loader

रिया चक्रवर्ती की जमानत याचिका खारिज, बॉम्बे हाई कोर्ट जाएंगी

फ़िल्म अभिनेत्री रिया च्रक्रवर्ती की जमानत याचिका शुक्रवार को खारिज हो गई है। मुंबई की एक सत्र अदालत ने रिया और उनके भाई शौविक चक्रवर्ती की जमानत अर्जी पर गुरूवार को फ़ैसला सुरक्षित रख लिया था। इस कारण रिया को गुरूवार रात को भी जेल में ही रहना पड़ा। फ़िल्म अभिनेत्री को मुंबई की भायकुला जेल में रखा गया है। रिया, शौविक के अलावा दीपेश सावंत, सैमुअल मिरांडा की भी जमानत याचिका को खारिज कर दिया गया है। अब ये सभी लोग इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ बॉम्बे हाई कोर्ट जा रहे हैं। 

इससे पहले तीन दिन तक पूछताछ के बाद नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने 8 सितंबर को रिया चक्रवर्ती को गिरफ़्तार कर लिया था। रिया पर ड्रग्स की ख़रीद का आरोप है। गिरफ़्तार होने के कुछ ही घंटों बाद मुंबई की एक अदालत ने रिया को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया था। इसके बाद रिया के वकील की ओर से उनकी जमानत की अर्जी लगाई गई थी लेकिन अदालत ने इसे खारिज कर दिया था। 

ताज़ा ख़बरें
रिया के वकील द्वारा उनकी और उनके भाई शौविक चक्रवर्ती की जमानत के लिए सत्र अदालत में अर्जी लगाई गई थी, जिस पर गुरुवार को सुनवाई हुई। अर्जी में रिया के वकील की ओर से कहा गया था कि अभिनेत्री निर्दोष हैं और एनसीबी ने उसे इस केस में झूठ के आधार पर फंसा दिया। रिया की ओर से यह भी कहा गया कि गिरफ़्तारी वाले दिन उसे ख़ुद के ख़िलाफ़ ग़लत बात स्वीकारने के लिए मजबूर किया गया। 

रिया की गिरफ़्तारी के बाद उनके वकील सतीश मानशिंदे ने बेहद कड़ी प्रतिक्रिया दी थी। सुशांत सिंह राजपूत को ड्रग का आदी बताते हुए उन्होंने कहा था, ‘तीन केंद्रीय एजेंसियां उस महिला के पीछे बुरी तरह पड़ी हुई हैं, जो एक ड्रग एडिक्ट से प्यार करती थी।’

रिया के गिरफ़्तार होने के बाद सुशांत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति ने ट्विटर पर इसका स्वागत किया था। श्वेता ने ट्विटर पर लिखा था- ईश्वर हमारे साथ है। रिया को नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रॉपिक सबस्टांसेस (एनडीपीएस) एक्ट 1985 की 27 (a), 20 (b), 8 (c) सहित कई अन्य धाराओं के तहत गिरफ़्तार किया गया है। 

फ़िल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में ड्रग्स का एंगल सामने आने के बाद एनसीबी इस मामले में कई लोगों से पूछताछ कर रही है। एनसीबी ने रिया के भाई शौविक च्रकवर्ती और सुशांत के हाउस मैनेजर सैमुअल मिरांडा को भी 4 सितंबर को गिरफ़्तार कर लिया था। इससे पहले एनसीबी ने शौविक और सैमुअल के घरों पर छापेमारी की थी और दोनों को पूछताछ के लिए ले गई थी। 

शौविक का एक वॉट्सऐप चैट भी मीडिया में आया था, जिसमें वह ड्रग खरीदने की बात कर रहा है और वह ड्रग माफिया ज़ैद विलातरा का भी नाम लेता है। विलातरा को एनसीबी पहले ही गिरफ़्तार कर चुकी है। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

एनसीबी ने सुशांत सिंह की मौत के मामले में तब जांच शुरू की थी जब प्रवर्तन निदेशालय ने रिया चक्रवर्ती का फ़ोन जब्त किया था और इसमें से उनकी कुछ वाट्सऐप चैट श्रुति मोदी, जया साहा, सैमुअल मिरांडा और गौरव आर्या से होने की बात सामने आई थी। इन सभी बातचीत में ड्रग्स का भी जिक्र हुआ था। इसके बाद एनसीबी ने रिया और शौविक के ख़िलाफ़ केस दर्ज किया था। 

शौविक की गिरफ़्तारी के बाद उसके पिता रिटायर्ड लेफ़्टिनेंट कर्नल इंद्रजीत चक्रवर्ती ने तंज कसते हुए कहा था, 'बधाई भारत!, आपने मेरे बेटे को गिरफ़्तार कर लिया।' उन्होंने आगे कहा था कि निश्चित रूप से अगली बारी उनकी बेटी की है और इसके बाद क्या होगा, उन्हें नहीं पता। रिटायर्ड कर्नल चक्रवर्ती ने कहा था कि एक मध्यवर्गीय परिवार को बर्बाद कर दिया गया। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें