loader

शिंदे-उद्धव गुट में शिवसेना पर कब्जे को लेकर होगी जंग!

शिवसेना में आए सियासी तूफान की वजह से महा विकास आघाडी सरकार को जाना पड़ा। लेकिन अब अगली जंग शिवसेना पर कब्जे को लेकर हो सकती है। बागी विधायकों का खेमा इसके संकेत दे चुका है।

ठाणे से आने वाले एकनाथ शिंदे पुराने शिवसैनिक हैं और वह उन आनंद दिघे के राजनीतिक शिष्य हैं जिनके होते हुए बालासाहेब ठाकरे भी ठाणे में शिवसेना के काम में दखल नहीं देते थे। पार्टी में हुई बगावत के बाद एकनाथ शिंदे ने दिखाया है कि वह कितने ताकतवर हैं। 

55 विधायकों वाली शिवसेना में 39 विधायक एकनाथ शिंदे के साथ हैं। शिंदे ने बार-बार कहा है कि वे सभी लोग बालासाहेब ठाकरे के हिंदुत्व को आगे ले जाने का काम करेंगे और वे शिवसेना में ही रहेंगे। क्योंकि ऐसी चर्चा थी कि वे किसी दूसरे राजनीतिक दल में जा सकते हैं। 

ताज़ा ख़बरें

उनके शिवसेना में ही रहने की सूरत में जबरदस्त जंग होगी क्योंकि शिवसेना के प्रमुख की कुर्सी पर उद्धव ठाकरे बैठे हैं। ऐसे में शिवसेना में किसका हुकुम चलेगा और इस जबरदस्त बगावत के बाद शिवसेना महाराष्ट्र में कैसे खड़ी हो पाएगी और क्या वह मुंबई तक ही सिमट जाएगी, यह एक बड़ा सवाल शिवसेना के सामने खड़ा हो गया है।

सभी प्रमुख नेता मुंबई से 

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, उनके बेटे बाल ठाकरे, शिवसेना के तमाम बड़े नेता जैसे अनिल परब से लेकर सुभाष देसाई, संजय राउत, अनिल देसाई, वरुण सरदेसाई यह सभी मुंबई के हैं।

इसके अलावा शिवसेना के चीफ व्हिप सुनील प्रभु और विधायक दल के नए नेता बनाए गए अजय चौधरी भी मुंबई के ही विधायक हैं।

पार्टी में हुई बगावत के बाद शिवसेना ने कार्रवाई करते हुए एकनाथ शिंदे को विधायक दल के नेता के पद से हटा दिया था और जब यह खबर आई कि बागी विधायक शिवसेना बालासाहेब नाम से अपनी नई पार्टी बनाएंगे तो उद्धव ठाकरे की टीम ने चुनाव आयोग में दस्तक देने की बात कही थी।

Maharashtra political crisis Eknath Shinde Shiv sena fight - Satya Hindi

ऐसे में शिवसेना के सामने मुंबई से बाहर निकल कर अन्य इलाकों में पार्टी कैडर को फिर से खड़ा करना और चुनाव लड़के जीत हासिल करना निश्चित रूप से मुश्किल होगा। ठाणे के साथ ही विदर्भ, उत्तरी महाराष्ट्र और कोंकण में भी शिवसेना को अपने आधार को फिर से खड़ा करना होगा। 

शिवसेना का बॉस कौन?

बगावत करने वाले विधायक निश्चित रूप से अब एकनाथ शिंदे को अपना नेता स्वीकार कर चुके हैं और ऐसे में शिवसेना का बॉस कौन होगा, यह तय करना आसान नहीं होगा। शिवसेना पर कब्जे को लेकर कानूनी जंग अदालतों तक भी पहुंच सकती है। 

महाराष्ट्र से और खबरें

असली शिवसेना किसकी है, यह आने वाले दिनों में पता चलेगा। लेकिन शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और उनके सिपहसालारों के लिए ढाई साल तक सरकार चलाने के बाद अब वक्त चकाचौंध वाली मुंबई से बाहर निकलकर महाराष्ट्र की खाक छानने का है तभी वे शिवसेना को फिर से खड़ा कर पाएंगे। 

हालांकि महाराष्ट्र की सियासत में शिवसेना बहुत मजबूत नहीं है और उसके पास विधानसभा में 55 विधायक ही थे जबकि बीजेपी के पास 106 विधायक हैं और एनसीपी के पास 54 विधायक हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें