इसकी सबसे ख़ास वजह तो पंजाब और यूपी जैसे राज्यों में चुनाव है। पंजाब में दलित काफी संख्या में हैं। जहाँ आबादी सिख दलित और हिंदू दलितों के बीच बंटी हुई है वहीं सिख हिंदू दलितों के बीच भी कई समाज हैं जो अपनी अलग अलग विचारधारा रखते हैं। 2011 की जनगणना के अनुसार पंजाब में दलितों की आबादी क़रीब 32% है। इसमें से 19.4% दलित सिख हैं और 12.4% हिंदू दलित हैं। वहीं कुल दलित आबादी में से क़रीब 26.33% मजहबी सिख, 20.7% रविदासी और रामदासी हैं, आधी धर्मियों की आबादी 10% है और 8.6% वाल्मीकी समाज से हैं।

जब रविदास जयंती के दिन ही पंजाब में चुनाव हो गया था तो एक के बाद एक सभी दलों ने तारीख़ बदलने की मांग की थी। इस मांग को देखते हुए चुनाव आयोग ने मतदान की तारीख़ 14 फ़रवरी से आगे बढ़ाकर 20 फरवरी कर दी है। मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी, बीजेपी, आम आदमी पार्टी ने चुनाव आयोग से मांग की थी कि गुरु रविदास जयंती को देखते हुए मतदान की तिथि आगे बढ़ा दी जाए क्योंकि गुरु रविदास जयंती पर पंजाब से बड़ी संख्या में श्रद्धालु वाराणसी जाते हैं और इससे वे लोग वोट डालने से वंचित रह सकते हैं। 

यूपी में दलित

देश की राजनीति में अहम स्थान रखने वाले यूपी में दलित वोटरों का प्रतिशत क़रीब 21.1 है। यह जाटव और गैर जाटव दलित में बंटा हुआ है। जाटव दलित 11.70 प्रतिशत हैं। 3.3 प्रतिशत पासी हैं। कोरी, बाल्मीकी 3.15 प्रतिशत हैं। धानुक, गोंड और खटीक 1.05 प्रतिशत हैं और अन्य दलित जातियां भी 1.57% हैं। यूपी में कुल 403 सीटों में से 84 अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित विधानसभा सीटें हैं। हालाँकि माना जाता है कि राज्य में क़रीब 300 सीटों पर दलित निर्णायक स्थिति में हैं।
तो क्या यही वजह है कि चुनावों में दलितों को लुभाने के लिए काफ़ी लंबे समय से राजनीतिक दल कसरत कर रहे हैं? कोई दलित के घर खाना खा रहा था तो कोई दलित को मुख्यमंत्री के रूप में पेश करता रहा है?

बहरहाल, रविदास जयंती पर नेताओं ने क्या-क्या किया और वे किस रूप में पेश आए, इसे उन्होंने खुद ट्विटर पर साझा किया है। प्रधानमंत्री मोदी ने एक के बाद एक कई ट्वीट किए हैं और लिखा है कि दिल्ली में श्री गुरु रविदास विश्राम दाम मंदिर में खास पल...।

राहुल गांधी ने भी एक के बाद एक कई ट्वीट कर संत रविदास जी के एकता और भाईचारे के संदेश को याद किया है। वह संत रविदास मंदिर में गए और लंगर में भाग लिया।

पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी आज यूपी के वाराणसी में संत शिरोमणि गुरु रविदास जनम स्थान मंदिर में पहुँचे। उन्होंने संत रविदास के बताए रास्ते पर चलने का आह्वान किया।

आम आदमी पार्टी के प्रमुख और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी इस मामले में पीछे नहीं हैं। उन्होंने ट्वीट किया।

योगी आदित्यनाथ ने भी कई ट्वीट किए और लिखा, 'प्रेम, एकता, सौहार्द और सामाजिक समरसता जैसे मानवीय मूल्यों एवं विचारों के आलोक से मानव समाज को दीप्त करने वाले संत शिरोमणि गुरु रविदास जी की जन्मस्थली 'सीर गोवर्धन' में आयोजित लंगर में प्रसाद ग्रहण करने का सौभाग्य मिला...'।

मायावती ने ट्वीट किया है, 'सामाजिक परिवर्तन के संतों की परम्परा में जाने-माने संतगुरु रविदास जीे जाति-भेद के ख़िलाफ आजीवन कड़ा संघर्ष करते रहे। ऐसे संतगुरु के उपदेशों के मुताबिक सरकारें अगर मन चंगा करके काम करेंगी तभी लोगों का सही से भला होगा...'।

अखिलेश यादव ने लिखा, 'संत रविदास जी का जीवन व उनके आदर्श सदियों तक मानव समाज को करुणा व कल्याण के मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करते रहेंगे।'

रविदास जयंती खास क्यों?

बता दें कि पूरे देश में संत रविदास जयंती उत्साह के साथ मनाई जा रही है। हर वर्ष माघ महीने की पूर्णिमा तिथि पर संत रविदास की जयंती मनाई जाती है। इस दिन संत रविदास के अनुयायी बड़ी संख्या में उनके जन्म स्थान पर एकत्रित होकर भजन कीर्तन करते हैं। रविदास जयंती और माघी पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान का विशेष महत्व होता है। संत रविदास जी ने भगवान की भक्ति में समर्पित होने के साथ अपने सामाजिक और पारिवारिक कर्तव्यों का भी बखूबी निर्वहन किया। इन्होंने आपस में प्रेम करने की शिक्षा दी और इसी तरह से वे भक्ति के मार्ग पर चलकर संत रविदास कहलाए। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें