loader

मध्य प्रदेश चुनाव प्रचार में राहुल से पिछड़ गए मोदी

राहुल गांधी ने मध्य प्रदेश में एक मामले में नरेंद्र मोदी को पछाड़ दिया। विधानसभा चुनाव के प्रचार के लिए मोदी ने जहां सिर्फ़ दस सभाएं कीं, वहीं राहुल ने 21 सभाएँ और दो रोड शो किए। तो ज़्यादा और कम चुनाव प्रचार के मायने क्या हैं? दोनों के प्रचार के तौर तरीकों से ही समझिए। नरेंद्र मोदी ने साल 2013 के विधानसभा चुनाव में ताबड़तोड़ तीन दर्ज़न से ज्यादा चुनावी सभाएँ मध्यप्रदेश में की थीं। उनके रोड शो भी हुए थे। इस चुनाव के ठीक बाद लोकसभा चुनाव में भी वे मध्यप्रदेश में क़रीब दो दर्ज़न चुनावी सभाओं और रोड शो के लिए आए थे, लेकिन मौजूदा चुनाव में 10 नवम्बर से 26 नवम्बर के बीच मोदी पाँच बार ही मध्यप्रदेश आए। उन्होंने कुल दस सभाएँ कीं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने 2013 की तुलना में अधिक समय देते हुए मध्यप्रदेश में 21 सभाएँ और दो रोड शो किए। अमित शाह ने 23 सभाएँ कीं और छह रोड शो किए।
मोदी के मध्यप्रदेश के दौरे और सभाएँ कम होने को लेकर मध्यप्रदेश कांग्रेस मीडिया सेल के उपाध्यक्ष भूपेन्द्र गुप्ता ने तंज कसते हुए कहा, ‘प्रधानमंत्री की सभाओं की संख्या घटाकर भाजपा ने कांग्रेस का भारी नुकसान किया।’

मोदी एक्सपोज हो गए हैं: कांग्रेस

भूपेन्द्र गुप्ता आगे कहते हैं, ‘साढ़े चार सालों में मोदी और उनकी सरकार देश के सामने पूरी तरह से एक्सपोज हो गए हैं। हर मोर्चे पर नाकामी की वज़ह से मोदी का 56 इंच का सीना पूरी तरह सिकुड़ गया है। भाजपा के लिए अब वे न तो निगल पाने और न ही उगल पाने वाला चेहरा बन चले हैं। आने वाले लोकसभा चुनाव के परिणामों के बाद आरएसएस उन्हें भी मार्गदर्शक मंडल में भेजने पर विचार करती नजर आएगी।’ 

‘मोदी के जिम्मे देश-दुनिया इसलिए सभाएँ कम’

मध्यप्रदेश भाजपा के मुख्य प्रवक्ता दीपक विजयवर्गीय ने प्रधानमंत्री की सभाओं की संख्या में गिरावट पर दलील देते हुए कहा, ‘पिछले चुनाव में मोदी जी, मुख्यमंत्री थे। अब देश के प्रधानमंत्री हैं। अकेला सूबा नहीं जहां चुनाव थे। देश और दुनिया को भी उन्हें देखना होता है।' 
मध्यप्रदेश भाजपा के मुख्य प्रवक्ता दीपक विजयवर्गीय ने कहा कि भाजपा ने जितनी ज़रूरत महसूस की और मांग रखी, उसके अनुरूप मोदी जी ने मध्य प्रदेश को वक़्त दिया।’

शिवराज की 149, सिंधिया की 110 सभाएँ

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 10 नवम्बर से 26 नवम्बर के बीच 149 चुनावी सभाएँ और दर्ज़न भर रोड शो किए। हालाँकि, जुलाई से सितंबर के बीच भी उन्होंने जन आशीर्वाद यात्रा कर 187 विधानसभा सीटों पर प्रचार किया था। कांग्रेस के स्टार प्रचारक ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी सभी 230 विधानसभा सीटों पर 110 चुनावी सभाएँ और 12 रोड शो किए। पीसीसी चीफ कमलनाथ ने 55 सभाएँ कीं और कई रोड शो किए।भोपाल से संजीव श्रीवास्तव की रिपाेर्ट

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें