loader

केरल: नन से बलात्कार मामले में बिशप फ्रैंको दोषमुक्त

केरल में नन से बलात्कार के मामले में अभियुक्त बिशप फ्रैंको मुलक्कल को एक अदालत ने अपराध से बरी कर दिया है। अदालत के फैसले के बाद बिशप ने कहा कि वह इसके लिए ईश्वर को धन्यवाद देते हैं। बिशप फ्रैंको भारत के पहले कैथोलिक बिशप थे जिन पर बलात्कार के किसी मामले में जांच चल रही थी। 

100 दिन तक जांच चलने के बाद अतिरिक्त सेशन कोर्ट ने शुक्रवार को अपने फैसले में कहा कि उसने बिशप फ्रैंको को इस मामले में दोषी नहीं पाया है।

नन ने आरोप लगाया था कि बिशप फ्रैंको ने 2014 से 2016 के बीच में उसके साथ कई बार बलात्कार किया था। बिशप फ्रैंको ने इन सभी आरोपों को गलत बताया था। इस मामले में विरोध प्रदर्शन हुए थे और ननों ने चर्च, केरल पुलिस और राज्य सरकार से बिशप फ्रैंको के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की थी। 

ताज़ा ख़बरें

ननों की ओर से इस मामले में वेटिकन को भी पत्र लिखा गया था और दखल देने की मांग की गई थी। मामले की जांच के लिए पुलिस ने एसआईटी का गठन किया था। 

कोट्टयम के पुलिस प्रमुख एस. हरिशंकर ने अदालत के फैसले पर हैरानी जताई है। उन्होंने एनडीटीवी से बातचीत में कहा कि इस मामले में ठोस सबूत थे और कोई भी गवाह अपने बयान से मुकरा नहीं था। 

पुलिस के द्वारा इस मामले में पूछताछ के दौरान बिशप के बयानों में विरोधाभास था। बिशप ने दावा किया था कि वह कुराविलंगड़ के कॉन्वेंट में 5 मई 2014 को नहीं रुका था। जबकि नन ने कहा था कि इसी दिन बिशप ने उससे पहली बार बलात्कार किया था। 

केरल से और खबरें

बिशप ने कहा था कि वह सिर्फ कॉन्वेंट में गया था और किसी दूसरी जगह ठहरा था। लेकिन जब पुलिस ने उसके दावे की जांच की तो पाया कि बिशप और उसका ड्राइवर कुराविलंगड़ के इसी कॉन्वेंट में उस दिन रुके थे। बिशप की मोबाइल लोकेशन से भी पता चला था कि 5 मई 2014 को बिशप उसी कॉन्वेंट में थे जहां पर बलात्कार की पीड़िता रहती थी। 

पूछताछ के दौरान बिशप ने पुलिस को सबूत के तौर पर एक वीडियो दिया था जो एडिटेड था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

केरल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें