loader

20 लाख करोड़ के पैकेज को चिदंबरम ने बताया, ‘बड़ी हेडलाइन वाला कोरा काग़ज़’

पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नए आर्थिक पैकेज की आलोचना करते हुए इसे ‘कोरा काग़ज़’ क़रार दिया है।
मंगलवार को एलान किए गए इस पैकेज के तहत 20 लाख करोड़ रुपए की आर्थिक मदद देने का दावा किया गया है, जो सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी का लगभग 10 प्रतिशत होगा।
अर्थतंत्र से और खबरें
लेकिन इस पैकेज का लगभग आधा हिस्सा तो पहले के पैकेज और रिज़र्व बैंक के एलानों के रूप में दिया जा चुका है। 

कोरा काग़ज़?

मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के नेता और डॉक्टर मनमोहन सिंह की सरकार में वित्त मंत्री रहे चिदंबरम ने कटाक्ष करते हुए कहा कि यह पैकेज ‘बड़ी हेडलाइन है, जिसके साथ कोरा काग़ज़ दिया गया है।’

उन्होंने ट्वीट कर कहा,  ‘कल प्रधानमंत्री ने हमें बड़ी हेडलाइन के साथ खाली पेज थमा दिया। स्वाभाविक है कि इस मेरी प्रतिक्रिया भी खाली ही रहती।’
चिदंबरम ने इसके आगे कहा : 

‘हम उम्मीद करते हैं कि आज वित्त मंत्री इस खाली पेज को भर देंगी। हम सावधानीपूर्वक हर उस रुपये पर नज़र रखेंगे जो वास्तव में वह अर्थव्यवस्था में डालेंगी।’


पी. चिदंबरम, पूर्व वित्त मंत्री

पूर्व वित्त मंत्री ने ट्वीट कर कहा, ‘हम उम्मीद करते हैं कि आज वित्त मंत्री इस खाली पेज को भर देंगी। हम सावधानीपूर्वक हर उस रुपये पर नज़र रखेंगे जो वास्तव में वह अर्थव्यवस्था में डालेंगी।’,
पी चिंदबरम ने यह स्पष्ट कर दिया कि उनकी नज़र वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की घोषणा पर है और वह यह देखेंगे कि इस प्रस्तावित पैकेज में वास्तव में किसको कितना मिलता है। उन्होंने कहा : 

‘हम इस पर सावधानीपूर्वक नज़र रखेंगे कि किसको क्या मिलता है। सबसे पहले हमारी नज़र इस पर होगी हज़ारों किलोमीटर पैदल चल कर घर पहुँचने वाले भूखे, ग़रीब, फटेहाल प्रवासी मज़दूरों को क्या मिलता है।’


पी. चिदंबरम, पूर्व वित्त मंत्री

फ़ेडरेशन ऑफ़ इंडियन चैंबर्स ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज़ (फ़िक्की) ने प्रधानमंत्री के एलान का स्वागत किया। उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि इस पैकेज से ‘देश को आत्मनिर्भर बनाने में बहुत ही मदद मिलेगी।’
Satya Hindi Logo लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा! गोदी मीडिया के इस दौर में पत्रकारिता को राजनीति और कारपोरेट दबावों से मुक्त रखने के लिए 'सत्य हिन्दी' के साथ आइए। नीचे दी गयी कोई भी रक़म जो आप चुनना चाहें, उस पर क्लिक करें। यह पूरी तरह स्वैच्छिक है। आप द्वारा दी गयी राशि आपकी ओर से स्वैच्छिक सेवा शुल्क (Voluntary Service Fee) होगा, जिसकी जीएसटी रसीद हम आपको भेजेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें