loader

मध्य प्रदेश उपचुनाव: बीजेपी को बहुमत, नहीं चला ‘गद्दार कार्ड’

मध्य प्रदेश विधानसभा की 28 सीटों पर हुए उपचुनाव ने शिव ‘राज’ और भारतीय जनता पार्टी की सत्ता पर पक्की मुहर लगा दी है। अब तक घोषित सभी 9 सीटें बीजेपी ने जीत ली हैं और विधानसभा में उसके सीटों की संख्या 116 हो गई। इस तरह उसे बहुमत मिल गया। साफ है कि वोटरों ने कांग्रेस और कमलनाथ के ‘गद्दार कार्ड’ को मुक्क़मल तौर पर खारिज कर दिया है। उपचुनाव  के नतीजों ने सत्ता में वापसी के कांग्रेस के सपने को भी चूर-चूर कर दिया है।
राज्य की कुल 28 सीटों में से डेढ़ दर्जन से ज़्यादा सीटों पर बीजेपी ने निर्णायक बढ़त बनाकर कांग्रेस को चारों खाने चित्त कर दिया।
ख़ास ख़बरें
कांग्रेस केवल पूर्व केन्द्रीय मंत्री और बीजेपी का दामन थामकर कमलनाथ की सरकार गिराने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रभाव वाले क्षेत्र ग्वालियर-चंबल भर में कुछ बेहतर प्रदर्शन कर पायी।
ग्वालियर-चंबल संभाग की कुल 16 सीटों में छह पर कांग्रेस जीत के क़रीब पहुँच कर अपने घावों पर थोड़ा सा मलहम लगाती हुई नज़र आयी। हालांकि समाचार लिखे जाने के समय तक वोटों की गिनती का काम जारी था। फाइनल नतीजों का सभी को इंतजार था। 

मुरैना में बीजेपी की फ़जीहत!

केन्द्रीय मंत्री और मध्य प्रदेश बीजेपी के बेहद कद्दावर नेता नरेंद्र सिंह तोमर के लोकसभा क्षेत्र मुरैना में बीजेपी की ख़ासी फ़जीहत हुई। बीजेपी इस क्षेत्र की कुल पांच में से चार सीटों पर पिछड़ गई। चूंकि अंतिम परिणाम नहीं आये थे, लिहाजा तोमर और उनके समर्थकों ने उम्मीद नहीं छोड़ी थी। हालांकि बीजेपी को पीछे छोड़ने वाले कांग्रेस और बसपा के उम्मीदवार निर्णायक बढ़त बनाकर जीत के पास पहुंचे हुए थे।

मोदी का गुणगान

स्पष्ट बहुमत के करीब पहुँचते ही मध्य प्रदेश बीजेपी के मुख्यालय पर आला नेताओं का जमावड़ा लग गया था। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी यहां पहुंचे हुए थे। उन्होंने अपने सहयोगी वरिष्ठ काबीना साथी गोपाल भार्गव समेत संगठन के अनेक नेताओं का मुंह मीठा कराया।

प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष वी. डी. शर्मा मिली सफलता से सबसे ज्यादा आल्हादित रहे। प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी संभालने के बाद उनकी अगुवाई में संगठन पहली बार किसी बड़े चुनाव में उतरी थी।
उम्मीद से बढ़कर सफलता का ज्यादा श्रेय शर्मा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दिया। उन्होंने मोदी की रीति-नीतियों को बीजेपी की सफलता की बड़ी वजह बताया।

कमलनाथ मत्था टेकने पहुंचे थे

उधर पूर्व मुख्यमंत्री और मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कमल नाथ वोटों की गिनती का काम शुरू होने के कुछ ही देर बाद वीआईपी रोड स्थित हनुमान मंदिर में मत्था टेकने पहुंचे। छिंदवाड़ा के सांसद और उनके बेटे नकुल नाथ भी कमल नाथ के साथ रहे। यहां मीडिया के घेरने पर कमल नाथ ने उम्मीद जताई, ‘मध्य प्रदेश का वोटर कांग्रेस के साथ गया होगा।’

मंदिर में मत्था टेकने के बाद वे पीसीसी पहुंचे। कांग्रेस कंट्रोल रूम में बैठकर नतीजों का आकलन करते रहे। मगर जैसे ही कांग्रेस ज़्यादातर सीटों पर पिछड़ती दिखी तो कमल नाथ पीसीसी से उठकर 6, श्यामला हिल्स स्थित अपने सरकारी निवास पर पहुंच गये।

हार के बारे में पूछे जाने पर कमलनाथ ने कहा, ‘अंतिम नतीजे आने दीजिये, इसके बाद वे मध्य प्रदेश की जनता का आभार जतायेंगे। मीडिया से भी बात करेंगे।’

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें