loader

कोरोना गया नहीं, शिमला पहुंच गए लोग, तीसरी लहर को दावत?

कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने देश को बुरी तरह तोड़कर रख दिया है लेकिन शायद हमारी अक्ल अभी भी दुरुस्त नहीं हुई है। कोरोना के मामले 1 लाख से कम क्या हुए, हजारों लोग छुट्टी मनाने शिमला पहुंच गए। 

इस भीड़ के पहुंचने के लिए इन लोगों से ज़्यादा जिम्मेदार हिमाचल की सरकार है जिसने बिना आरटी-पीसीआर टेस्ट के राज्य में किसी को भी आने की छूट दे दी है। बस नाम मात्र का लॉकडाउन या कोरोना कर्फ्यू है। लेकिन जब हजारों लोग वहां पहुंच गए हैं तो ऐसे लॉकडाउन का क्या मतलब है। 

हालात ये हैं कि शिमला में गाड़ियों का लंबा काफिला पहुंच गया और इस वजह से सड़कों पर कई किमी लंबा जाम लग गया। 

ताज़ा ख़बरें

लोगों के तर्क

अब इस मसले के अंदर कई बाते हैं। जैसे- हर साल गर्मियों की छुट्टी में बाहर जाने वाले लोग पिछले साल कोरोना और लॉकडाउन की वजह से नहीं जा पाए, इस साल के लिए तैयार थे तो दूसरी लहर आ गई। इस लहर के थमने तक वे इंतजार नहीं कर सके और निकल पड़े। उनका कहना है कि शहरों में जबरदस्त गर्मी है और साल भर की थकान को मिटाने का यही एक मौक़ा होता है। 

दूसरी बात ये है कि लोगों के बड़ी संख्या में पहुंचने से पिछले सीजन में भयंकर घाटा उठा चुके होटल और पयर्टन के कारोबारियों की जान में जान आई है। 

लेकिन हमें सोचना होगा कि डॉक्टर्स और तमाम फ्रंट लाइन वॉरियर्स ने अपनी जान जोखिम में डालकर देश को बचाया है। ऐसे में हमें कम से कम उनकी मेहनत, मुश्किलों का ध्यान तो रखना चाहिए। 

वैक्सीन लगवाना हो ज़रूरी

हिमाचल प्रदेश की सरकार को आरटी-पीसीआर टेस्ट तो ज़रूरी करना ही चाहिए इसके अलावा जिन लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज़ नहीं लगी हैं, उन्हें भी प्रदेश में नहीं आने देना चाहिए। ऐसे में जब देश के कई इलाक़ों से लोग वहां पहुंचेंगे तो कोरोना संक्रमण के बढ़ने से इनकार नहीं किया जा सकता। 

देश से और ख़बरें

वैज्ञानिक और सरकार भी तीसरी लहर के आने की बात कह चुके हैं लेकिन इसे रोकने के लिए इतनी कड़ाई तो होनी ही चाहिए कि टूरिज्म वाली जगहों पर उन्हीं लोगों को आने दिया जाए जिन्हें वैक्सीन की दोनों डोज़ लग चुकी हैं, जिससे पर्यटन उद्योग फिर से जिंदा भी हो सके और संक्रमण का ज़्यादा ख़तरा भी न हो। लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है और यह सीधे-सीधे आफत को दावत देने जैसा है। 

बात सिर्फ़ शिमला की नहीं है, इसी तरह देश के दूसरे पर्यटक स्थलों पर भी जाने की लोग कोशिश करेंगे और वहां भीड़ लग जाएगी। अच्छा यह होगा कि लोग वैक्सीन की दोनों डोज़ लगवा लें और दिसंबर के आख़िर तक जब अधिकतर आबादी को दोनों डोज़ लग चुकी होंगी तब ही घूमने के लिए बाहर निकलें। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें