loader
जेएनयू कैंपस में हिंसा की शिकार छात्रा। फोटो सोशल मीडिया

नॉन वेज खाने को लेकर जेएनयू में हिंसा, 16 घायल, मुकदमा दर्ज

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में रविवार रात को छात्र संगठनों के बीच हुई हिंसक झड़प में 16 छात्र घायल हुए हैं। घायल हुए छात्र जेएनयू छात्र संघ और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के हैं। दिल्ली पुलिस ने इस मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया है।

पुलिस ने जेएनयू छात्रसंघ, एसएफआई, बीएसएफ और आइसा की ओर से एबीवीपी के अज्ञात छात्रों के खिलाफ दी गई शिकायत के आधार पर विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस ने कहा है कि वह सुबूतों को इकट्ठा कर रही है और दोषियों की पहचान करने की कोशिश जारी है। वामपंथी छात्र संगठनों ने इस मामले में रविवार रात को दिल्ली पुलिस मुख्यालय पर प्रदर्शन भी किया है। 

जेएनयू के कावेरी हॉस्टल में कई लड़कियों को चोट आई है। जेएनयू में पहले भी एबीवीपी समर्थक छात्रों और लेफ्ट समर्थकों छात्रों के बीच हिंसा की घटनाएं हो चुकी हैं।

ताजा ख़बरें

ईटीवी भारत की रिपोर्ट और सोशल मीडिया पर जेएनयू के छात्रों द्वारा किए गए ट्वीट से पता चला है कि एबीवीपी के नेताओं ने रविवार को सभी मेस में चेतावनी दी थी कि रामनवमी वाले दिन किसी भी हॉस्टल में मांस नहीं परोसा जाएगा। मीट सप्लायर को ऐसे किसी नोटिस की जानकारी नहीं थी। जब वह मीट लेकर कावेरी हॉस्टल के मेस में पहुंचा तो एबीवीपी के नेता वहां पहुंच गए।

लेफ्ट समर्थक छात्राएं भी वहां आ गईं और उन्होंने एबीवीपी नेताओं के हंगामे का विरोध किया। आरोप है कि इसके बाद कावेरी हॉस्टल के पास कुछ लड़कियों को पीटा गया। घटना की जो फोटो शेयर की गई है, उसमें कई छात्राओं के सिर से खून टपकता हुआ दिखाई दे रहा है।

हालांकि मीट सप्लायर मीट लेकर चला गया और मेस में मीट नहीं बना, लेकिन इसके बावजूद कावेरी हॉस्टल के पास लड़कियों को पीटा गया।

जेएनयू में रविवार को मांसाहारी और शाकाहारी भोजन बनता है। लेकिन एबीवीपी ने चेतावनी दी थी कि आज मांसाहारी भोजन नहीं बनेगा। एबीवीपी का कहना है कि हमने कावेरी हॉस्टल में पूजा का कार्यक्रम रखा था। लेकिन रामनवमी की पूजा का अनादर करने के लिए वहां मेस में मांस मंगवाया गया। एबीवीपी समर्थकों का कहना है कि क्या कुछ लोग एक दिन के लिए मांस खाना नहीं छोड़ सकते। 

Violence over meat in JNU - Satya Hindi
जेएनयू में हिंसा की शिकार छात्रा को फर्स्ट ऐड देते साथी छात्र-छात्राएं। फोटो सोशल मीडिया

छात्रों ने इस घटना की शिकायत वाइस चांसलर से की है। उनका कहना है कि जिस तरह लड़कियों पर हमला किया गया है, वो चुप नहीं बैठेंगे और जेएनयू कैंपस में एबीवीपी की गुंडागर्दी को अब और बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें