loader

उमा भारती के भतीजे के ख़िलाफ़ ग़ैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज

मध्य प्रदेश की  राजनीति में नया और दिलचस्प मोड़ आ गया है। पूर्व मुख्य मंत्री उमा भारती के भतीजे के ख़िलाफ़ ग़ैर इरादतन हत्या का मामाल दर्ज किया गया है। केंद्र सरकार के दबाव में कई तरह के आरोप झेल रही कमलनाथ सरकार ने यह फ़ैसला उठाया है। इससे राज्य के मुख्य विपक्षी दल बीजेपी पर दबाव बढ़ सकता है। 
टीकमगढ़ ज़िले के खरगापुर से भारतीय जनता पार्टी के विधायक राहुल सिंह लोधी के ख़िलाफ़ ग़ैर-इरादन हत्या का मामला दर्ज किया गया है। राहुल सिंह पूर्व केन्द्रीय मंत्री और भाजपा की वरिष्ठ नेता उमा भारती के सगे भतीजे हैं।
आरोप है कि राहुल सिंह लोधी ने खरगापुर के बलदेवगढ़ मार्ग पर पपावनी गाँव के पास अपनी गाड़ी से एक मोटरसाइकिल को धक्का दे दिया। उस पर  तीन युवक सवार थे। तीनों सवार की मौत हो गई।
घटना के बाद जबरदस्त हंगामा हुआ। मारे गये युवकों के परिजनों और ग्रामीणों ने चार घंटे तक शवों को सड़क पर रखकर चक्काजाम किया। प्रदर्शनकारी चाहते थे कि लापरवाहीपूर्वक वाहन चलाने वाले विधायक के ख़िलाफ़ एफ़आईआर की जाये।
मृतकों के परिजनों का आरोप था कि विधायक स्वयं गाड़ी चला रहे थे। उनकी गाड़ी की रफ़्तार बेहद तेज़ थी। मारे गये युवक नवदुर्गा में बोये जाने वाले ज्वारों का विसर्जन कर लौट रहे थे। विधायक के वाहन ने पीछे से बाइक को जबरदस्त टक्कर मारी। मृतकों के नाम बृजेन्द्र अहिरवार (28 वर्ष), रवि अहिरवार (27 वर्ष) और मदन अहिरवार (19 वर्ष) बताये गये हैं।
मध्य प्रदेश से और खबरें

उल्टा दावा

विधायक लोधी इस बात से इनकार करते हैं। उनका कहना है कि वह घटनास्थल के क़रीब फुटेर गाँव में एक कार्यक्रम में व्यस्त थे। उन्होंने ड्राइवर विजय यादव को  बुलाया था। वाहन लाते समय विजय को रास्ते में कुछ घायल मिले। इसकी सूचना ड्राइवर ने उन्हें और फिर लोधी ने पुलिस को दी। पुलिस को सूचना देकर मदद किये जाने की सराहना करने की बजाय ग्रामीणों की मदद से विरोधियों ने उन्हें साजिश कर फँसा दिया।
तमाम तरह के आरोप-प्रत्यारोप आधी रात तक चलते रहे। भारी हंगामा भी चलता रहा। आधी रात के करीब पुलिस ने विधायक के खिलाफ ग़ैर-इरादतन हत्या हत्या की धारा 304ए तथा 279, 337 और 184 में मामला दर्ज किया। विधायक के खिलाफ एफ़आईआर लिखे जाने के बाद प्रदर्शनकारी शांत हुए। मंगलवार सुबह पुलिस की मौजूदगी में तीनों मृतकों का अंतिम संस्कार किया गया।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें