loader

तेजस्वी के सीएम बनने पर नहीं होगी हैरानी: शिवसेना

महाराष्ट्र में बीजेपी के हमले और जांच एजेंसियों की कार्रवाइयों को झेल रही शिव सेना बिहार में खुलकर राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के समर्थन में आगे आई है। शिव सेना ने यह तय कर लिया है कि अब वह महाराष्ट्र से बाहर निकलकर बीजेपी का मुक़ाबला करेगी और इसीलिए वह बिहार और मध्य प्रदेश के चुनाव में ताल ठोक रही है। 

बिहार की चुनावी जंग में आरजेडी का समर्थन करते हुए शिव सेना सांसद संजय राउत ने कहा है कि उन्हें इस बात पर कोई हैरानी नहीं होगी अगर तेजस्वी यादव राज्य के मुख्यमंत्री बनते हैं। बिहार में चल रहे चुनावी घमासान में शिव सेना 50 सीटों पर चुनाव लड़ रही है और वह बीजेपी को अधिकतम नुक़सान पहुंचाने की रणनीति पर काम कर रही है।

ताज़ा ख़बरें

राउत ने एएनआई से कहा, ‘बिना किसी सपोर्ट के एक नौजवान, जिसके परिवार के लोग जेल में हैं और सीबीआई और आईटी विभाग उसके पीछे लगे हुए हैं, वह बिहार में सबको चुनौती दे रहा है।’ राउत ने कहा, ‘हर कोई जानता है कि बिहार में चुनाव के दौरान क्या हो रहा है। लेकिन फिर भी लोग भरोसा करते हैं कि चुनाव निष्पक्ष होंगे।’ 

चुनाव आयोग पर हमला 

चुनाव आयोग के द्वारा यह कहे जाने पर कि बीजेपी का चुनाव जीतने पर बिहार में लोगों को फ्री वैक्सीन देने का वादा आचार संहिता का उल्लंघन नहीं है, की बात पर राउत ने हमला तेज़ कर दिया। राउत ने चुनाव आयोग पर हमला बोला और कहा कि भारत का चुनाव आयोग बीजेपी की ब्रांच बन चुका है और आप इसके अलावा उससे कुछ अपेक्षा कर भी नहीं सकते। 

नेताओं को तोड़ने में जुटे

शिव सेना और एनसीपी इन दिनों बीजेपी के बड़े नेताओं को तोड़ने में जुटे हैं। कुछ दिन पहले ही महाराष्ट्र बीजेपी के बड़े नेता एकनाथ खडसे एनसीपी में शामिल हो गए थे और अब पंकजा मुंडे के शिव सेना में शामिल होने की ख़बरें हैं। क्या पंकजा शिव सेना में शामिल हो रही हैं, इस सवाल के जवाब में राउत ने एएनआई से कहा, ‘मुझे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। अगर कोई उन्हें पार्टी में शामिल होने के लिए कह सकता है तो वह मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे हैं।’ पंकजा के एनसीपी में शामिल होने की भी चर्चा है हालांकि बीजेपी उन्हें रोकने की पूरी कोशिश कर रही है और हाल ही में उन्हें पार्टी का राष्ट्रीय सचिव बनाया गया है। 

उर्मिला आएंगी शिव सेना में 

इसके अलावा सिने अदाकारा उर्मिला मातोंडकर का शिव सेना में आना तय हो गया है। शिव सेना ने उर्मिला को महाराष्ट्र की विधान परिषद में भेजने का फ़ैसला कर लिया है। उर्मिला को पार्टी का प्रवक्ता बनाए जाने की भी चर्चा है। पिछले लोकसभा चुनाव से ठीक पहले उर्मिला मातोंडकर कांग्रेस में शामिल हुई थीं लेकिन कुछ समय बाद उन्होंने पार्टी छोड़ दी थी। 

उर्मिला से पहले कांग्रेस में प्रवक्ता रहीं प्रियंका चतुर्वेदी शिव सेना में शामिल हुई थीं और पार्टी ने उन्हें प्रवक्ता और राज्यसभा का सदस्य बनाया था। 

Tejashwi Yadav may CM of Bihar Shivsena said  - Satya Hindi
उर्मिला पिछले साल कांग्रेस में शामिल हुई थीं।

मुंगेर की घटना पर तंज 

मुंगेर में हुई घटना को लेकर भी शिव सेना ने बीजेपी पर जोरदार हमला बोला था। शिव सेना ने कहा था कि यह घटना हिंदुत्व पर हमला है। संजय राउत ने कहा था कि अगर ऐसी घटना महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल या राजस्थान में होती तो राज्यपाल और बीजेपी नेता राष्ट्रपति शासन की मांग कर देते। उन्होंने सवाल उठाया था कि बिहार के राज्यपाल और बीजेपी नेता इस घटना को लेकर सवाल क्यों नहीं उठा रहे हैं। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

मुंगेर की घटना को लेकर बीजेपी बुरी तरह घिरी हुई है और उससे सवाल पूछा जा रहा है कि क्या बिहार में गठबंधन में होने के कारण वह नीतीश सरकार के ख़िलाफ़ चुप्पी साधे हुई है। 

दोस्ती से दुश्मनी तक का सफर 

हिंदुत्व की राजनीति करने का दम भरने वाले दल- बीजेपी और शिव सेना, लंबे वक्त तक साथ रहे। दोनों की एक ही जैसी राजनीतिक बोली थी और महाराष्ट्र में अटूट गठबंधन था। लेकिन शिव सेना इसे भांप गयी थी कि 2014 में मोदी सरकार बनने के बाद से ही बीजेपी महाराष्ट्र में उसके सियासी वजूद को ख़त्म कर देना चाहती है। इसलिए, फडणवीस सरकार में साथ रहने और मोदी सरकार में भागीदारी के बाद भी वह बीजेपी पर तीख़े हमले करती रही। 

अंत में, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद के लिए चले लंबे संघर्ष के बाद 2019 में यह गठबंधन टूट गया और शिव सेना हिंदुत्व की राजनीति से निकलकर सेक्युलर राजनीति करने वाले दलों से बात करने पहुंची। शिव सेना ने अपनी धुर विरोधी कांग्रेस और एनसीपी के साथ मिलकर महाराष्ट्र में सरकार बनाई और तीनों दलों का संकल्प है कि उनकी सरकार 5 साल का कार्यकाल पूरा करेगी। कभी दोस्त रहे ये दोनों दल आज सियासी दुश्मन बन चुके हैं। 

शिव सेना का तेजस्वी के पक्ष में बयान देना यह दिखाता है कि वह विपक्षी दलों की एकता को मजबूत करना चाहती है। वैसे भी महाराष्ट्र में उसकी सहयोगी कांग्रेस बिहार में आरजेडी के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही है। बीजेपी के हमलों का जवाब देने के लिए शिव सेना की कोशिश विपक्षी दलों के गठबंधन को मजबूत बनाने की है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें