loader

राजस्थान के कांग्रेस विधायकों की ख़रीद-फरोख्त के तार मुंबई से जुड़े!

क्या राजस्थान में सत्ता परिवर्तन के खेल के तार मुंबई और महाराष्ट्र से जुड़े हैं? महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस की मानें तो कुछ ऐसा ही हुआ है। और ऐसा पहली बार नहीं हो रहा। कर्नाटक में भी जेडीएस, कांग्रेस गठबंधन की सरकार गिराने की प्लानिंग मुंबई में ही की गयी थी। उस समय प्रदेश में बीजेपी की सरकार थी लिहाजा ख़बर बाहर नहीं निकल सकी। तब इस सारे ऑपरेशन को कड़ी सुरक्षा के दायरे में अंजाम दिया गया था। 

महाराष्ट्र कांग्रेस का कहना है कि राजस्थान में विधायकों की ख़रीद-फरोख्त के लिए चंदा मुंबई से इकट्ठा किया गया है। महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता सचिन सावंत का दावा है कि महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख को भी इस बारे में विभाग के सूत्रों से कुछ जानकारी मिली है। गृहमंत्री ने आश्वासन दिया है कि वे इस मामले में ध्यान देंगे। 

सावंत ने कहा कि महाराष्ट्र के बीजेपी नेताओं ने करीब पांच सौ करोड़ की रकम बिल्डर्स और व्यवसायियों से इकट्ठा की है। यह पैसा इकट्ठा करने के लिए केंद्र सरकार के अधीन आने वाली इनकम टैक्स और ईडी जैसी संस्थाओं के दबाव का प्रयोग किया गया है।

सावंत ने कहा कि कर्नाटक में भी कांग्रेस गठबंधन की सरकार गिराने तथा विधायकों की ख़रीद-फरोख्त के लिए रकम मुंबई और महाराष्ट्र से ही इकट्ठा की गयी थी। कांग्रेस के बागी विधायक मुंबई में एक होटल में ठहरे थे और उस होटल के अंदर तथा बाहर पुलिस की सुरक्षा लगाई गयी थी।

सचिन सावंत का कहना है कि राजस्थान में एसओजी को जो टेप मिले हैं उससे यह सत्य सामने आ रहा है कि किस तरह से विधायकों की ख़रीद-फरोख्त की जा रही है। उन्होंने कहा कि मुंबई और महाराष्ट्र में इस प्रकार की गतिविधियों में लिप्त रहने वाले लोगों का पता लगाने की ज़रूरत है ताकि ऐसी कारगुजारियों पर लगाम लगाई जा सके।

सचिन सावंत के इन आरोपों में दम हो सकता है। कर्नाटक में जेडीएस और कांग्रेस की गठबंधन सरकार को गिराने के समय बाग़ी विधायकों का मुंबई के एक होटल में ठहरना और वहां के कांग्रेस के कद्दावर नेता तथा वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष डी. के. शिवकुमार का उनसे मिलने के लिए होटल में पहुंचने के दौरान हुआ ड्रामा सभी ने देखा था। 

राजस्थान के सियासी घमासान पर देखिए, वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष का वीडियो - 

शिवकुमार को रोका था पुलिस ने

डी. के. शिवकुमार जेडीएस विधायक शिवालिंगे गौड़ा के साथ बाग़ी विधायकों से मिलने मुंबई के एक पांच सितारा रेनिसन्‍स होटल में पहुंच गए थे। लेकिन जब वह होटल में ठहरे हुए विधायकों से मिलने गए तो होटल के गेट पर पुलिस ने उनको रोक दिया था। 
महाराष्ट्र से और ख़बरें

पुलिस ने उन्हें विधायकों से यह कहकर मिलने नहीं दिया था कि होटल में ठहरे हुए विधायकों ने शिवकुमार के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज कराई है। यह शिकायत शिवकुमार से उनकी जान को खतरे की थी। बीजेपी के कार्यकर्ताओं ने होटल के बाहर शिवकुमार 'वापस जाओ-वापस जाओ' के नारे भी लगाए थे। जबकि शिवकुमार ने कहा था कि उन्होंने होटल में एक कमरा बुक किया है और उन्हें उसमें जाना है। 

दरअसल, आज जो हरियाणा के मानेसर स्थित रिजॉर्ट में हो रहा है, वह डी. के. शिवकुमार वाले एपिसोड की याद को ताजा कर देता है। इस रिजॉर्ट में कांग्रेस का कोई नेता नहीं गया बल्कि पुलिस गयी थी और उसे भी रोक दिया गया। हालांकि बाद में तनातनी के बाद राजस्थान पुलिस को जाने दिया गया। 

पुलिस का बेजा इस्तेमाल

इस तरह की घटनाएं बहुत से सवाल खड़े करती हैं। यानी जिस प्रदेश में जिस पार्टी की सत्ता है, वह अपने हिसाब से पुलिस का इस्तेमाल करे? रिजॉर्ट में पायलट ग्रुप के विधायकों के रहने की बात जब कांग्रेस की तरफ़ से की गयी तो हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा था कि ये रिजॉर्ट और होटल्स हरियाणा में बने हैं और कोई भी पर्यटक उनमें आकर रुक सकता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजय राय
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें