loader
फ़ोटो साभार: शिरडी साई बाबा मंदिर ट्रस्ट

कोरोना: शिरडी साई बाबा के दर्शन का समय बदला

महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण शिरडी के साई बाबा मंदिर में दर्शन का समय बदल दिया गया है। साई बाबा मंदिर प्रशासन ने आम भक्तों के लिए दर्शन का समय अब सुबह 6 बजे से रात के 9 बजे तक कर दिया है। रात की आरती में आम भक्तों को जाने की इजाजत नहीं होगी। श्री साईबाबा संस्थान के मुख्य कार्यकारी अधिकारी कान्हूराज बगाटे ने यह जानकारी दी है। 

दो हफ़्ते पहले ही श्री साईबाबा संस्थान ट्रस्ट की आधिकारिक वेबसाइट पर रोज़ के अनुष्ठानों की घोषणा की गई थी। इसके अनुसार मंदिर खुलने का समय सुबह 4 बजे बताया गया। इसके बाद एक के बाद एक अनुष्ठानों की सूची दी गई। इसी में बताया गया कि समाधि मंदिर में दर्शन का समय सुबह 5 बजकर 40 मिनट है। रात में साढ़े दस बजे शेज आरती का समय दिया गया। 

ताज़ा ख़बरें
लेकिन कोरोना संक्रमण के मामले फिर से महाराष्ट्र में इतने बढ़ गए कि अब मंदिर के दर्शन के समय में बदलाव किया गया है। एक दिन पहले ही स्वास्थ्य मंत्रालय ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया है कि वैसे तो देश में कोरोना के सक्रिए मामले क़रीब 1 लाख 50 हजार हैं लेकिन केरल, महाराष्ट्र सहित कुछ राज्यों में संक्रमण इतना ज़्यादा बढ़ रहा है कि चिंता का विषय है। अकेले केरल में ही देश के 38 प्रतिशत कोरोना के सक्रिय मामले हैं जबकि महाराष्ट्र में 37 प्रतिशत हैं। इस स्थिति को देखते हुए ही प्रधानमंत्री ने आपात बैठक बुलाई है। 

महाराष्ट्र में लॉकडाउन की चेतावनी!

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सोमवार से राज्य में भीड़-भाड़ वाले सारे राजनीतिक और धार्मिक कार्यक्रमों पर पाबंदी लगाने की घोषणा पहले ही कर दी है। उन्होंने कहा कि हालात नहीं संभले तो राज्य में फिर लॉकडाउन लगाया जा सकता है। 

महाराष्ट्र के अमरावती और अचलपुर में सोमवार से ही संपूर्ण लॉकडाउन है। लॉकडाउन रात 8 बजे से 1 मार्च सुबह 8 बजे तक लागू रहेगा। अकोला, अकोट और मुर्तिजापुर में भी ऐसे ही फ़ैसले लिए गए हैं। पुणे और नासिक में रात में पाबंदियाँ लगाई गई हैं।

पुणे में 28 फ़रवरी तक सभी स्कूल और कॉलेज बंद करने का एलान भी किया गया है। नासिक में सार्वजनिक जगह पर बिना मास्क पहने पाए जाने पर हजार रुपए का जुर्माना देना होगा।

वैसे, कई राज्यों में केस बढ़ने के साथ ही नये क़िस्म के कोरोना के मामले भी आ चुके हैं। केरल में संक्रमण कम नहीं हो रहा है। कर्नाटक ने केरल से प्रवेश करने वाले 13 मार्गों को बंद कर दिया है। महाराष्ट्र से कर्नाटक में जाने वाले लोगों को कोरोना रिपोर्ट दिखाने के बाद ही प्रवेश करने दिया जा रहा है। संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच केंद्र सरकार ने पाँच राज्यों को पत्र लिखा है। उससे भी बड़ा डर यह है कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने आशंका जताई है कि कोरोना की दूसरी लहर दस्तक दे सकती है। 

shirdi sai baba darshan time changed due to coronavirus increase - Satya Hindi

अब कर्नाटक सरकार ने एक दिन पहले ही जिस तरह के फ़ैसले लिए हैं उससे भी लगता है कि कर्नाटक में भी स्थिति अब उतनी बेहतर नहीं रही। राज्य में संक्रमण के मामले बढ़ने के बाद कर्नाटक ने महाराष्ट्र से आने वाले प्रवासियों और वाहनचालकों के लिए पाबंदी लगाई है। सीमाओं पर चौकसी बढ़ाने के बाद कोल्हापुर बॉर्डर और नांदेड़ बॉर्डर पर गाड़ियों की लंबी कतार लग गई। वाहनचालकों को कोरोना रिपोर्ट देखकर छोड़ा जा रहा है। 72 घंटे तक की कोरोना रिपोर्ट जिनके पास नहीं हैं उन्हें एंट्री नहीं दी जा रही है।

केरल से 13 प्रवेश द्वार बंद

कर्नाटक ने केरल से आने वाले 13 प्रवेश द्वारों को बंद कर दिया है। दोनों राज्यों की सीमाई क्षेत्रों में लोग बेरोक-टोक आते जाते रहे हैं, लेकिन अब कोरोना संक्रमण के फैलने के ख़तरे के बाद लिए गए इस फ़ैसले से उनकी मुश्किलें बढ़ गई हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें