loader

यूनिफॉर्म सिविल कोड पर क्या शिया बोर्ड की राय अलग है ?

ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड ने पहली बार यूनिफॉर्म सिविल कोड (यूसीसी) पर अपनी राय खुलकर स्पष्ट की है। बोर्ड ने कहा है कि यूसीसी लाते वक्त मुसलमानों की धार्मिक आजादी का पूरा ख्याल रखा जाए। बोर्ड ने यह महत्वपूर्ण बयान बुधवार को लखनऊ में आयोजित अपनी कार्यकारी बैठक के बाद जारी किया है। 

शिया बोर्ड ने कहा कि मुसलमान देश के कानून का पालन करते हैं लेकिन उन्हें अपने धर्म का पालन करने की आजादी दी जानी चाहिए। बोर्ड ने कहा कि यूसीसी का पूरा ड्राफ्ट सार्वजनिक किया जाए, ताकि मुसलमान भी इस पर चर्चा कर सकें और अपनी राय दे सकें।

ताजा ख़बरें

शिया बोर्ड का यूसीसी पर यह बयान ऐसे वक्त में आया है जब देशभर के तमाम मुस्लिम संगठन यूसीसी को लेकर तमाम तरह की आशंकाएं जता रहे हैं। जमीयत उलेमा-ए-हिन्द 28 मई को देवबंद में इस मुद्दे पर बहुत बड़ा जलसा आयोजित करने जा रहा है, जिसमें अन्य मुस्लिम संगठनों को बुलाया गया है। शिया बोर्ड के बयान से यह संकेत मिल रहा है कि वो यूसीसी का विरोध करने से पहले उसमें क्या बातें हैं, उसे जानना चाहता है। उसने फिलहाल यूसीसी का सीधा विरोध नहीं किया। इस तरह अन्य मुस्लिम संगठनों और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के मुकाबले उसकी राय थोड़ा सा अलग है।

बहरहाल, शिया बोर्ड ने कहा कि वो बहुत जल्द इस संबंध में राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से मुलाकात करने वाला है। जिसमें मुसलमानों की तमाम समस्याओं को रखा जाएगा।

बोर्ड ने यह भी कहा कि प्लेसेज ऑफ वरशिप एक्ट 1991 (पूजा स्थल अधिनियम 1991) कायम रखा जाए और उसका किसी भी रूप में कहीं भी उल्लंघन न हो। 15 अगस्त 1947 की स्थिति को हर जगह उसी स्थिति में रखा जाए। तमाम ऐतिहासिक धरोहरों की सुरक्षा का इंतजाम किया जाए। शिया बोर्ड ने कहा कि ऐतिहासिक धरोहरों के रखरखाव के लिए अलग से एक कमेटी बनाई जाए।
बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना यासूब अब्बास ने कहा: देश में हालात तेजी से सांप्रदायिक होते जा रहे हैं। ऐसे में यह जरूरी है कि संविधान का पूरी तरह से पालन हो। हम राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को एक ज्ञापन देंगे कि सभी मस्जिदों और विरासत वाली धरोहरों का सर्वे करने जैसे सांप्रदायिक प्रयासों को रोका जाए।

ज्ञानवापी मस्जिद, ताजमहल, कुतुब मीनार, भोपाल की जामा मस्जिद और कर्नाटक में मलाली मस्जिद को लेकर उठ रहे विवादों के बीच शिया बोर्ड का यह रुख आया। शिया बोर्ड ने ज्ञानवापी में सर्वे को विरोध किया है।

मौलाना ने कहा, हमें हिंदुओं और मुसलमानों के बीच एकता बनाने के लिए एक समाज के रूप में काम करने की जरूरत है, न कि उन्हें बांटने की।

देश से और खबरें

हिजाब पर स्थिति साफ की

शिया बोर्ड ने हिजाब पर स्थिति स्पष्ट करते हुए कहा कि हिजाब मुस्लिम महिलाओं का एक आवश्यक धार्मिक पहनावा है। जहां तक स्कूल-कॉलेजों में हिजाब की बात है तो उसे यूनिफॉर्म के साथ मुस्लिम लड़कियों को पहनने की इजाजत दी जानी चाहिए। बता दें कि हिजाब के मुद्दे पर बीजेपी शासित कर्नाटक में काफी हंगामा हुआ। वहां हिजाब पहनकर स्कूल-कॉलेज आने वाली लड़कियों को रोक दिया गया। उन्हें परीक्षा देने से भी रोक दिया गया। कर्नाटक को देखकर कई और भी बीजेपी शासित राज्यों ने इस तरह के पहल की कोशिश की। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें