loader

मुंबई पहुंचीं कंगना रनौत, एयरपोर्ट पर नारेबाज़ी, शिवसेना ने किया विरोध

ड्रग मामले में आरोपों का सामना कर रहीं कंगना रनौत बुधवार दोपहर को मुंबई एयरपोर्ट पर पहुंच गईं। इस दौरान एयरपोर्ट पर हालात बेहद तनावपूर्ण रहे क्योंकि शिवसेना कार्यकर्ताओं ने बड़ी संख्या में इकट्ठे होकर कंगना के आने का विरोध किया जबकि केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले की पार्टी आरपीआई और करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने कंगना के समर्थन में नारेबाज़ी की। कंगना को कड़ी सुरक्षा के बीच उनके आवास पर ले जाया गया। 
कंगना के मुंबई पहुँचने से पहले बांद्रा के पाली हिल रोड में उनके कार्यालय के बाहर भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है। मुंबई को पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से तुलना करने के बाद से ही कंगना और महाराष्ट्र में सत्ताधारी पार्टी शिवसेना आमने-सामने हैं। इस बीच केंद्र सरकार से वाई श्रेणी की सुरक्षा मिलने के बाद इस विवाद ने काफ़ी हद तक राजनीतिक मोड़ भी ले लिया है।
ताज़ा ख़बरें

बीएमसी ने की तोड़फोड़

बुधवार को बृहन्मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) के अधिकारियों की एक टीम कंगना के ऑफ़िस के बाहर पहुंच गई। बीएमसी ने ऑफ़िस के बाहर बनी एक बालकनी और कुछ जगहों पर तोड़फोड़ की है। कंगना के ऑफ़िस का नाम मणिकर्णिका फ़िल्म्स है। 

बीएमसी के मुताबिक़, कंगना ने ऑफ़िस का डिजाइन बदल दिया। बीएमसी की ओर से उनसे नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया था। बीएमसी का कहना है कि वह अवैध निर्माण के ख़िलाफ़ यह कार्रवाई कर रही है लेकिन यह साफ दिख रहा है कि अब मामला राजनीतिक बन गया है। 

इससे पहले कंगना ने धुआंधार ट्वीट करके महाराष्ट्र सरकार को बुरी तरह घेर लिया। कंगना ने बीएमसी को बाबर और उसके अधिकारियों को उसकी सेना बताया। उन्होंने आगे लिखा पाकिस्तान और हैशटैग दिया- डेथ ऑफ़ डेमोक्रेसी। उन्होंने मुंबई के लिए पीओके वाले बयान को दोहराया।

कंगना के मुंबई पहुँचने पर इस मुद्दे को और गरमाने के आसार इसलिए भी हैं कि बीएमसी ने कहा है कि वह कंगना के आते ही उन्हें एक हफ़्ते के लिए होम क्वॉरंटीन में भेजेगी। हालाँकि कंगना का कहना है कि उन्होंने हिमाचल में कोरोना टेस्ट कराया है और उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई है। 

इस बीच करनी सेना भी इस मामले में कूद गई है। करनी सेना ने अपनी तरफ़ से सहयोग का हाथ बढ़ाते हुए कहा है कि वह मुंबई एयरपोर्ट से कंगना रनौत को एस्कॉर्ट करेगी यानी सुरक्षित उनके घर तक जाने में मदद करेगी।

दरअसल, करनी सेना का यह बयान कंगना रनौत के उस बयान के संदर्भ में है जिसमें उन्होंने कहा था कि उन्हें मुंबई में डर लगता है। इस बीच कंगना ने मुंबई की तुलना 'पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर' से कर दी थी। इस पर शिवसेना नेता संजय राउत ने जवाब दिया कि  जो लोग इस तरह के आरोप लगा रहे हैं उन्होंने मुंबई और हमारी आराध्य मुम्बा देवी का अपमान किया है। शिवसेना प्रवक्ता ने कहा कि शिवसेना महिलाओं के सम्मान के लिए लड़ती रहेगी और यही हमें शिवसेना सुप्रीमो ने सिखाया है। बाद में संजय राउत ने एक निजी टीवी चैनल से बातचीत में कहा था कि क्या कंगना रनौत की हिम्मत है कि वह अहमदाबाद को 'मिनी पाकिस्तान' बोल सकती हैं। 

इस विवाद के बीच ही दो दिन पहले यानी 7 सितंबर को कंगना रनौत ने आरोप लगाया कि मुंबई स्थित उनके कार्यालय मणिकर्णिका फ़िल्म कार्यालय में बीएमसी यानी बृह्नमुंबई महानगरपालिका के अधिकारी ज़बरदस्ती घुस गए और उनके पड़ोसियों को परेशान किया। 

ड्रग्स के आरोप

एक दिन पहले ही कंगना रनौत के ख़िलाफ़ महाराष्ट्र सरकार द्वारा ड्रग्स लेने के आरोपों की जाँच का आदेश देने के बाद अभिनेत्री ने ट्विटर पर इसका जवाब दिया। कंगना ने ट्वीट कर कहा कि वह मुंबई पुलिस की मदद करके बेहद ख़ुश होंगी। उन्होंने मुंबई पुलिस और गृह मंत्री अनिल देशमुख को टैग कर लिखा है कि वे कृपया उनका ड्रग टेस्ट करवाएं, कॉल रिकॉर्ड की जाँच करवाएँ और अगर उन्हें ड्रग बेचने वालों के साथ उनका कोई भी लिंक मिलता है, तो वे अपनी ग़लती को स्वीकार करेंगी और हमेशा के लिए मुंबई छोड़ देंगी। 

कंगना के 'एक्स ब्वॉयफ्रेंड' अध्ययन सुमन ने एक इंटरव्यू के दौरान ड्रग लेने को लेकर कंगना का नाम लिया था। अध्ययन ने दावा किया था कि कंगना ने उससे भी ड्रग्स लेने के लिए कहा था। अध्ययन का यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। 

महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने मंगलवार को कहा है कि सरकार ने मामले में जाँच के आदेश दे दिए हैं। हो सकता है कि कंगना के 9 सितंबर को मुंबई पहुँचने पर पुलिस की एंटी नारकोटिक्स सेल उनसे पूछताछ करे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें