loader

दिल्ली में पेट्रोल की क़ीमतें आसमान पर, डीजल भी महंगा

2014 के लोकसभा चुनाव से पहले पेट्रोल-डीजल की क़ीमतों को लेकर तत्कालीन यूपीए सरकार पर बरसने वाली बीजेपी के राज में ईंधन के दाम आसमान छू रहे हैं। गुरूवार को मुंबई में पेट्रोल 90.83 रुपये प्रति लीटर और डीजल 81.07 रुपये प्रति लीटर की क़ीमत पर बिका। जबकि दिल्ली में पेट्रोल 84.20 रुपये और डीजल 74.38 रुपये प्रति लीटर की क़ीमत पर बिका। राजधानी में पेट्रोल की ये अब तक सबसे ज़्यादा क़ीमत है। गुरूवार को दिल्ली में पेट्रोल की क़ीमत में 23 पैसे और डीजल की क़ीमत में 26 पैसे की बढ़ोतरी की गई। 

इससे पहले दिल्ली में 4 अक्टूबर, 2018 को पेट्रोल 84 रुपये और डीजल 75.45 रुपये प्रति लीटर तक पहुंचा था। मुंबई में 4 अक्टूबर, 2018 को पेट्रोल की क़ीमत 91.34 रुपये प्रति लीटर तक पहुंची थी, जो सबसे ज़्यादा थी। 

ताज़ा ख़बरें

इंडियन ऑइल कॉर्पोरेशन, भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन ने बुधवार से क़ीमतों में बढ़ोतरी की। हालांकि बीते कुछ दिनों से यह रुकी हुई थी। बुधवार को पेट्रोल की क़ीमत में 26 पैसे और डीजल की क़ीमत में 25 पैसे की बढ़ोतरी हुई थी। 

fuel price hike in india - Satya Hindi
हालांकि सरकार ने पेट्रोल और डीजल की एक्साइज ड्यूटी में 1.50 रुपये प्रति लीटर की कटौती की है। लेकिन साल 2020 के मार्च और मई में सरकार ने पेट्रोल और डीजल में क्रमश: 13 और 15 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी की थी। इससे उसे 1.6 लाख करोड़ के अतिरिक्त राजस्व का फ़ायदा हुआ था। मई, 2020 के बाद पेट्रोल की क़ीमत में 14.54 प्रति लीटर और डीजल की क़ीमत में 12.09 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है। 
कोरोना महामारी को रोकने के लिए लगे लॉकडाउन के कारण देश की अर्थव्यवस्था को तगड़ा झटका लगा था और सरकार के पास पैसे आने के रास्ते बंद थे। देश रुका हुआ था। तब उसने पेट्रोल-डीज़ल पर एक्साइज ड्यूटी बढ़ा दी थी।

पेट्रोल से ज़्यादा महंगा डीजल 

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में एक ऐसा दौर भी आया जब डीज़ल का दाम पहली बार पेट्रोल से ज़्यादा हो गया था। ऐसा जून, 2020 में हुआ था। कांग्रेस ने पूछा था कि जब अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चा तेल (क्रूड ऑयल) 107 डॉलर प्रति बैरल पर था, तब भारत में पेट्रोल 71.41 और डीज़ल 55.49 रुपये का मिल रहा था और जून में जब क्रूड ऑयल का दाम 42.41 डॉलर प्रति बैरल पर था, तब पेट्रोल 79.76 और डीज़ल 79.88 पर बिक रहा था, आख़िर ऐसा क्यों है। 

सरकार को इस बात का जवाब देना चाहिए कि अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल के दाम कम होने के बाद भी देश में पेट्रोल और डीजल की क़ीमतें कम क्यों नहीं हुईं जबकि अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल की क़ीमत बढ़ते ही हमारे वहां ईंधन के दाम बढ़ जाते हैं। 

अर्थतंत्र से और ख़बरें

एक्साइज ड्यूटी में हो कटौती

जब देश की आम जनता पेट्रोल-डीजल की बेतहाशा बढ़ती क़ीमतों के कारण त्राहि-त्राहि कर रही है, ऐसे में सरकार को एक्साइज ड्यूटी में कटौती करके जनता को राहत देने की कोशिश करनी चाहिए। 

इसके अलावा जब अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल की क़ीमतें कम हों तो उस हालत में जनता को उसका फ़ायदा मिलना चाहिए जो कि नहीं होता। ऐसे में बीजेपी से लोग लगातार सवाल पूछ रहे हैं कि उसके पेट्रोल-डीजल को कम करने के दावे क्या पूरी तरह झूठ पर आधारित थे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें