loader

बेंगलुरू की हिंसा से कांग्रेस पशोपेश में, मुसलमानों और दलितों के बीच फँसी पार्टी

बेंगलुरू में मंगलवार की रात भड़की हिंसा ने कांग्रेस को परेशानी में डाल दिया है। बाग़ी विधायकों की वजह से कर्नाटक में सत्ता गँवा चुकी कांग्रेस अब अपने ही एक विधायक के रिश्तेदार की वजह से बड़े राजनीतिक संकट में घिर गयी है। कांग्रेस के सामने एक तरफ जहाँ अपने अल्पसंख्यक मुसलिम वोटबैंक को बचाने का संकट है तो दूसरी तरफ बहुसंख्यक हिंदुओं की नाराज़गी से बचने की बड़ी चुनौती।
इसलामी संगठन पीपल्स फ्रंट ऑफ इंडिया यानी पीएफ़आई की राजनीतिक पार्टी - सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई) एक तरफ कांग्रेस के मुसलिम वोट बैंक में सेंध लगा रही है तो दूसरी तरफ बीजेपी हिंदुओं को अपनी तरफ लामबंद करने में जुटी है। ऐसे में एक कांग्रेसी विधायक के रिश्तेदार के एक फेसबुक पोस्ट ने विरोधियों की ताकत बढ़ा दी है। 
कर्नाटक से और खबरें

मामला क्या है?

बता दें कि बेंगलुरू  शहर में पुलकेशीनगर से कांग्रेस के दलित विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के भतीजे नवीन ने फ़ेसबुक पर हज़रत मुहम्मद पर एक विवादित बयान पोस्ट किया। इसी बयान से नाराज़ लोगों ने पहले विधायक के मकान के पास तोड़फोड़ और आगजनी की और इसके बाद पुलिस थाने को भी निशाना बनाया। पुलिस की कार्रवाई में तीन लोगों की मौत हो गई।
उपद्रवियों ने जो आगजनी की, पत्थरबाज़ी की, उससे करीब 50 पुलिसकर्मी ज़ख्मी हुए, कई नागरिक घायल हुए और संपत्ति का भारी नुक़सान हुआ। पुलिस को शंका हुई कि यह हिंसा कहीं साम्प्रदायिक दंगों का रूप न ले ले। एहतियातन पुलिस ने हिंसा प्रभावित इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया और शहर के ज़्यादातर इलाकों में धारा 144 लगा दी है। पुलिस स्थिति के नियंत्रण में होने का दावा कर रही है, लेकिन बेंगलुरू  के कई इलाक़ों में तनाव की स्थिति है। इस तनाव के बीच मंगलवार की रात कुछ मुसलिम युवकों ने रात भर हिंसा प्रभावित इलाक़े के एक मंदिर के पास पहरा दिया ताकि कोई वहाँ हमला न कर दे।
पुलिस ने फ़ेसबुक पर विवादित पोस्ट डालने वाले कांगेसी विधायक के भतीजे नवीन को हिरासत में ले लिया है, लेकिन तनाव बरक़रार है। नवीन का कहना है कि किसी ने उसका फ़ेसबुक एकाउंट हैक कर लिया है और विवादित पोस्ट उसने नहीं डाली है। इस बात पर कोई  यकीन नहीं कर रहा है।

पशोपेश में कांग्रेस

सूत्रों का कहना है कि विधायक के मकान और पुलिस थाने पर जो हमला हुआ, उसमें सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया के कट्टरपंथी कार्यकर्ता शामिल थे। कांग्रेस के कई नेताओं को भी यही शक है।
चूंकि मामला एक दलित विधायक का है और मुसलमानों से जुड़ा है, कई कांग्रेसी नेताओं को समझ में नहीं आ रहा है कि क्या किया जाए। कई बड़े कांग्रेसी नेताओं ने इस मुद्दे पर चुप्पी साध ली है। मामला काफी संवेदनशील है, इस वजह से कई कांगेसी नेताओं को चुप रहने में ही अपनी भलाई नज़र आ रही है। चुप्पी के पीछे एक बड़ी राजनीतिक वजह है।

अगर कांग्रेस ने हिंसा का पुरज़ोर विरोध किया तो इसका सीधा फायदा सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया को होगा, जो पूरे मुसलिम वोटबैंक पर अपना एकाधिकार जमाने की कोशिश में है। अगर कांग्रेस ने हिंसा के ख़िलाफ़ कुछ नहीं बोला और किया तो, बहुसंख्यक हिंदुओं के उससे बहुत दूर चले जाने का डर है।
अगर विधायक के ख़िलाफ़ बयान दिया गया, कार्रवाई की गयी तो दलितों की नाराज़गी झेलने के लिए मजबूर होने का ख़तरा है। इन बातों से साफ है कि अपने एक विधायक के रिश्तेदार की एक ग़लती ने कांग्रेस को कर्नाटक में बुरी तरह फंसा दिया है।

मुसलिम-दलित समीकरण

ग़ौर करने वाली बात यह है कि पुलकेशीनगर विधानसभा क्षेत्र अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है। लेकिन यहाँ मुसलिम वोटरों की संख्या काफी बड़ी है। बेंगलुरू शहर की 12 विधानसभा सीटों में मुसलिम मतदाता विजेता चुनने में बड़ी भूमिका निभाते हैं। इन 12 विधानसभा क्षेत्रों पर सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया की नज़र है।
कांग्रेस के लिए मुसलिम वोटों के कटने का सीधा मतलब जनाधार कम होना और हार की संभावना बढ़ना है। इसी वजह से मुसलिमों की भावनाओं को बुरी तरह से आहत करने वाले कांग्रेसी नेता के रिश्तेदार के एक फ़ेसबुक पोस्ट ने कांग्रेस को बुरी तरह से फंसा दिया है।

एसडीपीआई के जाल में कांग्रेस?

महत्वपूर्ण बात यह भी है कि कांग्रेस के लिए सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया बड़ी परेशानियाँ खड़ी कर रही है। कर्नाटक और केरल में यह पार्टी कांग्रेस के मुसलिम वोटबैंक में सेंध लगते हुए अपना जनाधार बढ़ाने की कोशिश में है। कांग्रेस इस पार्टी से राजनीतिक समझौता इस वजह से नहीं करना चाहती है क्योंकि कई लोगों की नज़र में यह कट्टरपंथी है।
हैरान करने वाली बात यह कि कांग्रेस इस पार्टी का खुलकर विरोध भी नहीं कर रही है क्योंकि उसे डर है कि विरोध से कहीं उसके मुसलिम वोटर न दूर हो जाएँ। लेकिन अब कांग्रेस के रणनीतिकार यह जान चुके हैं कि सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया से कांग्रेस को भारी नुकसान हो सकता है और अब समय आ गया है कि इससे निपटने के लिए कारगर नीति बनाई जाए।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दक्षिणेश्वर
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

कर्नाटक से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें