loader

पेगासस जासूसी मामला: सुप्रीम कोर्ट ने बनाई तीन सदस्यों की कमेटी

पेगासस स्पाईवेयर से जासूसी के मामले में देश की शीर्ष अदालत ने बुधवार को फ़ैसला सुना दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में तीन सदस्यों की कमेटी बनाई है। इस कमेटी में डॉ. नवीन कुमार चौधरी, डॉ. प्रभाहरन पी. और डॉक्टर अश्निन अनिल गुमस्ते शामिल हैं। अदालत ने कमेटी से कहा है कि वह मामले की तेज़ी से जांच करे। अदालत दो महीने बाद फिर से इस मामले में सुनवाई करेगी। 

कमेटी के कामकाज पर सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज आरवी रविंद्रन नज़र रखेंगे। रविंद्रन की मदद के लिए आलोक जोशी, डॉ. संदीप ओबेराय को नियुक्त किया गया है। 

इस मुद्दे को लेकर संसद के शीतकालीन सत्र में जमकर हंगामा हुआ था। कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों ने इस पर चर्चा कराने की मांग को लेकर लगातार प्रदर्शन किया था। 

ताज़ा ख़बरें

'राष्ट्रीय सुरक्षा' का तंज

सुप्रीम कोर्ट ने अपने फ़ैसले में कहा कि सरकार की ओर से राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा बताए जाने का मतलब यह नहीं है कि न्यायपालिका मूकदर्शक बनी रहे। 

अदालत ने कहा, “किसी लोकतांत्रिक देश में, जहां क़ानून का शासन हो, वहां किसी की भी जासूसी करने की इजाजत नहीं दी जा सकती है।” अदालत ने कहा कि भारत सरकार ऐसे मामलों में जानकारी देने से इनकार कर सकती है, जो सुरक्षा से जुड़े हों लेकिन इसका ये मतलब नहीं है कि हर वक़्त राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा खड़ा कर दिया जाए। 

सुप्रीम कोर्ट ने निजता और तकनीक की अहमियत पर भी टिप्पणी की और कहा कि अगर तकनीक का इस्तेमाल लोगों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए किया जा सकता है तो इसका इस्तेमाल लोगों की निजता पर हमले के लिए भी हो सकता है। 

तसवीर साफ नहीं की 

अदालत ने यह भी कहा कि जासूसी कराए जाने का मामला बुनियादी हक़ों के उल्लंघन का है। अदालत ने कहा कि कई मौक़े दिए जाने के बाद भी केंद्र सरकार इस मामले में तसवीर साफ नहीं कर सकी है और न ही केंद्र की ओर से इसका कोई स्पष्ट रूप से खंडन किया गया। 

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि न्याय न सिर्फ़ होना चाहिए बल्कि यह होते हुए दिखना भी चाहिए। शीर्ष अदालत ने कहा कि अगर केंद्र सरकार ने इस मामले में अपना स्टैंड क्लियर किया होता हम पर बोझ कम होता।

शीर्ष अदालत में दायर याचिकाओं में इस मामले की स्वतंत्र जांच कराने की मांग की गई थी। इस मामले में एम. एल. शर्मा, पत्रकार एन. राम और शशि कुमार, परंजय गुहाठाकुरता, एस. एन. एम. आब्दी, एडिटर्स गिल्ड, टीएमसी नेता यशवंत सिन्हा सहित कई लोगों की ओर से सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी। 

याचिकाकर्ताओं ने शीर्ष अदालत से यह भी मांग की थी कि वह सरकार को निर्देश दे कि वह इस बात को बताए कि उसने पेगासस स्पाईवेयर ख़रीदा या नहीं। 

पिछली सुनवाइयों के दौरान सीजेआई एनवी रमना ने कहा था, “सरकार ने संतुष्ट नहीं किया कि पेगासस का इस्तेमाल हुआ या नहीं।” शीर्ष अदालत ने सरकार को आदेश दिया था कि वह एक शपथपत्र यानी ए़फ़िडेविट दायर कर यह बताए कि इस जासूसी का आदेश किस एजेंसी ने दिया था और जिसने जासूसी की, वह इसके लिए अधिकृत था या नहीं।

जबकि दो पेज के हलफ़नामे में केंद्र सरकार ने कहा था कि इस मामले में दायर याचिकाएं अनुमानों, अप्रमाणित मीडिया रिपोर्टों या अपुष्ट सामग्री पर आधारित हैं।

SC order on Pegasus snooping row  - Satya Hindi
कांग्रेस ने किया था प्रदर्शन।
सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि यदि मीडिया में छपी ख़बरें सही हैं तो ये आरोप गंभीर हैं। सीजेआई एनवी रमना ने कहा था कि यह आश्चर्य की बात है कि पेगासस स्पाईवेयर से जासूसी का मामला 2019 में सामने आया था और किसी ने इस बारे में सत्यापन लायक सामग्री को जुटाने की कोई गंभीर कोशिश नहीं की। 
देश से और ख़बरें

क्या था मामला?

फ्रांसीसी मीडिया ग़ैर-सरकारी संगठन फॉरबिडेन स्टोरीज़ ने स्पाइवेयर पेगासस बनाने वाली इज़रायली कंपनी एनएसओ के लीक हुए डेटाबेस को हासिल किया तो पाया कि उसमें 10 देशों के 50 हज़ार से ज़्यादा लोगों के फ़ोन नंबर हैं।

इनमें से 300 नंबर भारतीयों के हैं। फॉरबिडेन स्टोरीज़ ने 16 मीडिया कंपनियों के साथ मिल कर इस पर अध्ययन किया। इसमें भारतीय मीडिया कंपनी 'द वायर' भी शामिल है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें