loader

‘हिंदुओं के डर से अल्पसंख्यक बहुल सीटों की ओर भाग रहे राहुल’

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के केरल के वायनाड से चुनाव लड़ने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तंज कसा है। प्रधानमंत्री ने कहा है कि कांग्रेस ने ‘हिंदू आतंकवाद’ शब्द का इस्तेमाल कर हिंदुओं को बदनाम किया था। मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने शांतिप्रिय हिंदुओं को आतंकवादी बताने की कोशिश की और अब वे जानते हैं कि जनता उन्हें इसकी सजा देगी, इसलिए वे डरे हुए हैं और सीट छोड़कर भाग रहे हैं। मोदी ने कहा कि कांग्रेस के नेता कान खोलकर सुन लें हिंदू कभी आतंकवादी नहीं हो सकता।
प्रधानमंत्री मोदी लोकसभा चुनाव प्रचार के तहत महाराष्ट्र के वर्धा में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन के लिए रैली को संबोधित कर रहे थे। 
मोदी ने राहुल गाँधी पर हमला बोलते हुए कहा कि एक पार्टी (कांग्रेस) के नेता ऐसी सीट से चुनाव लड़ने से डर रहे हैं, जहाँ हिंदू अधिक संख्या में हैं और वे ऐसी सीटों से चुनाव लड़ने जा रहे हैं, जहाँ अल्पसंख्यक मतदाता अधिक हैं।
पिछले दिनों समझौता ब्लास्ट केस में असीमानंद को सुप्रीम कोर्ट से बरी किए जाने के फ़ैसले के बाद मोदी ने कांग्रेस पर यह हमला बोला है। मोदी ने कहा कि महाराष्ट्र के कांग्रेस नेता सुशील कुमार शिंदे ने ‘हिंदू आतंकवाद’ शब्द दिया था। प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन को कुंभकर्ण की तरह बताया। 
प्रधानमंत्री ने जनता से पूछा कि क्या आज तक हिंदू आतंकवाद की कोई एक भी घटना हुई है। उन्होंने कहा कि लोग कांग्रेस को इसके लिए कभी माफ़ नहीं करेंगे।

मोदी ने बालाकोट हमले के सबूत माँगने को लेकर विपक्षी दलों पर जमकर हमला बोला। मोदी ने कहा, ‘हमारे वीर जवानों ने एयर स्ट्राइक की तो ये लोग सबूत माँगने लगे। ये ऐसी बात कर रहे हैं, जो पाकिस्तान में अच्छी लगती हैं।’ प्रधानमंत्री ने कहा, ‘मैं विदर्भ की धरती से पूछना चाहता हूँ कि आपको भारत के हीरो चाहिए या फिर पाकिस्तान के हीरो।' 

चुनाव 2019 से और खबरें

कुछ साल पहले आज़ाद मैदान में हुई तोड़फोड़ की घटना का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि कांग्रेस-एनसीपी की सरकार ने शहीद स्मारक को जूतों से रौंदने की अनुमति दी थी। मोदी ने कहा कि इन दलों की सरकार ने यह भी सुनिश्चित करने की कोशिश की कि ऐसे लोगों पर कार्रवाई न हो। 

संबंधित ख़बरें
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने भी कांग्रेस को आड़े हाथ लेते हुए आरोप लगाया था कि वह हिंदुओं पर आतंकवादी बताकर उन्हें बदनाम करने की कोशिश कर रही है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

चुनाव 2019 से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें