loader

आधार-वोटर कार्ड लिंक करने को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती क्यों, मंडे को सुनवाई

आधार और मतदाता पहचान पत्र को लिंक करने वाले विवादास्पद कानून को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है। कांग्रेस के रणदीप सिंह सुरजेवाला ने इसे रद्द करने की मांग की है। सुप्रीम कोर्ट सोमवार को मामले की सुनवाई करेगा।

याचिका में सुरजेवाला ने इस कानून को असंवैधानिक और निजता के अधिकार (राइट टु प्राइवेसी) और समानता (इक्वैलिटी) के अधिकार का उल्लंघन बताया है।

मोदी सरकार ने पिछले साल बहुत जल्दबाजी में इस कानून को पास कराया था। हालांकि उस समय भी विपक्ष ने सदन में इसका पुरजोर विरोध किया था लेकिन सरकार ने संख्या बल के दम पर इस कानून को पास करा लिया था।

मोदी सरकार ने पिछले साल बहुत जल्दबाजी में इस कानून को पास कराया था। हालांकि उस समय भी विपक्ष ने सदन में इसका पुरजोर विरोध किया था लेकिन सरकार ने संख्या बल के दम पर इस कानून को पास करा लिया था।

ताजा ख़बरें

क्यों हो रहा विरोध

देश के तमाम आधार कार्यकर्ता और नागरिक संगठन सरकार के इस कानून के खिलाफ हैं। उन्होंने इस कदम के बारे में खतरे की घंटी बजाई है। उनका कहना है कि इससे तमाम नाम मतदाता सूची से बाहर हो सकते हैं और सरकार डेटा की गोपनीयता से समझौता कर सकती है। यानी जनता का डेटा गोपनीय नहीं रह जाएगा। हालांकि जनता का डेटा पहले ही सरकार की कमियों और लापरवाही की वजह से तमाम अवांछित लोगों तक पहुंच चुका है।

आधार को मतदाता पहचान पत्र से लिंक करने का जोर कोई नई बात नहीं है। चुनाव आयोग ने 2015 से ही दोनों को लिंक करना शुरू कर दिया था। हालांकि आधार की संवैधानिकता के एक मामले के तहत सुप्रीम कोर्ट ने इस पर रोक लगा दी थी, लेकिन तब तक चुनाव आयोग ने लगभग 30 करोड़ आईडी को लिंक करने की प्रक्रिया पूरी कर ली थी।

2015 में, जब चुनाव आयोग ने आधार को मतदाता पहचान पत्र सूची से जोड़ा, तो दो राज्यों, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के मतदाता डेटाबेस से लगभग 55 लाख नाम हटा दिए गए थे। यहां यह बताना जरूरी है कि 2014 में बीजेपी सरकार केंद्र की सत्ता में आई तो उसने चुनाव आयोग से इस पर काम करने को कहा था। तब तक कानून भी नहीं बना था। चुनाव आयोग में गुजरात काडर के अधिकारी आए। आयोग ने 2015 से इस पर काम शुरू कर दिया था जबकि मोदी सरकार ने कानून 2021 में बनाया।
सरकार के इस कानून को लेकर गोपनीयता और मतदाताओं के नाम में हेराफेरी की आशंका ज्यादा शामिल है। क्योंकि आधार से जुड़ा बड़ी संख्या में व्यक्तिगत डेटा अब चुनाव आयोग के मतदाता डेटाबेस से जुड़ा होगा।

अगस्त 2015 में, सुप्रीम कोर्ट ने आधार की संवैधानिकता पर एक याचिका पर सुनवाई करते हुए, सार्वजनिक वितरण योजना, खाना पकाने के तेल और एलपीजी वितरण योजना के अलावा किसी अन्य उद्देश्य के लिए आधार के उपयोग पर रोक लगाने वाला एक अंतरिम आदेश पारित किया था। लेकिन स्क्रॉल.इन की जांच के मुताबिक इस तीन महीने की अवधि के दौरान लगभग 30 करोड़ मतदाता पहचान पत्रों को आधार से जोड़े जाने की खबरें थीं।

देश से और खबरें
इस जुड़ाव का असर तीन साल बाद 2018 में तेलंगाना में हुए विधानसभा चुनाव में देखने को मिला। मतदान के दिन लाखों मतदाताओं ने अपना नाम मतदाता सूची से गायब पाया। विपक्ष के मुताबिक राज्य में 27 लाख वोटरों के नाम काटे जा चुके हैं। हटाए गए नामों के कुछ अनुमान 30 लाख तक गए। ये मतदाता आधार का लगभग 10% है।
यहां तक ​​कि आंध्र प्रदेश में भी 3.71 करोड़ मतदाताओं के कुल मतदाता आधार में से लगभग 20 लाख मतदाताओं का नाम गायब पाया गया। हालांकि इस कमी की वजह को ढेरों तर्कों के जरिए काउंटर किया गया।  
हालांकि, मीडिया जांच में इन दावों का विश्लेषण किया गया और पाया गया ये गड़बड़ी बड़े पैमाने पर आधार और वोटर आईडी डेटाबेस को जोड़ने के कारण हुई। 2018 में, तेलंगाना के एक पूर्व मुख्य चुनाव अधिकारी रजत कुमार ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि एक नया सॉफ्टवेयर जो दो डेटाबेस को जोड़ने के लिए इस्तेमाल किया गया था, इस गड़बड़ी में शामिल था। सूचना के अधिकार की रिपोर्ट से पता चला कि जिन मतदाताओं के नाम हटाए जाने थे, उनका घर-घर जाकर सत्यापन तक नहीं किया गया था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें