loader

कर्नाटक में कोरोना रोकने के लिए रात का कर्फ़्यू

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच कर्नाटक सरकार ने एक अहम फ़ैसला लेते हुए दस दिनों के लिए रात का कर्फ़्यू लगाने का एलान किया है। यह निर्णय अगले मंगलवार यानी 28 दिसंबर से लागू होगा। इसके तहत रात के 10 बजे से सुबह के पाँच बजे तक कर्फ़्यू लगा रहेगा। 

स्वास्थ्य मंत्री के. सुधाकर ने इसके साथ ही नए साल पर होने वाले उत्सव को ध्यान में रखते हुए कई तरह के प्रतिबंधों की भी घोषणा की। कर्नाटक सरकार ने यह निर्णय ऐसे समय लिया है जब राज्य में कई जगहों पर कोरोना संक्रमण के नए मामलों के क्लस्टर्स बन गए हैं, यानी अधिक संख्या में कोरोना वायरस से संक्रमित लोग पाए जाने लगे हैं।

मुख्यमंत्री बासवराज बोम्मई ने 'इंडियन एक्सप्रेस' से कहा,

घर के बाहर खुले में कोई कार्यक्रम नहीं किया जा सकेगा, कोई पार्टी नहीं होगी, खास कर जिन कार्यक्रमों में डीजे वगैरह आते हैं और बड़ी संख्या में लोग भााग लेते हैं, उन पर पूरी तरह से रोक होगी।


बासवराज बोम्मई, मुख्यमंत्री, कर्नाटक

उन्होंने यह भी कहा कि रेस्तरां, होटल, पब, थिएटर, और खाने-पीने की दूसरी जगहों से कहा गया है कि वे अपनी क्षमता के 50 प्रतिशत पर काम कर सकते हैं। 

ओमिक्रॉन वैरिएंट

इस बीच खबर है कि देश भर में ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित कुल मरीजों की संख्या बढ़कर 422 हो गई है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आँकड़ों के अनुसार, महाराष्ट्र में ओमिक्रॉन के सबसे ज्यादा 108 मरीज मिले हैं। इनमें से 42 इलाज के बाद ठीक हो गए। शनिवार को देशभर में ओमिक्रॉन के कुल 415 मरीज थे।

कर्नाटक से और खबरें

दिल्ली में ओमिक्रॉन वैरिएंट के 79 मरीज हैं, इनमें से 23 स्वस्थ हो चुके हैं। अब तक देशभर में कुल 130 ओमिक्रॉन मरीज ठीक हो गए हैं। 

कोरोना संक्रमण

कर्नाटक सरकार ने यह निर्णय ऐसे समय लिया है जब देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के कुल 6,987 नए मामले दर्ज किए गए हैं। यह एक दिन पहले की तुलना में यह 2.8 प्रतिशत कम है। 

जिन पाँच राज्यों में सबसे ज्यादा मामले दर्ज किए गए हैं, वे हैं- केरल में 2,407 मामले, महाराष्ट्र में 1,485 मामले, तमिलनाडु में 606 मामले, पश्चिम बंगाल में 552 मामले और कर्नाटक में 270 मामले हैं।

karnataka imposes night curfew to contain coronavirus omicron variant - Satya Hindi
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

कर्नाटक से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें