loader

उद्धव ठाकरे : जेएनयू हमले से मुंबई आतंकवादी हमलों की याद आ गई

क्या जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय परिसर में रविवार रात को हुए हमलों की तुलना आतंकवादी हमले से की जा सकती है? क्या नकाबपोश गुंडों का यह हमला वैसा ही था, जैसा 26/11 को पाकिस्तान से आए आतंकवादियों ने मुंबई में किया था?

देश से और खबरें
यह सवाल बेहद अहम इसलिए है कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने जेएनयू हमले की तुलना मुंबई हमले से की है।

‘मुझे 26/11 के मुंबई आतंकवादी हमलों की याद आ गई। इन नकाबपोश हमलावरों के पीछे कौन लोग थे, इसकी जाँच की ज़रूरत है।’


उद्धव ठाकरे, मुख्यमंत्री, महाराष्ट्र

ठाकरे के कहने का क्या है मतलब?

उद्धव ठाकरे का यह कहना महत्वपूर्ण इसलिए है कि उनकी पार्टी शिवसेना कुछ हफ़्ते पहले तक उसी बीजेपी के साथ थी, जिसके छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद पर हमले का आरोप लगाया जा रहा है। यह मजेदार भी है क्योंकि शिवसेना और बीजेपी 25 साल तक चुनाव में एक साथ तो रहीं ही, उनके बीच सैद्धांतिक और वैचारिक समानता भी थे। दोनों ही उग्र हिन्दुत्व के समर्थक हैं और इस मामले में शिवसेना अधिक उग्र है। शिवसेना सांसद संजय राउत ने राज्यसभा में बहस के दौरान बीते दिनों बीजेपी पर तंज करते हुए कहा था, ‘आप जिस स्कूल के छात्र हैं, हम उसके हेडमास्टर हैं।’ 

निष्पक्ष न्यायिक जाँच हो : सोनिया

कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने भी इस वारदात की निष्पक्ष जाँच की माँग की है। सोनिया गाँधी ने एक बयान में कहा : भारत के युवाओं और छात्रों की आवाज़ को दबाया जा रहा है। मोदी सरकार की शह पर युवाओं पर गुंडों का भयानक और अभूतपूर्व हमला निंदनीय और एकदम अस्वीकार्य है। कल जेएनयू में छात्रों और शिक्षकों पर हुआ हाड़ कंपाने वाला हमला यह दिखाता है कि असहमति के हर स्वर को दबाने और कुचलने के लिए सरकार किस हद तक जा सकती है। छात्रों और युवाओं को उनकी क्षमता के अंदर शिक्षा, योग्यता के अनुसार नौकरी और लोकतांत्रिक व्यवस्था चाहिए। यह दुखद है कि सरकार उनकी आकांक्षाओं का गला दबा देना चाहती है। कांग्रेस पार्टी इन युवाओं के साथ मजबूती से खड़ी है। पार्टी इस सरकार-प्रायोजित हिंसा  की निंदा करती है और इस पूरे मामले की निष्पक्षल न्यायिक जाँच की माँग करती है। 

दिल्ली पुलिस को महिला आयोग का नोटिस

दिल्ली महिला आयोग की प्रमुख स्वाति मालीवाल ने इस मामले में दिल्ली पुलिस के आला अफ़सरों को तलब किया है। उन्होंने जेएनयू परिसर में छात्राओं पर हुए हमले की वजह से पुलिस को नोटिस जारी किया है। मालीवाल ने एफ़आईआर की विस्तृत रिपोर्ट माँगी है और पूछा है कि हमले की जानकारी देने के तुरन्त बाद पुलिस वहाँ क्यों नहीं गई। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें