loader

सहयोगियों के 'असहयोग' से दक्षिण में कांग्रेस की मुश्किल बढ़ी

सपा और बसपा से मिले झटके से कांग्रेस अभी उबर भी नहीं पाई है कि दक्षिण में उसके सहयोगी दलों ने नई परेशानियाँ पेश करनी शरू कर दी हैं। कर्नाटक में जेडीएस ने लोकसभा चुनावों में एक-तिहाई सीटों की माँग कर डाली है। जेडीएस कर्नाटक की 28 लोकसभा सीटों में से 10 पर लड़ना चाहती है। जबकि कांग्रेस के नेता उसे 6 से ज़्यादा सीटें देने के पक्ष में नहीं हैं। कर्नाटक के कांग्रेसी नेताओं का कहना है कि जेडीएस का प्रभाव सिर्फ़ दक्षिण कर्नाटक में है और वह भी मैसूर, मांड्या, हासन, चामराजनगर और बेंगलुरू ग्रामीण में ही है। इन नेताओं के मुताबिक़ जेडीएस अकेले दम पर 3 सीटें भी नहीं जीत सकती है। लेकिन, कम से कम दस सीटें हासिल करने के लिए जेडीएस ने दबाव की राजनीति शुरू कर दी है। जेडीएस के नेता और मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने अपने ताज़ा बयान में कहा है कि कांग्रेस उसे तीसरे दर्ज़े का नागरिक समझ रही है। कुमारस्वामी का कहना है कि गठबंधन का धर्म एक-दूसरे का सम्मान करना होता है और लेना-देना सम्मानपूर्वक होना चाहिए।

 इससे पहले भी कुमारस्वामी खुले तौर पर कांगेस के ख़िलाफ़ अपनी नाराज़गी ज़ाहिर कर चुके हैं। उनका आरोप है कि कांग्रेस के कुछ नेता सरकार के कामकाज में ग़ैर-ज़रूरी दख़लअंदाज़ी कर रहे हैं, जिसकी वजह से वह सही तरह से काम नहीं कर पा रहे हैं। वैसे भी कर्नाटक में चुनाव बाद बने गठबंधन की सरकार में शामिल दोनों दलों- कांग्रेस और जेडीएस में तल्ख़ी रही है।

चूँकि लोकसभा चुनाव सिर पर हैं और सपा और बसपा ने कांग्रेस को दरकिनार किया है, जेडीएस भी ज़्यादा से ज़्यादा लोकसभा सीटें हासिल करने की जोड़तोड़ में है। जेडीएस के नेताओं को यही सबसे अच्छा मौक़ा दिखाई देता है। ख़ास बात यह भी है कि कांग्रेस को जेडीएस की ज़रूरत ज़्यादा है।

जेडीएस के अकेले चुनाव लड़ने से कांग्रेस को नुक़सान होने और बीजेपी को ज़्यादा सीटें मिलने की संभावना है। कांगेस को इसका भी डर है कि कहीं जेडीएस बीजेपी के साथ न चली जाए। चूँकि मौजूदा स्थिति जेडीएस के ही अनुकूल है, वह कांग्रेस को अपनी बात मनवाने के लिए दबाव बना रही है।

तेलंगाना : पसोपेश में कांग्रेस

उधर, तेलंगाना में भी कांग्रेस सहयोगी पार्टियों को लेकर पसोपेश में है। हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में महागठबंधन का प्रयोग नाकाम होने की वजह से कुछ नेता इस बार लोकसभा में बिना किसी पार्टी के साथ गठबंधन के, अकेले चुनाव में उतरने की सिफ़ारिश कर रहे हैं। कुछ नेताओं ने कहना भी शुरू कर दिया है कि चंद्रबाबू नायडू की तेलुगु देशम पार्टी से गठजोड़ करने की वजह से तेलंगाना की जनता ने कांग्रेस को नकार दिया। इन नेताओं का कहना है कि अगर कांग्रेस चंद्रबाबू नायडू का साथ नहीं लेती तो उसे ज़्यादा सीटें मिलती क्योंकि तेलंगाना की जनता अब चंद्रबाबू को 'बाहरी' मानती है।

आंध्रप्रदेश में पार्टी अकेली

आंध्रप्रदेश में तेलुगु देशम पार्टी कांग्रेस के साथ गठजोड़ नहीं करेगी। यानी कांग्रेस को आंध्र में भी अकेले चुनाव लड़ना पड़ेगा। तेलुगु देशम कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव नहीं लड़ेगी, इसके संकेत मिलने शुरू हो गए हैं।

तेलुगु देशम पार्टी के संस्थापक एन टी रामाराव के जीवन पर बनी फ़िल्म में दिखाया गया है कि कांग्रेस की नीतियों का विरोध करने के लिए ही तेलुगु देशम का गठन किया गया। इस फ़िल्म के निर्माता रामा राव के बेटे और तेलुगु देशम के विधायक बालाकृष्णा हैं। सूत्र यह भी बताते हैं कि चंद्रबाबू ने सभी सीटों पर अपने उम्मीदवारों का चयन शुरू कर दिया है। इससे भी बड़ी बात, कांग्रेस और तेलुगु देशम के बीच सीटों के बँटवारे को लेकर अब तक एक बार भी बैठक ही नहीं हुई है। ग़ौर करने वाली बात यह है कि आंध्रप्रदेश विधानसभा के चुनाव लोकसभा चुनाव के साथ होंगे।

southern states coalition partners pressure puts congress in trouble - Satya Hindi

सिर्फ़ तमिलनाडु से राहत

कांग्रेस के लिए राहत की बात तमिलनाडु से है। जहाँ डीएमके के नेता स्टालिन ने राहुल गाँधी को प्रधानमंत्री उम्मीदवार बनाने की वकालत की है। लेकिन हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक बयान ने तमिलनाडु में भी कांग्रेस की चिंताएँ बढ़ा दी हैं। मोदी ने कहा था कि बीजेपी अपने पुराने साथियों से दुबारा हाथ मिलाने के लिए तैयार है। मोदी का इशारा डीएमके की तरफ़ था। एक समय डीएमके एनडीए में शामिल थी। केरल में ही कांग्रेस बेहतर स्थिति में है। फ़िलहाल उसे किसी सहयोगी दल से कोई कड़वी बात सुनने को नहीं मिली है। महत्वपूर्ण बात यह है कि दक्षिण के पाँचों राज्यों - तेलंगाना, आंध्र, कर्नाटक, तमिलनाडु और केरल में क्षेत्रीय पार्टियों का ही दबदबा है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
अरविंद यादव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

चुनाव 2019 से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें