loader
फ़ोटो साभार: यू-ट्यूब/ श्याम रंगीला/ वीडियो ग्रैब

पेट्रोल के दाम 100 रुपये बताए तो श्याम रंगीला पर कार्रवाई!

यू-ट्यूब पर वीडियो बनाकर पेट्रोल की क़ीमत 100 रुपये बताना क्या अपराध है? आपको भले यह गुनाह नहीं लगे, लेकिन लगता है कॉमेडियन श्याम रंगीला के लिए मुश्किल खड़ी हो गई है। उन्होंने कहा है कि पेट्रोल की क़ीमतों पर मिमिक्री वाला वीडियो बनाने के लिए उनपर मुक़दमा दर्ज किया जा सकता है। वीडियो में जो पेट्रोल पंप दिखा उसको कथित तौर पर तेल की सप्लाई बंद कर दी गई है और लाइसेंस रद्द करने की धमकी दी गई है। यह बात ख़ुद श्याम रंगीला ने बताई है। एक और वीडियो बनाकर। कॉमेडी नहीं की है, बल्कि अपना डर बताया है। वह कहते हैं कि डर लग रहा है कि ‘मेरे फ़ोन की कंपनी कहीं केस न कर दे कि आपने हमारे कैमरे से वीडियो क्यों रिकॉर्ड किया।’

यह मामला पेट्रोल की क़ीमतें 100 रुपये प्रति लीटर से ज़्यादा होने पर बनाए गए उनके एक कॉमेडी वीडियो को लेकर है। 16 फ़रवरी को अपने यूट्यूब चैनल पर अपलोड किए गए वीडियो में श्याम रंगीला प्रधानमंत्री मोदी की मिमिक्री करते हुए पेट्रोल की क़ीमतों के 100 रुपये पार करने की बात कहते हैं। 2 मिनट 15 सेकंड के उस वीडियो में वह मिमिक्री करते हुए आख़िर में यह भी कहते हैं कि 'मेरा क्या है मैं झोला उठाकर चल दूँगा'। 

ताज़ा ख़बरें

यह वीडियो वायरल हो गया। इसके बाद 20 फ़रवरी को एक वीडियो जारी कर उन्होंने अपने पहले वाले वीडियो पर बयान जारी किया। वह बयान पेट्रोल की क़ीमतों को लेकर वीडियो बनाने से जुड़ा है। उस बयान में उन्होंने कहा है कि उस वीडियो के लिए उनकी मुश्किलें बढ़ रही हैं।

उन्होंने बयान में कहा है, ‘पता नहीं लोगों की कैसी-कैसी भावनाएँ हैं और कैसी-कैसी छवि है, इस वीडियो से कैसी-कैसी छवि को ठेस पहुँच जाती है। मुझे तो पता भी नहीं चलता।’ वह एक जगह कहते हैं, ‘मेरे को अजीब लगा। मैंने ग़लत क्या कहा था। मैंने किसी भी धर्म के ख़िलाफ़ टिप्पणी नहीं की, किसी भी धर्म-समुदाय पर जोक नहीं बनाया है। ऐसे जोक बनाता हूँ, ऐसी कॉमेडी करता हूँ कि लोगों को हंसी आए और दो-चार दिन में वायरल होकर बात ख़त्म हो जाए।'

इस नये वीडियो में उन्होंने पहले वाले वीडियो को लेकर सिलसिलेवार तरीक़े से घटनाक्रमों का ज़िक्र किया है। उन्होंने कहा, ‘मैं उस समय श्रीगंगानगर (राजस्थान) में था। और मैंने एक रैंडमली एक पेट्रोल पंप चुना और सोचा कि यहाँ वीडियो बना लेते हैं। मैं पेट्रोल पंप पर गया तो दो लोग थे। मैंने कहा कि भाई साहब मुझे वीडियो बनाना है। तो उन्होंने कहा कि आप हमारे सेठ जी से परमिशन ले लीजिए फ़ोन पर। ...मैंने सेठ जी को फ़ोन किया। तो सेठ जी ने कहा कि क्या करने वाले हो? मैंने कहा कि सर, वीडियो बनाना है। बोले- क्यों बनाना है? मैंने कहा कि सर 100 रुपये से ऊपर हो गया न पेट्रोल इसलिए बनाना है। कौन से चैनल के लिए बना रहे हो? मैंने कहा कि यू-ट्यूब चैनल के लिए। ठीक है बना लो।’
वीडियो बयान में श्याम रंगीला कहते हैं, ‘दूसरे दिन सेठ जी (पेट्रोल पंप संचालक) का फ़ोन आया। कहते हैं- यार क्या करके गए हो आप यहाँ पर? मैंने कहा कि सर क्या किया है? बोले आपने वीडियो बनाया है? मैंने कहा कि हाँ सर आपसे पूछा था न? आप तो 100 रुपये से ऊपर हो गए पेट्रोल इस पर बनाने वाले थे। मैंने कहा- हाँ सर मैंने इसीलिए बनाया है। कहा कि आप तो यूट्यूब के लिए बना रहे थे। मैंने कहा कि सर यू-ट्यूब के लिए ही बनाया है। कहते हैं कि यह वीडियो तो बहुत परेशान कर रहा है। मैंने कहा कि सर क्या परेशान कर रहा है? कहते हैं- नहीं, आपने ग़लत बनाया, हमारी छवि को ठेस पहुँची है, हमारी छवि ख़राब हुई है।’
इसके बाद रंगीला का कहना है कि उन्होंने कहा कि यदि उनकी छवि ख़राब हुई है तो उस वीडियो के चार सेकंड के शुरुआती हिस्से हटा देंगे और माफ़ी मांग लेंगे।

उन्होंने वीडियो बनाने के दौरान की घटना का ज़िक्र कर यह भी कहा, ‘मैंने जब वीडियो बनाया तब उन दोनों लड़कों (पेट्रोल पंप के कर्मियों) ने कहा कि जब आप हमारे पेट्रोल पंप पर आए हो वीडियो बनाने के लिए तो आप हमारे पेट्रोल पंप का नाम ज़रूर लेना वीडियो में। नाम दिखाना ज़रूर। मैंने कहा कि ठीक है भाई साहब। वैसे हम दिखाते नहीं हैं लेकिन आप बोल रहे हो तो दिखा देंगे। तो मैंने नाम दिखा दिया और वीडियो बना लिया। ... मैं वहाँ से चला गया।’

देश से और ख़बरें
श्याम रंगीला पेट्रोल पंप संचालक की शिकायतों का ज़िक्र करते हैं। वह वीडियो में कहते हैं, ‘(पेट्रोल पंप संचालक कहते हैं) मेरी छवि ख़राब हुई है। मुझे, चलिए, कोई प्रॉब्लम नहीं है, लेकिन जो हमारी कंपनी है उसको बहुत प्रॉब्लम है। और मुझे आपके ख़िलाफ़ कार्रवाई करनी पड़ेगी। मैंने कहा कि ठीक है सर, फिर आप देख लीजिए यदि आप कार्रवाई करना चाहते हैं तो कर लीजिए। मैं माफ़ी मांगने के लिए तैयार हूँ। माफ़ी इसलिए मांगने के लिए तैयार हूँ कि आपको परेशानी हुई है। इसलिए मांगने के लिए तैयार नहीं हूँ कि मेरे कंटेंट में कुछ दिक्कत है या मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए था। ....ऐसा नहीं है कि मैं वीडियो हटा दूँगा। वीडियो नहीं हट सकता है सर। ऐसा मैंने कुछ ग़लत बोला भी नहीं है।’

वह कहते हैं, ‘...लेकिन उनकी अपनी मजबूरियाँ हैं पेट्रोल पंप संचालक की। उनकी तेल की सप्लाई बंद कर दी गई है और उनको मुझपर कार्रवाई करनी पड़ेगी उसके बाद तेल की सप्लाई चालू होगी। और उनको लाइसेंस रद्द करने की भी धमकी मिली है ऊपर से, ऐसी मुझे सूचना मिली है।’

सम्बंधित खबरें

श्याम रंगीला को डर क्यों लगता है?

रंगीला कहते हैं, ‘तो मैं यह कहना चाहता हूँ कि मेरे उस वीडियो से किसकी छवि को ठेस पहुँच रही है? क्या उस पेट्रोल पंप को ठेस पहुँची है? या उस कंपनी को ठेस पहुँची है? और जबसे मुझे धमकी मिली है कि आप पर मुक़दमा हो जाएगा तब से ऐसा डर लगने लग गया है कि जब मैं अगला वीडियो रिकॉर्ड करूँगा तो जैकेट की कंपनी बोल देगी कि हमारी छवि को ठेस पहुँची है। वो साइकिल की कंपनी वाले केस न कर दें कि हमारी कंपनी की छवि को ठेस पहुँची है क्योंकि श्याम रंगीला इस पर चढ़ कर जा रहा था। मेरे जूते की कंपनी है, टी-शर्ट की कंपनी है, जिंस की कंपनी है। मेरे को डर लग रहा है कि मेरे फ़ोन की कंपनी है कहीं वह केस न कर दे कि आपने हमारे कैमरे से वीडियो क्यों रिकॉर्ड किया।’

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें