loader

एनसीबी के गवाह प्रभाकर की हार्ट अटैक से मौत, डीजीपी करेंगे केस की जांच

आर्यन खान ड्रग्स मामले में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो यानी एनसीबी के स्वतंत्र गवाह रहे प्रभाकर सेल की हार्ट अटैक से मौत हो गई है। प्रभाकर की मौत शुक्रवार दोपहर मुंबई के माहुल इलाके में किराए के घर में हुई। प्रभाकर के वकील का कहना है कि परिवार के लोगों ने उसकी मौत के पीछे किसी का हाथ होने या किसी तरह की आशंका से इनकार किया है। प्रभाकर के परिवार में उसकी मां, पत्नी और दो बच्चे हैं।

महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल ने इस मामले में जांच के आदेश दे दिए हैं। उन्होंने कहा है कि महाराष्ट्र के डीजीपी प्रभाकर की मौत मामले की जांच करेंगे। जांच के बाद ही साफ हो पाएगा कि प्रभाकर की मौत किन हालात में हुई है।

प्रभाकर आर्यन खान ड्रग्स मामले में एक और गवाह केपी गोसावी का पर्सनल सिक्योरिटी गार्ड था। केपी गोसावी उर्फ किरण गोसावी आर्यन खान के साथ अपनी सेल्फी को लेकर चर्चा में आया था।

आर्यन खान मामले को लेकर बीते साल कई महीनों तक बॉलीवुड के साथ ही महाराष्ट्र का राजनीतिक माहौल भी गर्म रहा था और आर्यन की गिरफ्तारी के बाद इस मामले ने तूल पकड़ लिया था। 

ताज़ा ख़बरें
प्रभाकर ने कहा था कि उसने आर्यन खान मामले में 18 करोड़ की डील होने की बात सुनी थी और इसमें से 8 करोड़ रुपए एनसीबी के तत्कालीन जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े को दिए जाने थे। लेकिन प्रभाकर बाद में अपने बयान से पलट गया था। सवाल इस बात का है कि प्रभाकर की मौत के बाद क्या आर्यन खान ड्रग्स मामले में किसी तरह का असर पड़ेगा।
Prabhakar Sail dies due to heart attack - Satya Hindi

बता दें कि इस मामले में महाराष्ट्र सरकार के पूर्व मंत्री और एनसीपी नेता नवाब मलिक लगातार एनसीबी के ज़ोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े और बीजेपी पर हमलावर रहे थे। वानखेड़े ने उनके आरोपों को खारिज कर दिया था। 

आर्यन खान ड्रग्स मामले में एनसीबी को 60 दिनों में चार्जशीट फाइल करनी होगी। हालांकि उसने एक विशेष अदालत से इसके लिए 90 दिन मांगे थे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें