loader

जम्मू-कश्मीर: आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में कर्नल और मेजर शहीद

जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा ज़िले में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में एक कर्नल और एक मेजर सहित पाँच जवान शहीद हो गए। इसमें जम्मू-कश्मीर पुलिस का एक सिपाही और सेना के दो जवान भी शामिल हैं। आतंकवादियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई में दोनों तरफ़ से ज़बरदस्त गोलीबारी हुई। दो आतंकवादियों को ढेर कर दिया गया।  

आधिकारिक बयान में कहा गया है कि उत्तरी कश्मीर के हंदवाड़ा क्षेत्र में सेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस की अतंकवाद विरोधी संयुक्त कार्रवाई शनिवार को शुरू हुई थी। सुरक्षा बलों ने कई नागरिकों को वहाँ से सकुशल निकालने में सफलता पाई। पुलिस महानिदेशक दिलबाग़ सिंह ने कहा है कि बहादुरी से लड़ते हुए कर्नल आशुतोष शर्मा, मेजर अनुज सूद और जम्मू-कश्मीर पुलिस के सब-इंस्पेक्टर शकील क़ाज़ी सहित पाँच जवान शहीद हो गए। इसके अलावा सेना के नायक राजेश और लांस लायक दिनेश भी शहीद हुए हैं।

ताज़ा ख़बरें

बयान में कहा गया है कि आतंकवादियों द्वारा कुपवाड़ा ज़िले के चंगिमुल्ला के हंदवाड़ा में एक घर में नागरिकों को बंधक बनाए जाने की खुफिया रिपोर्ट के आधार पर सेना और जम्मू कश्मीर पुलिस ने एक संयुक्त अभियान शुरू किया था। इसमें सेना के पाँच जवान और जम्मू कश्मीर के पुलिस कर्मी शामिल थे। इस टीम ने लोगों को छुड़ाने के लिए आतंकवादियों द्वारा कब्जा किए गए क्षेत्र में प्रवेश किया। इस दौरान आतंकवादियों की ओर से भारी गोलीबारी की गई। 

रिपोर्टों में कहा गया है कि रात भर दोनों तरफ़ से गोलीबारी होती रही। मुठभेड़ की जगह से शवों को बरामद कर लिया गया है। 

देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्विटर पर श्रद्धांजलि दी। उन्होंने ट्वीट किया, 'हंदवाड़ा (जम्मू-कश्मीर) में हमारे सैनिकों और सुरक्षाकर्मियों का नुक़सान बहुत ही गहरा दुख पहुँचा है। उन्होंने आतंकवादियों के ख़िलाफ़ अपनी लड़ाई में अनुकरणीय साहस दिखाया और देश की सेवा करते हुए सर्वोच्च बलिदान दिया। हम उनकी बहादुरी और बलिदान को कभी नहीं भूलेंगे।'
उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, 'मैं ऑपरेशन के दौरान शहीद जवानों और सुरक्षाकर्मियों को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ। मेरी संवेदनाएँ उनके परिजनों के साथ हैं। इन बहादुर शहीदों के परिजनों के साथ देश कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है।'
जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट किया, 'सेना और पुलिस अधिकारियों और जवानों के बारे में सुनकर दुख हुआ जिन्होंने आज सुबह हंदवाड़ा में ड्यूटी के दौरान अपनी जान की बाजी लगा दी। भगवान उनकी आत्मा को शांति दें और उनके परिवार और सहकर्मियों को इस कठिन समय में शक्ति दें।'
जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें

राज्य में ही एक अन्य घटनाक्रम में दक्षिण कश्मीर के पुलवामा के डांगेरपोरा क्षेत्र में मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए हैं। घटना के बाद स्थानीय लोगों द्वारा पत्थरबाज़ी की गई।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें