loader
फाइल फोटो

राज्यपाल से मिले फडणवीस- 'ठाकरे फ्लोर टेस्ट में बहुमत साबित करें'

महाराष्ट्र में बढ़ते राजनीतिक संकट के बीच पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस ने मंगलवार को राजभवन में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने कोश्यारी को एक पत्र सौंपा है और सरकार को विश्वास मत साबित करने की मांग की है।

राज्यपाल से मुलाक़ात के बाद विपक्ष के नेता फडणवीस ने कहा, 'हमने महाराष्ट्र के राज्यपाल को एक पत्र दिया है जिसमें तत्काल फ्लोर टेस्ट की मांग की गई है।'

ताज़ा ख़बरें

मुलाक़ात के बाद फडणवीस ने संवाददाताओं से कहा, 'हमने राज्यपाल को लिखा है और उनसे कहा है कि शिवसेना के 39 विधायक बार-बार कह रहे हैं कि वे कांग्रेस-एनसीपी के साथ गठबंधन नहीं करना चाहते हैं। इसका मतलब है कि वे सरकार के साथ नहीं हैं।' उन्होंने कहा, 'इसलिए हमने राज्यपाल से कहा है कि उन्हें मुख्यमंत्री से फ्लोर टेस्ट कराने और बहुमत साबित करने के लिए कहना चाहिए।'

बीजेपी के देवेंद्र फडणवीस ने दिल्ली से लौटने पर राज्यपाल से मुलाकात की। उन्होंने पार्टी के सरकार बनाने का दावा करने की अटकलों के बीच दिल्ली में बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात की। जब दिल्ली से लौटे तो देवेंद्र फडणवीस एयरपोर्ट से सीधे गवर्नर हाउस के लिए रवाना हुए थे।

रिपोर्ट के अनुसार फडणवीस के साथ गिरीश महाजन और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल भी थे।

बता दें कि पिछले 1 हफ्ते से शिवसेना के 39 विधायक और दूसरे निर्दलीय विधायक असम के गुवाहाटी में मौजूद हैं। जिन्होंने शिवसेना से बगावत कर दी थी। हालाँकि अभी तक इन बागी विधायकों ने ना तो शिवसेना पार्टी का साथ छोड़ा है और ना ही शिवसेना ने इन्हें पार्टी से निकाला है।

इन्हीं घटनाक्रमों के बीच आज ही महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने बागी विधायकों के नाम एक खुला खत लिखा है। इसमें उन्होंने सभी विधायकों से एक भावनात्मक अपील की है।

उद्धव ठाकरे ने इस चिट्ठी में लिखा है कि आज भी मैं आपका परिवार का मुखिया होने के नाते इंतजार कर रहा हूं। आप मेरे सामने बैठिए, जो समस्या है उसका समाधान निकाला जा सकता है। ठाकरे द्वारा लिखी गई चिट्ठी पर अभी तक बागी विधायकों का कोई बयान सामने नहीं आया है।

महाराष्ट्र से और ख़बरें
इससे पहले कैबिनेट मंत्री आदित्य ठाकरे ने भी पत्रकारों से बातचीत में कहा था कि जो बागी विधायक गुवाहाटी में मौजूद हैं उनमें से 10 से 15 विधायक अभी भी हमारे संपर्क में हैं और उनसे बातचीत चल रही है। ऐसे में मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की इस अपील के बाद से माहौल बदल सकता है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें