loader

भारत में ओमिक्रॉन का नया वैरिएंट मिला; दुनिया भर में 30% केस बढ़े

भारत में पिछले एक दिन में कोरोना संक्रमण के 18,930 नए मामले सामने आए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को यह आँकड़ा साझा किया है। एक दिन पहले क़रीब 13 हज़ार केस थे। पिछले एक हफ़्ते में हर रोज़ औसत रूप से क़रीब 16 हज़ार मामले आए। एक हफ़्ते पहले औसत रूप से क़रीब 13 हज़ार मामले आ रहे थे। संक्रमण के मामले केवल भारत में ही नहीं बढ़ रहे हैं, बल्कि पूरी दुनिया में संक्रमण में उछाल दिख रहा है। पिछले दो हफ़्तों में दुनिया भर में क़रीब 30 फ़ीसदी मामले बढ़े हैं। तो क्या दुनिया कोरोना की एक नयी लहर की तरफ़ बढ़ रही है?

विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस एडनॉम घेब्रेयसस ने कहा है कि भारत जैसे देशों में ओमिक्रॉन वैरिएंट के एक नये सब-वैरिएंट BA.2.75 का पता चला है। वैसे, कोरोना मामलों के जानकार बताते रहे हैं कि जब भी कोई नयी लहर आती है तो उसमें एक नये वैरिएंट का हाथ होता है।

ताज़ा ख़बरें

बहरहाल, कोरोना के ताजा हालात पर डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने कहा है कि कोरोना को लेकर विश्व स्तर पर रिपोर्ट किए गए मामलों में पिछले दो हफ्तों में लगभग 30 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। इसने कहा है कि डब्ल्यूएचओ के 6 उप-क्षेत्रों में से चार में पिछले सप्ताह कोरोना मामलों में वृद्धि हुई।

उन्होंने कहा है कि यूरोप और अमेरिका में सब-वैरिएंट BA.4 और BA.5 से कोरोना की लहर आई है जबकि भारत जैसे देशों में BA.2.75 के एक सब-वैरिएंट का भी पता चला है। घेब्रेयसस ने कहा कि डब्ल्यूएचओ इस पर नज़र रख रहा है।

ओमिक्रॉन सब-वैरिएंट BA.2.75 के सामने आने पर डब्ल्यूएचओ की मुख्य वैज्ञानिक सौम्या स्वामीनाथन ने कहा है कि एक सब-वैरिएंट सामने आया है जिसे BA.2.75 कहा जा रहा है। उन्होंने कहा है कि यह पहली बार भारत से रिपोर्ट किया गया और फिर लगभग 10 अन्य देशों से। उन्होंने कहा कि विश्लेषण करने के लिए सब-वैरिएंट के बारे में अभी भी पूरी जानकारी नहीं है। 

स्वामीनाथन ने कहा है कि यह अभी भी पूरी तरह साफ़ नहीं है कि क्या इस सब-वैरिएंट में अतिरिक्त प्रतिरक्षा से बचने के गुण हैं या नहीं और वास्तव में यह कितना अधिक गंभीर है। डब्ल्यूएचओ की प्रमुख वैज्ञानिक ने कहा कि हम यह नहीं जानते तो हमें इंतजार करना होगा। उन्होंने कहा कि डब्ल्यूएचओ इसे ट्रैक कर रहा है और इसका तकनीकी सलाहकार समूह लगातार दुनिया भर के डेटा को देख रहा है।

बता दें कि दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र में जून की शुरुआत से मामले बढ़ रहे हैं। इस क्षेत्र में 1 लाख 57 हज़ार से अधिक नए मामले सामने आए थे, उसके पहले के सप्ताह की तुलना में 20% ज़्यादा था। सबसे अधिक नए मामले भारत में आए और यह संख्या 1 लाख 12 हज़ार थी।

देश से और ख़बरें
इस साल की शुरुआत में फरवरी महीने में आईआईटी कानपुर के शोधकर्ताओं ने एक आकलन में कहा था कि देश में कोरोना की चौथी लहर जून में आ सकती है। यह लहर 4 महीने तक रह सकती है।

हालाँकि जून का महीना ख़त्म हो गया और जुलाई शुरू हो गई है। शोध में दावा किया गया था कि भारत में जून के मध्य से जून के अंत तक चौथी लहर आ सकती है। अध्ययन का नेतृत्व आईआईटी कानपुर के गणित विभाग के सबरा प्रसाद राजेशभाई, सुभरा शंकर धर और शलभ ने किया। अध्ययन को MedRxiv में प्री-प्रिंट के रूप में प्रकाशित किया गया। 

शोधकर्ताओं ने कहा था कि डेटा बताते हैं कि भारत में कोरोना की चौथी लहर प्रारंभिक डेटा उपलब्ध होने की तारीख़ से 936 दिनों के बाद आएगी। देश में कोरोना संक्रमण का पहला मामला 30 जनवरी, 2020 को आया था। शोध में कहा गया है कि गंभीरता देश भर में टीकाकरण की स्थिति, कोरोना के नये वैरिएंट की प्रकृति पर निर्भर करेगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें