loader

2021 में भारत में साल भर हुए अल्पसंख्यकों पर हमले: अमेरिका

अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने अपनी वार्षिक रिपोर्ट में कहा है कि भारत में साल 2021 में अल्पसंख्यकों पर लगातार हमले हुए। इस दौरान हत्याएं भी हुई और डराया-धमकाया भी गया। 

अमेरिका के विदेश मंत्रालय के द्वारा अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता को लेकर संसद को यह रिपोर्ट सौंपी गई है। 

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने इस रिपोर्ट को जारी करते हुए कहा कि यह रिपोर्ट दुनिया भर में धार्मिक स्वतंत्रता के उल्लंघन को लेकर अपना रुख बताती है। उन्होंने कहा कि इस रिपोर्ट में हर देश के बारे में अलग-अलग चैप्टर में बताया गया है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में धर्मस्थलों पर भी हमले हुए हैं। ब्लिंकन ने कहा कि अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों और महिलाओं को पाकिस्तान, अफगानिस्तान और चीन में भी निशाना बनाया जा रहा है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में अल्पसंख्यक समुदायों के लोगों पर हमले, हत्याएं, डराने धमकाने की घटनाएं साल भर होती रही। ऐसी घटनाओं में गौ हत्या या गौ मांस के व्यापार को लेकर गौ रक्षकों द्वारा गैर हिंदुओं पर हमले किए गए। 

ताज़ा ख़बरें

भागवत का बयान शामिल 

रिपोर्ट में आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत के उस बयान को भी शामिल किया गया है जिसमें भागवत ने कहा था कि भारत में हिंदुओं और मुसलमानों का डीएनए एक है और इन्हें धर्म के आधार पर अलग-अलग नहीं किया जाना चाहिए। 

US report on religious freedom Attacks On Minorities In India 2021 - Satya Hindi
रिपोर्ट में कहा गया है कि संघ प्रमुख ने कहा था कि मुसलिमों को इस बात से नहीं डरना चाहिए कि भारत में इस्लाम खतरे में है और गाय की हत्या के लिए किसी गैर हिंदू की हत्या कर देना हिंदू धर्म के खिलाफ है। 
अमेरिकी विदेश मंत्रालय की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में पुलिस ने मीडिया या सोशल मीडिया में हिंदुओं या हिंदू धर्म के खिलाफ टिप्पणी करने पर गैर हिंदुओं को गिरफ्तार कर लिया।

कई ऐसे एनजीओ जिनमें धार्मिक संगठन भी शामिल थे उन्होंने फॉरेन कंट्रीब्यूशन रेगुलेशन एक्ट एफसीआरए में साल 2020 में किए गए संशोधनों की आलोचना की, यह बात भी रिपोर्ट में कही गई है। 

केंद्र सरकार का इस मामले में कहना था कि एनजीओ को विदेशों से मिलने वाले धन की निगरानी के लिए उसने कानून को और मजबूत बनाया है।

बता दें कि 5789 एनजीओ जिनमें बड़ी संख्या में धार्मिक संगठन भी शामिल थे उनके एफसीआरए लाइसेंस को खत्म कर दिया गया था। केंद्र सरकार ने कहा था कि एनजीओ और संगठनों ने समय रहते हुए लाइसेंस के नवीनीकरण के लिए आवेदन नहीं किया था।

ब्लिंकन ने कहा कि अफगानिस्तान में तालिबान के आने के बाद धार्मिक स्वतंत्रता बुरी तरह से प्रभावित हुई है और महिलाओं और लड़कियों के बुनियादी अधिकारों जैसे पढ़ना, काम करना, समाज में जाने आदि पर हमला हुआ है।

इसके अलावा आईएसआईएस भी धार्मिक अल्पसंख्यकों विशेषकर शिया हजारा समुदाय के खिलाफ हमले कर रहा है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में साल 2021 में ईशनिंदा के आरोप में 16 नागरिकों को अदालतों के द्वारा मौत की सजा सुनाई गई। 

ब्लिंकन ने कहा कि अमेरिका पूरी दुनिया में धार्मिक स्वतंत्रता के मुद्दे पर आवाज उठाता रहेगा। 

देश से और खबरें

इससे पहले जब अमेरिका की ओर से धार्मिक स्वतंत्रता पर रिपोर्ट आई थी तो भारत ने इसे खारिज कर दिया था। भारत ने कहा था कि किसी भी विदेशी मुल्क की सरकार को कोई हक नहीं है कि वह किसी दूसरे मुल्क के नागरिकों के हकों को लेकर कोई टिप्पणी करे।

अखलाक, पहलू खान का मामला 

भारत में पिछले कुछ सालों में गौ मांस का व्यापार करने के शक में कई लोगों पर हमले हुए और कई लोगों की हत्याएं भी हुई। ऐसे पीड़ित लोगों में अधिकांश मुसलिम समुदाय के थे। कुछ साल पहले ग्रेटर नोएडा के बिसाहड़ा गांव में घर में गौ मांस रखे होने के शक में अखलाक नाम के शख्स की हत्या कर दी गई थी। इसी तरह गाय खरीद कर अपने घर ले जा रहे पहलू खान को भी अलवर में पीट-पीट कर मार डाला गया था ऐसे कई वाकए हुए और इनको लेकर मोदी सरकार की काफी आलोचना भी हुई।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें