loader

अर्णब जेल से बाहर लेकिन महाराष्ट्र पुलिस के साथ जंग जारी

आर्किटेक्ट अन्वय नाइक की आत्महत्या के मामले में रिपब्लिक टीवी के संपादक अर्णब गोस्वामी को सुप्रीम कोर्ट से भले ही जमानत मिल गयी हो लेकिन उनके रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क को राहत मिलती नजर नहीं आ रही है। पुलिस ने अब इस मामले में कंपनी के मुख्य वित्तीय अधिकारी (सीएफओ) एस. सुंदरम को समन जारी किया है। 

पुलिस ने यह समन अर्णब गोस्वामी के बयान को आधार बनाते हुए जारी किया है। उल्लेखनीय है कि अदालत ने इस मामले में रायगढ़ पुलिस की अपराध शाखा की एक टीम को अर्णब गोस्वामी से तलोजा सेंट्रल जेल में तीन घंटे तक पूछताछ करने की अनुमति दी थी। 

क्राइम ब्रांच के एक अफ़सर के मुताबिक़, पूछताछ के दौरान अर्णब ने कहा था कि कंपनी की ओर से भुगतान करना सीएफओ का काम था। अधिकारी ने कहा, "इसलिए, हमने उन्हें समन जारी किया है और आने वाले दिनों में उन्हें हमारे सामने पेश होना चाहिए।" 

ताज़ा ख़बरें

अफ़सर ने कहा कि अभियुक्त के वित्तीय रिकॉर्ड की जांच करने सहित इस मामले में अन्य पहलुओं पर पूछताछ जारी है। मामले में अर्णब गोस्वामी के अलावा सह-अभियुक्त फ़िरोज़ शेख और नितेश शारदा हैं और उन्हें भी सुप्रीम कोर्ट की तरफ से जमानत हासिल हुई है। 

पुलिस के मुताबिक़, दूसरे अभियुक्तों ने कहा है कि उन्होंने नाइक को भुगतान किया था, हालांकि काम की समय सीमा पूरी नहीं हुई थी। पुलिस का कहना है कि आने वाले दिनों में कुछ और लोगों को समन जारी किया जाएगा।

देखिए, इससे जुड़े विषय पर चर्चा- 
अलीबाग पुलिस के अफ़सर एस. वरडे, जिन्होंने शुरू में इस मामले की जांच की थी, ने दावा किया था कि अभियुक्तों पर पैसे बकाया होने के बजाय,  नाइक पर ही फिरोज़ शेख और नितेश शारदा का पैसा बकाया था और इसी बात को आधार बनाकर पुलिस ने पिछले साल इस मामले में अदालत में क्लोजर रिपोर्ट दाखिल कर दी थी। वरडे के ख़िलाफ़ फिलहाल कोंकण पुलिस महानिरीक्षक के द्वारा विभागीय जांच की जा रही है। 
वरडे ने सुसाइड नोट में नामजद तीनों अभियुक्तों पर आरोप लगाने के लिए अपर्याप्त सबूत होने का हवाला देते हुए केस को बंद कर दिया था लेकिन इस साल अक्टूबर में यह मामला फिर से खोला गया और जांच रायगढ़ क्राइम ब्रांच को सौंप दी गई।

बीजेपी अर्णब के संग  

आर्किटेक्ट अन्वय नाइक और उनकी मां ने 2018 में आत्महत्या कर ली थी। इस मामले में अर्णब गोस्वामी की गिरफ्तारी से महाराष्ट्र की राजनीति में भूचाल सा आ गया था। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से लेकर दर्जनों मंत्रियों तथा बीजेपी आईटी सेल से जुड़े नामी-गिरामी चेहरों ने इसे महाराष्ट्र में आपातकाल जैसे हालात तथा पत्रकारिता पर हमला बताया था। 

Fight in arnab goswami and maharashtra govt - Satya Hindi
अर्णब के पक्ष में महाराष्ट्र बीजेपी ने प्रदर्शन किया था।
यही नहीं, सुप्रीम कोर्ट ने जब इस मामले में व्यक्तिगत आज़ादी की बात कहते हुए अर्णब को जमानत देने का फ़ैसला किया तो सोशल मीडिया पर अदालत के फैसले की जमकर आलोचना होने लगी। आलोचनाओं का दौर अभी थमा नहीं है और ऐसे ही एक आलोचनात्मक ट्वीट पर कॉमेडियन कुणाल कामरा के ख़िलाफ़ अवमानना का मुक़दमा चलाये जाने की तैयारी शुरू हो गयी है। 

माफ़ी नहीं मांगूंगा: कामरा

कॉमेडियन कुणाल कामरा ने कहा है कि वह न तो वकील हायर करेंगे और न ही माफ़ी मांगेंगे और न जुर्माना भरेंगे। कामरा के मुताबिक़, उन्होंने जो कहा है वह उससे पीछे नहीं हटेंगे। क़ानून के एक छात्र और दो वकीलों ने इस मामले में कामरा के ख़िलाफ़ अवमानना का केस चलाने के लिए मंजूरी मांगी थी। एटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कामरा पर अवमानना का केस चलाने की मंजूरी दे दी थी। अब तक ऐसे आठ लोगों को मंजूरी दी जा चुकी है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजय राय
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें