loader

शिवसैनिक भड़क गए तो आग लग जाएगी: संजय राउत 

शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत ने शनिवार को कहा है कि अगर शिवसैनिक भड़क गए तो महाराष्ट्र में आग लग जाएगी। राउत ने शुक्रवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा था कि शिवसैनिक अभी सड़कों पर नहीं उतरे हैं लेकिन जरूरत पड़ी तो सड़कों पर जरूर उतरेंगे।

राउत ने कहा कि शिवसेना को बनाने के लिए लाखों लोगों ने खून-पसीना बहाया है और इस पार्टी को कोई हाईजैक नहीं कर सकता और ऐसा करने की सोच भी नहीं सकता। 

उन्होंने कहा कि शिवसेना खून पसीने से बनी पार्टी है। संजय राउत ने कहा कि पैसे के बल पर कोई भी शिवसेना को नहीं खरीद सकता। उन्होंने बागी विधायकों से कहा कि वे महाराष्ट्र में आएं और आगे की बातचीत करें। 

ताज़ा ख़बरें
उन्होंने कहा कि लोगों का गुस्सा जरूर है और अब तक गुस्से का विस्फोट नहीं हुआ है लेकिन हो सकता है। उन्होंने कहा कि शिवसैनिक पूछ रहे हैं कि क्या करना है और अगर लोग भड़क गए तो आग लग जाएगी। शिवसेना सांसद ने कहा कि सभी शिवसैनिकों से कहा गया है कि वे संयम बनाए रखें। राउत ने कहा कि उन्हें भरोसा है कि जब बागी विधायक महाराष्ट्र आएंगे तो शिवसेना के पाले में आ जाएंगे और उद्धव ठाकरे की शिवसेना ही असली शिवसेना है। 

शिंदे की चिट्ठी

उधर, बागी नेता एकनाथ शिंदे की ओर से बागी विधायकों की सुरक्षा हटाए जाने को लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटील और डीजीपी को चिट्ठी लिखकर कहा गया है कि इससे विधायकों के परिवारों को खतरा है। शिंदे ने कहा है कि अगर हमारे परिवार को कुछ भी होता है तो मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, एनसीपी प्रमुख शरद पवार, सांसद संजय राउत और आदित्य ठाकरे उसके लिए जिम्मेदार होंगे। 

महाराष्ट्र से और खबरें

विधायकों के दफ्तरों पर हमला 

शनिवार को शिव सैनिकों ने बागी विधायक तानाजी सावंत के पुणे में स्थित दफ्तर पर हमला किया है। शिवसैनिकों ने नारेबाजी करते हुए दफ्तर में जमकर तोड़फोड़ की है। शिवसैनिकों ने हाथ में भगवा झंडा लिया हुआ था और दफ्तर में घुसकर वहां रखी चीजों को तहस-नहस कर दिया। 

शुक्रवार को भी शिवसेना के बागी विधायक मंगेश कुदालकर के दफ्तर पर शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने तोड़फोड़ की थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें