loader

झारखंड: चौथे चरण का मतदान, बीजेपी-विपक्षी गठबंधन ने लगाया जोर

झारखंड में चौथे चरण के लिए मतदान जारी है। इस चरण में मधुपुर, धनबाद, झरिया, गिरिडीह, डुमरी, बोकारो, सिंदरी, निरसा, टुंडी, बाघमारा, देवघर, बगोदर, गांडे, जमुआ और चंदनकियारी विधानसभा सीटों पर वोटिंग हो रही है। अब सिर्फ़ एक चरण का मतदान शेष है और यह 20 दिसंबर को होगा और 23 दिसंबर को चुनाव नतीजे आ जाएंगे। झारखंड में विधानसभा की 81 सीटें हैं। 

बीजेपी और विपक्षी गठबंधन ने चुनाव जीतने के लिए पूरा जोर लगा दिया है। नागरिकता क़ानून को लेकर देश के कई राज्यों में हो रहे विरोध के बाद यह चुनाव बेहद अहम हो गया है। 5 सीटों बगोदर, जमुआ, गिरिडीह, डुमरी और टुंडी में दोपहर 3 बजे तक ही वोटिंग होगी जबकि बाक़ी सीटों पर शाम 5 बजे तक वोट डाले जाएंगे।

झारखंड में बीजेपी ने जीत के लिए पूरा जोर लगा दिया है क्योंकि महाराष्ट्र और हरियाणा के चुनाव नतीजों के बाद वह सतर्क हो गई है। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाने के मुद्दे पर उसे इन राज्यों में विशाल जीत की उम्मीद थी लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

बीते कुछ दिनों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने झारखंड में जमकर चुनावी रैलियां की हैं। लेकिन विपक्षी दलों ने भी बीजेपी को सत्ता से हटाने के लिए पूरी ताक़त झोंक दी है। इसके अलावा आजसू ने भी जीत के लिए जमकर पसीना बहाया है और पूर्व मुख्यमंत्री बाबू लाल मरांडी की पार्टी झारखंड विकास मोर्चा ने भी कुछ सीटों पर दमदार उम्मीदवारी पेश की है। अब बस एक हफ़्ते का समय शेष है और यह पता चल जाएगा कि झारखंड की जनता ने किसे जनादेश दिया है। 

ताज़ा ख़बरें

ये हैं प्रमुख उम्मीदवार 

इस चरण के प्रमुख उम्मीदवारों में श्रम मंत्री राज पालीवाड़ चंदनकियारी और राजस्व मंत्री अमर कुमार बौरी मधेपुर सीट से चुनाव मैदान में हैं। बौरी के सामने ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन (आजसू) के उम्मीदवार उमाकांत रज्जाक ने कड़ी चुनौती पेश की है। जबकि पालीवाड़ का मुक़ाबला झारखंड मुक्ति मोर्चा के उम्मीदवार हुसैन अंसारी से है। झरिया सीट पर बीजेपी की समर्थित उम्मीदवार रागिनी सिंह चुनाव लड़ रही हैं। रागिनी के पति और विधायक संजीव सिंह हत्या के एक मामले में जेल में बंद हैं। संजीव सिंह पर अपने चचेरे भाई नीरज सिंह की हत्या का आरोप है। कांग्रेस ने यहां से नीरज सिंह की पत्नी पूर्णिमा नीरज सिंह को चुनाव मैदान में उतारा है। देवघर (सुरक्षित) सीट पर बीजेपी के नारायण दास का मुक़ाबला राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के उम्मीदवार सुरेश पासवान से है। 

2014 में हुए विधानसभा के चुनाव में एनडीए को 42 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। इसमें बीजेपी को 37 और आजसू को 5 सीटों पर जीत मिली थी। विपक्षी दलों को 39 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। इसमें जेएमएम को 19, जेवीएम को 8, कांग्रेस को 6 और अन्य को 6 सीटें मिली थी। 

झारखंड से और ख़बरें

आजसू, सहयोगी दलों ने बढ़ाई मुश्किल

झारखंड में बीजेपी के लिए इस बार सिरदर्द बनी है सरकार में सहयोगी रही आजसू ने। आजसू के उसका साथ छोड़ने से उसकी मुश्किलों बढ़ गई हैं। लोकसभा चुनाव के परिणाम के बाद बीजेपी को उम्मीद थी कि वह झारखंड का चुनाव आसानी से जीत लेगी। लोकसभा चुनाव में बीजेपी-आजसू को 12 सीटों पर जीत मिली थी। इसलिए उसने ‘मिशन 65 प्लस’ की रणनीति बनाई थी। लेकिन महाराष्ट्र और हरियाणा में मनमुताबिक़ सफलता न मिलने और आजसू के चुनाव के मौक़े पर झटका देने से बीजेपी के लिए मुक़ाबला बेहद कड़ा हो गया है। 
आजसू के अलावा केंद्र में बीजेपी की सहयोगी लोकजनशक्ति पार्टी (एलजेपी) और बिहार में उसकी सहयोगी जनता दल (यूनाइटेड) जेडी (यू) भी उसके ख़िलाफ़ चुनाव लड़ रही हैं। ऐसे में बीजेपी को अपने सहयोगियों से ही चुनौती मिल रही है।

विपक्ष ने भी झोंकी ताक़त

झारखंड में पिछले विधानसभा चुनाव में विपक्ष बिखरा हुआ था जबकि इस बार उसने गठबंधन बनाया है। झारखंड मुक्ति मोर्चा, कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता दल मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं। तीनों ही दलों ने चुनाव प्रचार में पूरी ताक़त झोंकी है और मुख्यमंत्री रघुबर दास को घेरने की कोशिश की है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

झारखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें