loader

राजस्थान: सीएम पद पर खींचतान, कांग्रेस अभियान बेपटरी?

राजस्थान में हर पांच साल में सत्ता परिवर्तन की परंपरा के चलते कांग्रेस को बड़ी उम्मीदें हैं। सभी ओपिनियन पोल में भी पार्टी स्पष्ट बहुमत पाती दिख रही है। जीत के प्रति अाश्वस्त दिख रही पार्टी में इसका उत्साह तो है, लेकिन मुख्यमंत्री की उम्मीदवारी पर ‘खींचतान’ से कार्यकर्ता दो खेमे में बंटते दिख रहे हैं। कभी सचिन पायलट का नाम आ रहा है तो कभी अशोक गहलोत का। एक बार सीपी जोशी का भी नाम उछाला गया था। हालांकि, पार्टी के अंदर और बाहर भी अब दो नामों की ही चर्चा चल रही है।  अशोक गहलोत ने हाल ही में एक बयान दिया और इससे मामले ने तूल पकड़ लिया। 
अशोक गहलोत ने कहा कि वे 10 साल राजस्थान के मुख्यमंत्री रहे हैं और ऐसे में मुख्यमंत्री के चेहरे की ज़रूरत कहां है। इस बयान के बाद तो राज्य कांग्रेस प्रमुख सचिन पायलट ने भी जवाब दिया कि भ्रम में किसी को नहीं रहना चाहिए।
पायलट ने गहलोत के अनुभवों से सीख लेने की बात कही। उन्होंने यह भी कहा कि केवल एक नेता के दम पर पार्टी नहीं जीत सकती। इस वार-पलटवार की पार्टी में भी जबरदस्त चर्चा रही। पार्टी कार्यकर्ता दो खेमों में बंटते दिखे। हालांकि बाद में गहलोत ने इसका खंडन किया और कहा कि जिसे कांग्रेस अालाकमान चाहेंगे वही सीएम बनेगा।
Will rift in Congress over Rajasthan CM candidate affect the performance of party in elections - Satya Hindi

आलाकमान किसे चाहता है?

पार्टी आलाकमान तो नाम नहीं बता रहा है। लेकिन ख़बर है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मुख्यमंत्री पद के लिए सचिन पायलट को तरज़ीह देते हैं। हालांकि. वरिष्ठ नेता व कार्यकर्ता चाहते हैं कि पार्टी अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री के चेहरे के रूप में पेश करे। लेकिन युवा नेता व कार्यकर्ता चाहते हैं कि जब चुनाव की कमान सचिन पायलट के हाथों में है तब सचिन को ही मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित किया जाए। इस स्थिति को पार्टी के अालाकमान भी समझते हैं। इसीलिए वे किसी एक को चेहरा बनाकर दूसरे गुट से नाराज़गी नहीं लेना चाहते हैं। राजस्थान कांग्रेस का कहना है कि पार्टी में चुनाव पूर्व मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित करने की परंपरा नहीं है।

प्रभावित होगा परिणाम?

मुख्यमंत्री चेहरे को लेकर दो दिग्गजों के बीच खींचतान पर पार्टी सफ़ाई देती फिर रही है। इससे साफ़ है कि उसे इसके नुकसान की अाशंका है। चुनाव विश्लेषक भी मानते हैं कि किसी पार्टी में गुटबाज़ी से मतदाताओं में ग़लत संदेश जाता है। कई मतदाता मुख्यमंत्री के चेहरे पर ही वोट देने जाते हैं। दो नेताओं के बीच खींचतान की स्थिति में कई वोटर आखिरी पल में भी पाला बदल लेते हैं। इन्हीं आशंकाओं के बीच पार्टी के प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे से लेकर अशोक गहलोत और सचिन पायलट तक पार्टी में एक होकर चुनाव लड़ने की बात कर रहे हैं। मुख्यमंत्री की दावेदारी पर खींचतान को लेकर अविनाश पांडे ने तो कहा था कि ऐसे बयानों से नेता पार्टी को धोखा दे रहे हैं, गद्दारी कर रहे हैं। राहुल गांधी भी पार्टी में एकजुटता दिखाने के लिए जुटे हुए हैं।
Will rift in Congress over Rajasthan CM candidate affect the performance of party in elections - Satya Hindi

राहुल ने मिलवाया था गले

पार्टी में खींचतान के बीच ही कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को हालात सुधारने के लिए उतरना पड़ा था। उन्होंने पिछले दिनों जयपुर में रोड शो किया और सभा में सभी कांग्रेस नेताओं की उपस्थिति में उन्होंने पायलट और अशोक गहलोत को हाथ मिलाने और गले लगने को कहा। दोनों नेता गले मिले। गहलोत के जन्मदिन पर सचिन पायलट ने उन्हें बधाई दी थी और राजस्थान में इसकी ख़ूब चर्चा रही थी।ओपिनियन पोल में बीजेपी के ख़िलाफ़ जबर्द़स्त एंटी इन्कंबेंसी होने और कांग्रेस के बढ़िया प्रदर्शन की बात कही जा रही है। फ़िलहाल, कांग्रसे ने मुख्यमंत्री के दावेदार की घोषणा नहीं की है। ऐसे में यदि कांग्रेस के दो दिग्गज नेताओं के बीच खींचतान होती भी है तो इसका चुनाव नतीज़ों पर कितना प्रभाव होगा यह तो चुनाव के बाद ही साफ़ हो पाएगा।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें