loader
फ़ोटो साभार: मुनव्वर फारुक़ी/वीडियो ग्रैब

कॉमेडियन मुनव्वर फारुक़ी के ख़िलाफ़ सबूत नहीं

हिन्दू देवी-देवताओं और केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर कथित अभद्र टिप्पणियों के आरोप में मध्य प्रदेश पुलिस द्वारा पकड़े जाने के बाद 13 जनवरी तक के लिए जेल भेजे गये गुजरात के स्टैंड-अप कॉमेडियन के मामले ने तूल पकड़ लिया है। देवी-देवताओं पर टिप्पणियों को लेकर पुलिस को कोई सबूत नहीं मिल पाया है। उधर कॉमेडियन के वकील ने पुलिस की एफ़आईआर को चुनौती देते हुए सेशन कोर्ट में अर्जी लगाई है। अर्जी पर मंगलवार को सुनवाई की संभावना है।

गुजरात के स्टैंड-अप कॉमेडियन मुनव्वर फारुक़ी को दो जनवरी को इंदौर पुलिस ने गिरफ्तार किया था। आरोप है कि शुक्रवार एक जनवरी की रात इंदौर में आयोजित लॉफ़्टर शो में उन्होंने हिन्दू देवी-देवताओं और केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह के ख़िलाफ़ अभद्र टिप्पणियाँ कीं। 

ख़ास ख़बरें

इंदौर की महापौर और स्थानीय विधायक विधायक मालिनी गौड़ के पुत्र एकलव्य गौड़ की शिकायत पर इंदौर पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए कॉमेडियन फारुक़ी और चार अन्य स्थानीय लोगों को गिरफ्तार किया था। शनिवार को ही पाँचों को कोर्ट में पेश किया गया था। कोर्ट ने सभी को 13 जनवरी तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया था।

मामले में रविवार को तब एक नया मोड़ आया जब संबंधित थाना के प्रभारी ने हिन्दू देवी-देवताओं के ख़िलाफ़ अभद्र टिप्पणियों को लेकर कोई मीडिया से साक्ष्य ना मिलने की बात कही। यहाँ बता दें कि शिकायत करने वाले बीजेपी नेता के पुत्र एकलव्य ने पुलिस को साक्ष्य तौर पर एक पेन ड्राइव भी उपलब्ध कराई थी।

एकलव्य और उनके साथियों का आरोप था कि कॉमेडियन फारुक़ी ने हिन्दू देवी-देवताओं और केन्द्रीय गृह मंत्री शाह के ख़िलाफ़ गोधरा कांड को लेकर अभद्र, अनर्गल और आपत्तिजनक टिप्पणियाँ की हैं।

एकलव्य और उनके साथी एक जनवरी को शो देखने के लिए पहुँचे थे। कॉमेडियन और आयोजकों के साथ एकलव्य एवं उनके साथियों की जमकर बहस भी हुई थी।

एकलव्य और उनके साथियों ने शो को रुकवा दिया था। आरोप तो यह भी रहा था कि विरोध करने वालों ने कॉमेडियन फारुक़ी के साथ मारपीट भी की।

बहरहाल, बीजेपी नेता के पुत्र की शिकायत पर तुकोजीगंज पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए कॉमेडियन और चार अन्य लोगों को गिरफ्तार कर लिया था। 

मामले में पेच तब आया जब साक्ष्य के तौर पर उपलब्ध कराई गई पैन ड्राइव को देखने के बाद पुलिस इस निष्कर्ष पर पहुँची कि कॉमेडियन फारुक़ी के ख़िलाफ़ देवी-देवताओं के विरुद्ध अपमानजनक टिप्पणियों के आरोप सिद्ध नहीं हो पा रहे हैं।

ताज़ा ख़बरें

एफ़आईआर को फर्जी बताया 

उधर मुनव्वर फारुक़ी की ओर से पैरवी कर रहे वकील अंशुमन श्रीवास्तव ने सोमवार दोपहर बाद सेशन कोर्ट में याचिका लगाई है। श्रीवास्तव ने ‘सत्य हिन्दी’ को बताया कि वे फारुक़ी के साथ जेल भेजे गये नलीन यादव की पैरवी कर रहे हैं।

अपनी याचिका में मुनव्वर फारुक़ी और नलीन यादव पर लगायी गई भारतीय दंड विधान की धारा 295 और 188 पर सवाल उठाये गये हैं। एफ़आईआर पूरी तरह से अस्पष्ट है। वर्ग विशेष की भावनाएँ आहत करने को लेकर मामला दर्ज किया गया है, लेकिन यह नहीं बताया गया कि मुनव्वर फारुक़ी ने देवी-देवताओं को लेकर ऐसे कौन से शब्दों और वाक्यों का उपयोग किया जिससे भावनाएँ आहत हुईं?

याचिका में भारतीय संविधान के तहत मिले 91ए के अधिकार का ज़िक्र करते हुए केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह के ख़िलाफ़ कथित टिप्पणियों पर अन्य लोगों द्वारा आपत्तियाँ उठाने पर भी सवाल खड़े किये गये हैं।

आवेदन में साफ़ कहा गया है कि 91ए के तहत अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है। किसी व्यक्ति विशेष के ख़िलाफ़ यदि कोई टिप्पणी की जाती है और संबंधित उससे आहत होता है तो आपत्ति करने का अधिकार उसी को है जिसके ख़िलाफ़ टिप्पणी की गई। कोई दूसरा ऐसे मामलों में आपत्ति नहीं कर सकता।

आवेदन में कोरोना प्रोटोकॉल के उल्लंघन संबंधी धारा 188 को लेकर भी आपत्तियाँ उठाई गई हैं। कहा गया है कि इंदौर में शो देने आये कॉमेडियन के ख़िलाफ़ इस धारा का उपयोग भी न्याय संगत नहीं है। कोरोना प्रोटोकॉल का यदि उल्लंघन हुआ है तो इसके आरोपी आयोजक होंगे ना कि कार्यक्रम की प्रस्तुति देने के लिए आने वाला।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें