loader

ज़ुकरबर्ग की फ़ेसबुक और मुकेश अंबानी की जियो साथ आकर क्या क्रांति कर लेंगी?

फ़ेसबुक और रिलायंस जियो ने एक सौदा किया है। इसमें फ़ेसबुक 5.7 बिलियन डॉलर यानी क़रीब 43,570 करोड़ रुपये रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की सहायक कंपनी जियो प्लेटफार्म्स में निवेश करेगी। ज़ाहिर है इस सौदे से दोनों कंपनियाँ मुनाफ़ा कमाएँगी, पर एक साथ आने का मक़सद क्या है? क्या इसका राज़ उसमें छुपा है जिसमें दोनों कंपनियों की ओर से कहा गया है कि वे भारत के डिजिटल परिवर्तन में जुटेंगी? ये डिजिटल परिवर्तन में क्या क्रांति करेंगी?

इस सवाल का जवाब ढूँढना है तो इन दोनों कंपनियों के बीच इस सौदे पर मुहर लगने से पहले उस ख़बर को देख लें जिसमें सरकार ने वाट्सएप को डिजिटल भुगतान सेवा के लिए मंज़ूरी दे दी है। यानी वाट्सएप में अब पेटीएम और गूगल पे की तरह डिजिटल भुगतान की सुविधा होगी। फ़ेसबुक की ओर से भी कहा गया है कि कंपनी वाट्सएप और रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के ई-कॉमर्स जियोमार्ट पर ध्यान केंद्रित करेगी। वाट्सएप फ़ेसबुक इंक कंपनी का ही एक हिस्सा है। वाट्सएप का इस्तेमाल पूरे देश में कितना होता है, शायद यह बताने की ज़रूरत नहीं है। और जियो प्लेटफार्म्स तमाम प्रकार की डिजिटल सेवाएँ प्रदान करती है। इसके ग्राहकों की संख्या 38.8 करोड़ से अधिक है। ऐसे में दोनों कंपनियों को साथ आने में बड़े फ़ायदे की एक संभावना दिखी। 

ताज़ा ख़बरें

इसी फ़ायदे की बात फ़ेसबुक के प्रमुख मार्क ज़ुकरबर्ग और रिलायंस जियो के प्रमुख मुकेश अंबानी के बयानों में भी दिखी। दोनों उद्योगपतियों ने सौदा तय होने पर बयान जारी किया है। 

मार्क ज़ुकरबर्ग ने अपने फ़ेसबुक पेज पर लिखा है, 'फ़ेसबुक जियो प्लेटफॉर्म के साथ काम कर रही है - हम एक वित्तीय निवेश कर रहे हैं, और इससे भी अधिक हम कुछ प्रमुख परियोजनाओं पर एक साथ काम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं जो पूरे भारत में लोगों के लिए व्यापार के अवसर खोलेगी'। 

ज़ुकरबर्ग ने यह भी कहा कि देश एक बड़े डिजिटल बदलाव के बीच में है और जियो जैसे संगठनों ने करोड़ों भारतीयों, छोटे व्यवसायों को ऑनलाइन करने में बड़ी भूमिका निभाई है।

रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रमुख मुकेश अंबानी ने भी कुछ ऐसे ही डिजिटल बदलाव की बात कही। उन्होंने कहा, 'इस साझेदारी के मूल में मार्क ज़ुकरबर्ग और मेरे बीच में भारत के डिजिटल परिवर्तन के लिए प्रतिबद्धता है जो एक समान है।'

मुकेश अंबानी ने कहा कि फ़ेसबुक और जियो के बीच सौदे से देश भर में क़रीब तीन करोड़ किराना स्टोर वालों को फ़ायदा मिलेगा और उन्हें डिजिटल टेक्नोलॉजी रोज़गार के अवसर उत्पन्न करने में मदद करेगी। 

मार्क ज़ुकरबर्ग ने भी कहा कि भारत में क़रीब छह करोड़ छोटे-छोटे उद्योग धंधे हैं और यह डिजिटल भुगतान के लिए काफ़ी बड़ी संख्या है।

अर्थतंत्र से और ख़बरें
बता दें कि इस बड़े सौदे के बाद फ़ेसबुक अब जियो की सबसे बड़ी शेयरहोल्डर बन गई है। रिलायंस के एक बयान में कहा गया है कि ​जियो प्लेटफार्म्स में फेसबुक की हिस्सेदारी 9.99 प्रतिशत होगी। इस सौदे से रिलायंस इंडस्ट्रीज समूह को अपने कर्ज का बोझ कम करने में मदद मिलेगी तथा फ़ेसबुक की भारत में स्थिति और मजबूत होगी। उसके लिए उपयोगकर्ताओं आधार के लिहाज से भारत इस समय भी सबसे बड़ा बाज़ार है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें