loader

पालघर: बीजेपी सरपंच, एनसीपी नेता और पुलिस भी क्यों नहीं बचा पाई साधुओं को?

पालघर में दो साधुओं और उनके साथ गाड़ी के एक चालक की लिंचिंग हुई। वहाँ बीजेपी की सदस्य और स्थानीय सरपंच थीं। एनसीपी नेता थे। पुलिसकर्मी थे। भीड़ ने उन्हें दो घंटे से ज़्यादा समय तक पकड़ रखा था। फिर अचानक दो घंटे बाद ऐसा क्या हो गया कि भीड़ ने तीनों को मार डाला? यह पूरी घटना कैसे हुई, क्या उन बीजेपी और विपक्ष के नेताओं को पता है जिसके आधार पर वे एक-दूसरे के ख़िलाफ़ राजनीतिक लड़ाई लड़ रहे हैं? किन कारणों से हुई लिंचिंग और कब क्या हुआ घटनाक्रम?

घटना महाराष्ट्र और दादर नगर हवेली की सीमा पर पालघर क्षेत्र के दहानु तालुका में हुई। हाईवे के पास का गडचिंचले गाँव दूर-दराज़ इलाक़े में है। महाराष्ट्र फ़ॉरेस्ट डिपार्टमेंट के चेकपोस्ट के बाहर जहाँ घटना हुई वहाँ दिन में भी मुश्किल से ही कभी कुछ लोग इकट्ठे होते हैं। लेकिन 16 अप्रैल की रात क़रीब 8 बजे कुछ मिनटों में ही क़रीब 400 लोगों की भीड़ जुट गई। गाड़ी में आए दोनों साधुओं और उस गाड़ी के चालक को पकड़ लिया गया। सवाल है कि इतनी जल्दी एक साथ इतने लोग कैसे इकट्ठे हो गए, क्या पहले से कुछ तैयारी थी?

ताज़ा ख़बरें

ग्रामीणों, सरपंच और दूसरी रिपोर्टों की मानें तो ऐसा ही कुछ था। 16 अप्रैल की लिंचिंग से पहले आसपास के गाँवों में अपहरणकर्ताओं और शरीर के अंग निकालने की वाट्सएप पर अफवाह फैली थी। जबिक ऐसी कोई घटना उस क्षेत्र में हुई नहीं थी। 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार, इसी अफवाह के चलते दहानु तालुका के दूसरे गाँवों की तरह ही पाँच गाँवों- गडचिंचले, दिवशी, दभाडी, तलावी और रुदाणा के लोगों ने अपनी सुरक्षा के लिए योजना बनाई थी। वे रात भर गाँवों में पहरा दे रहे थे और उन्होंने एक-दूसरे को कह रखा था कि जैसे ही किसी ख़तरे का आभास हो वे सीटी और टॉर्च लाइट की रोशनी से इशारा करेंगे। जब 16 अप्रैल को रात क़रीब आठ बजे गडचिंचले में एक गाड़ी दिखी तब पाँच गाँवों के लोग पहले से ही टॉर्च लाइट और लट्ठ लेकर तैयार थे। ग्रामीणों का कहना है कि दिन में भी कभी-कभार ही वहाँ कार दिखती थी और रात में तो बिल्कुल ही नहीं।

उस गाड़ी में 70 वर्षीय महंत कल्पवरुक्ष गिरि, 35 वर्षीय सुशील गिरि महाराज और चालक नरेश येलगडे थे। कहा जाता है कि लॉकडाउन से बचने के लिए वे मुंबई गुजरात हाइवे को छोड़कर गाँवों के रास्ते से जा रहे थे। 

अख़बार की रिपोर्ट के अनुसार महाराष्ट्र फ़ॉरेस्ट डिपार्टमेंट चेकपोस्ट से कुछ दूर रहने वाली गडचिंचले की सरपंच और बीजेपी की नेता चित्रा चौधरी कहती हैं कि उन्होंने कार के जाने की आवाज़ और कुछ लोगों को बोलते हुए सुना। जब उन्होंने देखा तो क़रीब दो दर्जन लोग हथियारों से लैस दिखे। उन्होंने कहा कि क़रीब 8:30 बजे हंगामा होने लगा तो वह मौक़े पर गईं। चित्रा ने 'द इंडियन एक्सप्रेस' से कहा, 'वहाँ हमारे गाँव और आसपास के गाँवों के लोग थे और वे कार के चारों ओर से चीख-चिल्ला रहे थे। उनके साथ कुछ भी बात करना मुश्किल था। जब मैंने उनमें से एक-एक कर लोगों को हटाकर आगे बढ़ने की कोशिश की तो वे लोग मेरे पर चीखने-चिल्लाने लगे। उन्होंने मुझे कहा कि कार में बैठे लोगों को तुम अपने बच्चे की किडनियाँ देना चाहती हो तो दे दो। इनके दिमाग़ में कोई संदेह नहीं था कि ये बाहरी लोग कौन थे। वाट्सएप मैसेज में यह भी लिखा था कि अपहरणकर्ता किसी भी भेष में हो सकते हैं, कलाकार, यहाँ तक ​​कि पुलिसवाले की वर्दी में भी।'

महाराष्ट्र से और ख़बरें

अख़बार के अनुसार, सरपंच कहती हैं कि वह वहाँ क़रीब दो घंटे रहीं, भीड़ पत्थर बरसा रही थी, कार को इधर-इधर हिला रही थी, लेकिन गाड़ी के अंदर बैठे लोगों को तब तक कोई चोट नहीं पहुँची थी। बीजेपी की सदस्य और सरपंच चित्रा कहती हैं, "जैसे ही एनसीपी नेता आए लगा कि भीड़ सक्रिय हो गई और नारे लगाने लगी- 'दादा आला, दादा आला' (बड़े भाई आए)।' वह कहती हैं कि जब पुलिस पहुँची तो वह वहाँ से चली गई थीं। 

'द इंडियन एक्सप्रेस' के अनुसार एनसीपी नेता और पालघर ज़िला परिषद सदस्य काशीनाथ चौधरी ने कहा, 'मैं पुलिसकर्मियों के दूसरे बैच के साथ 10 बजे रात में पहुँचा था। लोगों को शांत कराने की पूरी कोशिश की लेकिन तब तक लोगों ने कार को पलट दिया था। पुलिस ने पूरी कोशिश की। लोग नशे में थे और वे किसी भी बात को सुनने को तैयार नहीं थे। फिर भी हम घायल साधु को चौकी में ले जाने में कामयाब रहे और बाक़ी के दो को पुलिस गाड़ी में बिठाया। लेकिन जब साधु को गाड़ी में बिठाने लगे तो फिर हमला हो गया। कुछ मिनटों में ही सब ख़त्म हो गया।'
चौधरी ने कहा कि उनके वहाँ जाने का मक़सद राजनीतिक नहीं था। उन्होंने यह भी कहा कि सरपंच ने भीड़ को शांत करने की पूरी कोशिश की थी, लेकिन पुलिस पर भी हमला किया गया और हम कुछ कर नहीं सके।'

सरपंच व एनसीपी नेता के अनुसार और जैसा कि वीडियो में दिख रहा है पुलिस के आने के बाद ही लोग ज़्यादा उग्र दिखे और साधुओं पर हमले किए। 

बता दें कि पहले भी ऐसी अफवाहों के कारण 14 अप्रैल के आसपास उस क्षेत्र में ऐसी ही लिंचिंग की दो घटनाएँ होते-होते रही थीं। हालाँकि पुलिस ने अफवाहों पर भी कार्रवाई की थी और 9 अप्रैल को इसने ट्वीट किया था। सांप्रदायिक नफ़रत फैलाने की शिकायत मिलने पर 11 अप्रैल को एक वाट्सएप ग्रुप एडमिन के ख़िलाफ़ केस दर्ज किया गया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें