loader

महंगाई: खाने के तेल के दाम 11 साल में सबसे ज़्यादा

मूंगफली, सरसों, वनस्पति, सोया, सूरजमुखी और पाम के पैक किए हुए खाने वाले तेल के दाम इस महीने पिछले एक दशक में रिकॉर्ड स्तर पर पहुँच गये हैं। इन खाद्य तेलों की मासिक औसत खुदरा क़ीमतें निकालकर इसकी तुलना की गई है। यह आधिकारिक आँकड़ा ही है।  

आम उपभोक्ता पर तो इसका भार पड़ ही रहा है, सरकार के लिए भी मुश्किल बढ़ती जा रही है। यह सरकार के लिए भी कितनी बड़ी सिरदर्दी है यह इससे समझा जा सकता है कि सोमवार को खाद्य और सार्वजनिक वितरण विभाग ने सभी हितधारकों के साथ बैठक की। विभाग ने राज्यों और इस व्यवसाय वाले लोगों से खाद्य तेलों की क़ीमतों को कम करने के लिए हर संभव क़दम उठाने को कहा।

ताज़ा ख़बरें

सरकार को भी पता है कि यदि बढ़ती महंगाई पर काबू नहीं पाया तो राजनीतिक नुक़सान हो सकता है। ऐसा इशारा खाद्य और सार्वजनिक वितरण विभाग की उस बैठक वाले बयान में भी दिया गया है। 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार बयान में कहा गया है, 'बैठक आयोजित करने की आवश्यकता इसलिए भी महसूस की गई क्योंकि केंद्र पिछले कुछ महीनों के दौरान खाद्य तेल की अंतरराष्ट्रीय क़ीमतों में वृद्धि की तुलना में भारत में खाद्य तेल की क़ीमतों में आनुपातिक वृद्धि से अधिक चिंतित था।'

रिपोर्ट के अनुसार, राज्य के नागरिक आपूर्ति विभागों द्वारा उपलब्ध कराए गए और केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय की वेबसाइट पर उपलब्ध आंकड़ों से पता चलता है कि छह खाद्य तेलों की अखिल भारतीय मासिक औसत खुदरा क़ीमतें जनवरी 2010 के बाद से अपने उच्चतम स्तर पर पहुँच गई हैं।
सरसों के पैक तेल का मासिक औसत खुदरा मूल्य इस साल मई में अब तक के सबसे ज़्यादा 164.44 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुँच गया, जो पिछले साल मई में 118.25 रुपये की तुलना में 39 प्रतिशत अधिक है।

इस साल अप्रैल में इस तेल की क़ीमत 155.39 रुपये प्रति किलो थी। मई 2010 में तेल सबसे सस्ता था, जब यह आँकड़ा 63.05 रुपये प्रति किलोग्राम था।

पाम ऑयल (पैक) का मासिक औसत खुदरा मूल्य इस साल मई में 131.69 रुपये प्रति किलोग्राम है। यह पिछले 11 वर्षों में सबसे अधिक है। मूंगफली का तेल 175.55 रुपये प्रति किलो, वनस्पति 128.7 रुपये प्रति किलो, सोया 148.27 रुपये प्रति किलो और सूरजमुखी का तेल 169.54 रुपये प्रति किलो की मासिक औसत खुदरा क़ीमतें भी मई में अपने उच्चतम स्तर पर पहुँच गईं। 

खाना पकाने के तेलों की क़ीमतों में वृद्धि महामारी और विभिन्न राज्यों में लॉकडाउन के बीच हुई है जिसने आर्थिक गतिविधियों को प्रभावित किया है। 

अर्थतंत्र से और ख़बरें

बता दें कि मार्च में ख़बर आई थी कि खाने के तेल की क़ीमतें पिछले एक साल में 25 फ़ीसदी से लेकर 50 फ़ीसदी तक महंगी हो गई थी।  

मूंगफली तेल का मॉडल (आम इस्तेमाल का तेल) मूल्य 9 मार्च, 2020 को 120 रुपये प्रति लीटर से बढ़कर इस साल मार्च में 170 रुपये हो गया था। पिछले एक साल में पैक सरसों के तेल का मॉडल मूल्य 113 रुपये प्रति लीटर से बढ़कर 140 रुपये हो गया था। इस अवधि के दौरान पाम ऑयल के मॉडल की क़ीमत में भी 50% की वृद्धि हुई थीं, जो 85 रुपये से बढ़कर 122 रुपये प्रति लीटर हो गया था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें