loader

शहीद कर्नल आशुतोष शर्मा आख़िरी समय तक बहादुरी से लड़े

जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा में शहीद होने वाले पाँच जवानों में से एक कर्नल आशुतोष शर्मा अपनी जान की परवाह किए बिना बंधक बनाए गए नागरिकों को छुड़ाने के लिए आतंकवादियों की माँद में घुस गए थे। वह आख़िरी समय तक आतंकवादियों के ख़िलाफ़ बहादुरी से लड़ते रहे।  

कर्नल आशुतोष शर्मा सेना के 21 राष्ट्रीय राइफ़ल्स यूनिट के कमांडिंग अफ़सर थे। आतंकवाद के ख़िलाफ़ मिशन में अनुकरणी बहादुरी के लिए उन्हें दो बार शौर्य पुरस्कार मिला। इनमें से एक बार तो यह सम्मान कमांडिंग अफ़सर रहने के दौरान बहादुरी दिखाने के लिए मिला था। कर्नल शर्मा ने तब एक आतंकवादी से कई सुरक्षा कर्मियों की जानें बचाई थीं। आतंकवादी कपड़ों में ग्रेनेड छुपाकर जवानों के क़रीब जा रहा था। तब उस आतंकवादी को जवानों के बीच पहुँचने से पहले ही मार गिराया था। इससे सेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस के कई जवानों की जानें बच गई थीं क्योंकि एक बार यदि वह आतंकवादी जवानों के बीच पहुँचकर ग्रेनेड को फोड़ देता तो बड़ा नुक़सान हो सकता था। 

ताज़ा ख़बरें

कर्नल शर्मा काफ़ी लंबे समय से कश्मीर घाटी में तैनात थे। कश्मीर घाटी में तैनात श्रेष्ठ कमांडिंग अफ़सरों में उनकी गिनती थी। आतंकवाद के ख़िलाफ़ अभियान में हमेशा उन्होंने अपनी टीम का आगे रहकर नेतृत्व किया। ऐसा ही हंदवाड़ा में भी हुआ। हंदवाड़ा के चांजमुल्ला इलाक़े में आतंकियों की मौजूदगी की जानकारी मिलने के बाद सुरक्षा बलों ने साझा ऑपरेशन चलाया। इसमें सेना की राष्ट्रीय रायफल्स और जम्मू-कश्मीर पुलिस के जवान शामिल हुए। नागरिकों को आज़ाद कराने के लिए सेना के कर्नल आशुतोष शर्मा, मेजर अनुज सूद, नायक राजेश व लांस नायक दिनेश और जम्मू-कश्मीर पुलिस के एक सब-इंस्पेक्टर शकील क़ाज़ी आतंकवादियों द्वारा कब्जा किए गए घर में घुसे।

जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें

इस दौरान एक-एक करके घर में बंधक बनाए गए सभी नागरिकों को सुरक्षित निकाल लिया गया। जांबाजों ने पहले नागरिकों को सुरक्षित किया। लेकिन इस दौरान बहादुर जवानों को भी कई गोलियाँ लग गईं। बता दें कि इस मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए हैं।

'एएनआई' के अनुसार, कर्नल आशुतोष शर्मा पिछले पाँच साल में सेना में कर्नल रैंक के पहले ऐसे अफ़सर हैं जो आतंकवादियों के ख़िलाफ़ मुठभेड़ में शहीद हुए हैं। इससे पाँच साल पहले जनवरी 2015 में कर्नल एम एन राय कश्मीर घाटी में एक अभियान में शहीद हुए थे और उसी साल नवंबर में कर्नल संतोष महादिक भी शहीद हुए थे।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें